चीन के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर एलएसी पर मंडरा रहे, भारत ने निगरानी के लिए एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तैनात कियाDainik Bhaskar


चीन की हरकतों के कारण सीमा विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। अब लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर उसके लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर मंडरा रहे हैं। चीन की यह गतिविधियांएलएसी के 10 किलोमीटर एरिया में जारी हैं। ऐसे में भारत ने भी अब पीपुल्स लिबरेशन आर्मी(पीएलए) को उसी की भाषा मेंजवाब देने की तैयारी कर ली है।

सैन्यसूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया किएलएसी पर चीन के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर पर नजररखने के लिए सेना ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ एडवांस एयर डिफेंस मिसाइलसिस्टमतैनात कर दिया है। इससे भारतीय सेना आसानी से चीन की हरकतों पर नजर रख सकती है। ऐसे में अगर चीन का कोई विमान एलएसी क्रॉस करेगा तो उसे एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तुरंत मार गिराएगा।

तनाव वाले इलाकों में उड़ रहे चीनी विमान
केंद्र सरकार ने पिछले दिनों यह माना कि मई से ही चीन लगातार लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश में जुटा हुआ है। 15 जून की रात गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन ने एलएसी पर सेना बढ़ाई है। यही नहीं कई तरह कीमिसाइल, हथियार, तोप की तैनाती भी बढ़ा दी है।

चीन की एयरफोर्स ने एलएसी के पास सुखोई-30 जैसे फाइटर प्लेन तैनात किए। सूत्रों ने बताया कि चीन के हेलिकॉप्टर्स एलएसी के बेहद करीब उड़ान भर रहे हैं। इनमें दौलत बेग ओल्डी सेक्टर, गलवान घाटी, पेट्रोलिंग पॉइंट 14, 15, 17 और 17 ए के अलावा पैंगोंग त्सो फिंगर 3 इलाके के नजदीक चीनी विमान देखे गए।

भारत को रूस से हाईटेक एयर डिफेंस सिस्टममिलेगा
भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ मिसाइलें भी भेजी हैं जो किसी भी तेज रफ्तार एयरक्राफ्ट या ड्रोन को पलक झपकते ही मार गिराने में सक्षम है। पहाड़ी इलाकों में इस्तेमाल के लिएआकाश मिसालों को अपग्रेड किया गया था। इसके अलावा भारत को जल्‍द ही रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम मिलने वाला है। यह लंबी दूरी तक हवाई निगरानी करने के साथ ही दुश्मन की मिसाइलों को गिरा सकता है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


चीन के विमान अगर एलएसी क्रॉस करेंगे तो एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम उन्हें तुरंत मार गिराएगा।(फाइल)

चीन की हरकतों के कारण सीमा विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। अब लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर उसके लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर मंडरा रहे हैं। चीन की यह गतिविधियांएलएसी के 10 किलोमीटर एरिया में जारी हैं। ऐसे में भारत ने भी अब पीपुल्स लिबरेशन आर्मी(पीएलए) को उसी की भाषा मेंजवाब देने की तैयारी कर ली है।सैन्यसूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया किएलएसी पर चीन के लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर पर नजररखने के लिए सेना ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ एडवांस एयर डिफेंस मिसाइलसिस्टमतैनात कर दिया है। इससे भारतीय सेना आसानी से चीन की हरकतों पर नजर रख सकती है। ऐसे में अगर चीन का कोई विमान एलएसी क्रॉस करेगा तो उसे एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तुरंत मार गिराएगा।तनाव वाले इलाकों में उड़ रहे चीनी विमानकेंद्र सरकार ने पिछले दिनों यह माना कि मई से ही चीन लगातार लद्दाख में घुसपैठ की कोशिश में जुटा हुआ है। 15 जून की रात गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन ने एलएसी पर सेना बढ़ाई है। यही नहीं कई तरह कीमिसाइल, हथियार, तोप की तैनाती भी बढ़ा दी है।चीन की एयरफोर्स ने एलएसी के पास सुखोई-30 जैसे फाइटर प्लेन तैनात किए। सूत्रों ने बताया कि चीन के हेलिकॉप्टर्स एलएसी के बेहद करीब उड़ान भर रहे हैं। इनमें दौलत बेग ओल्डी सेक्टर, गलवान घाटी, पेट्रोलिंग पॉइंट 14, 15, 17 और 17 ए के अलावा पैंगोंग त्सो फिंगर 3 इलाके के नजदीक चीनी विमान देखे गए।भारत को रूस से हाईटेक एयर डिफेंस सिस्टममिलेगाभारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में ‘आकाश’ मिसाइलें भी भेजी हैं जो किसी भी तेज रफ्तार एयरक्राफ्ट या ड्रोन को पलक झपकते ही मार गिराने में सक्षम है। पहाड़ी इलाकों में इस्तेमाल के लिएआकाश मिसालों को अपग्रेड किया गया था। इसके अलावा भारत को जल्‍द ही रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम मिलने वाला है। यह लंबी दूरी तक हवाई निगरानी करने के साथ ही दुश्मन की मिसाइलों को गिरा सकता है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

चीन के विमान अगर एलएसी क्रॉस करेंगे तो एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम उन्हें तुरंत मार गिराएगा।(फाइल)Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *