सऊदी अरब को मनाने इमरजेंसी विजिट पर रियाद जाएंगे पाक के आर्मी चीफ; सऊदी ने पेट्रोल-डीजल सप्लाई रोकीDainik Bhaskar


पाकिस्तान और सऊदी अरब के रिश्ते टूट की कगार पर हैं। इसकी वजह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की बयानबाजी मानी जा रही है। सऊदी सरकार इमरान से इतनी खफा है कि बुधवार को उसने ऑयल सप्लाई रोक दी। सऊदी ने साफ कहा- पाकिस्तान को अब कर्ज और ऑयल की सप्लाई नहीं होगी।

पाकिस्तान को सऊदी की तरफ से इतने सख्त कदम की भनक भी नहीं थी। अब बात बिगड़ चुकी है तो आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा इमरजेंसी विजिट पर सऊदी अरब जा रहे हैं। यह दौरा एक या दो दिन में होगा।

दबाव की रणनीति नहीं चलेगी
पाकिस्तान के अखबार ‘द डॉन’ के मुताबिक- आर्मी के दो आला अफसरों ने माना है कि बाजवा बहुत जल्द सऊदी अरब जाएंगे। हम ये मानते हैं कि कश्मीर पर सऊदी की रूख हमारे मनमुताबिक नहीं हो सकता। लिहाजा, हमें दबाव की रणनीति से बचना होगा। इस बात में कोई दो राय नहीं कि सऊदी हमारी तरफ से हुई बयानबाजी से नाराज है। पाकिस्तानी सेना के मीडिया विंग के चीफ मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने कहा- हां, बाजवा रियाद जा रहे हैं।

ऐसे फंस गया पाकिस्तान
पिछले साल जून में पाकिस्तान दिवालिया होने की कगार पर था। आईएमएफ और एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) लोन देने तो तैयार हो गए, लेकिन शर्तें बेहद सख्त थीं। इमरान ने सऊदी से मदद की गुहार लगाई। सऊदी ने 6.2 अरब डॉलर का लोन मंजूर किया। इसमें से 3 अरब डॉलर साधारण कर्ज था। इसके अलावा 3.2 अरब डॉलर पेट्रोल-डीजल क्रेडिट थी। पाकिस्तान को यह कर्ज एक साल में चुकाना था। अब तक वो सिर्फ वो एक किश्त (1 अरब डॉलर) चुका सका है। इसके लिए भी उसने चीन से कर्ज लिया।

बिना किश्त चुकाए, बात बननी मुश्किल
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महामारी के दौर में ऑयल सप्लाई की डिमांड कम हुई। इससे सऊदी अरब की कमाई पर भी गंभीर असर पड़ा। पिछले महीने दुनिया की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी सऊदी अरामको के मुनाफे में 72% की कमी आई। अब सऊदी पाकिस्तान पर कर्ज चुकाने का दबाव बना रहा है। दूसरी तरफ, इमरान सरकार का खजाना खाली है। ऐसे में बाजवा को सऊदी दौरे से कुछ खास हासिल होना मुश्किल है। हो सकता है कुछ महीने या हफ्तों की मोहलत मिल जाए।

पाकिस्तान से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं…
1. सऊदी अरब की पाकिस्तान को दो टूक- अब न कर्ज देंगे और न पेट्रोल-डीजल; 6 अरब डॉलर के लोन की सिर्फ एक किश्त चुका पाई इमरान सरकार
2. पाकिस्तान ने चीनी कंपनियों को सोना, यूरेनियम के खनन के लिए पट्‌टे जारी किए, अंतरराष्ट्रीय नियमों और खुद के संविधान तक की धज्जियां उड़ाई

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने मंगलवार को सऊदी एम्बेसेडर से भी मुलाकात की थी। लेकिन, इसका कोई असर नहीं हुआ। क्योंकि, अगले ही दिन यानी बुधवार को सऊदी ने पाकिस्तान को लोन और ऑयल देने से इनकार कर दिया था। (फाइल)

पाकिस्तान और सऊदी अरब के रिश्ते टूट की कगार पर हैं। इसकी वजह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की बयानबाजी मानी जा रही है। सऊदी सरकार इमरान से इतनी खफा है कि बुधवार को उसने ऑयल सप्लाई रोक दी। सऊदी ने साफ कहा- पाकिस्तान को अब कर्ज और ऑयल की सप्लाई नहीं होगी। पाकिस्तान को सऊदी की तरफ से इतने सख्त कदम की भनक भी नहीं थी। अब बात बिगड़ चुकी है तो आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा इमरजेंसी विजिट पर सऊदी अरब जा रहे हैं। यह दौरा एक या दो दिन में होगा। दबाव की रणनीति नहीं चलेगी पाकिस्तान के अखबार ‘द डॉन’ के मुताबिक- आर्मी के दो आला अफसरों ने माना है कि बाजवा बहुत जल्द सऊदी अरब जाएंगे। हम ये मानते हैं कि कश्मीर पर सऊदी की रूख हमारे मनमुताबिक नहीं हो सकता। लिहाजा, हमें दबाव की रणनीति से बचना होगा। इस बात में कोई दो राय नहीं कि सऊदी हमारी तरफ से हुई बयानबाजी से नाराज है। पाकिस्तानी सेना के मीडिया विंग के चीफ मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने कहा- हां, बाजवा रियाद जा रहे हैं। ऐसे फंस गया पाकिस्तान पिछले साल जून में पाकिस्तान दिवालिया होने की कगार पर था। आईएमएफ और एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) लोन देने तो तैयार हो गए, लेकिन शर्तें बेहद सख्त थीं। इमरान ने सऊदी से मदद की गुहार लगाई। सऊदी ने 6.2 अरब डॉलर का लोन मंजूर किया। इसमें से 3 अरब डॉलर साधारण कर्ज था। इसके अलावा 3.2 अरब डॉलर पेट्रोल-डीजल क्रेडिट थी। पाकिस्तान को यह कर्ज एक साल में चुकाना था। अब तक वो सिर्फ वो एक किश्त (1 अरब डॉलर) चुका सका है। इसके लिए भी उसने चीन से कर्ज लिया। बिना किश्त चुकाए, बात बननी मुश्किल मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महामारी के दौर में ऑयल सप्लाई की डिमांड कम हुई। इससे सऊदी अरब की कमाई पर भी गंभीर असर पड़ा। पिछले महीने दुनिया की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी सऊदी अरामको के मुनाफे में 72% की कमी आई। अब सऊदी पाकिस्तान पर कर्ज चुकाने का दबाव बना रहा है। दूसरी तरफ, इमरान सरकार का खजाना खाली है। ऐसे में बाजवा को सऊदी दौरे से कुछ खास हासिल होना मुश्किल है। हो सकता है कुछ महीने या हफ्तों की मोहलत मिल जाए। पाकिस्तान से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं…1. सऊदी अरब की पाकिस्तान को दो टूक- अब न कर्ज देंगे और न पेट्रोल-डीजल; 6 अरब डॉलर के लोन की सिर्फ एक किश्त चुका पाई इमरान सरकार2. पाकिस्तान ने चीनी कंपनियों को सोना, यूरेनियम के खनन के लिए पट्‌टे जारी किए, अंतरराष्ट्रीय नियमों और खुद के संविधान तक की धज्जियां उड़ाई आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने मंगलवार को सऊदी एम्बेसेडर से भी मुलाकात की थी। लेकिन, इसका कोई असर नहीं हुआ। क्योंकि, अगले ही दिन यानी बुधवार को सऊदी ने पाकिस्तान को लोन और ऑयल देने से इनकार कर दिया था। (फाइल)Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *