कश्मीर में आतंकियों के मंसूबों को नाकाम करने वाले हवलदार आलोक समेत 3 जवानों को शौर्य चक्र, 5 जवानों को बार टु सेना मेडलDainik Bhaskar


गृह मंत्रालय ने स्वतंत्रता दिवस पर दिए जाने वाले गैलेंटरी अवॉर्ड की घोषणा कर दी है। इस साल 87 सैनिकों को ये अवॉर्ड दिए जाएंगे। इनमें तीन सैनिकों को शौर्य चक्र, पांच सैनिकों को बार टु सेना मेडल और 60 सैनिकों को सेना मेडल (गैलेंटरी), 19 को मेंशन-इन-डिस्पैच मिलेंगे। भारतीय सेना ने शुक्रवार को बताया कि हवलदार आलोक कुमार दुबे, मेजर अनिल उर्स और लेफ्टिनेंट कर्नल कृष्ण सिंह रावत को जम्मू-कश्मीर में उनके सभी ऑपरेशनों में वीरता के लिए शौर्य चक्र से सम्मानित जाएगा।

इन्हें शौर्य चक्र
1. ले.कर्नल किशन सिंह रावत
2. मेजर अनिल उर्स
3. हवलदार आलोक कुमार दुबे

हवलदार आलोक ने वीरता दिखाते हुए चार आतंकियों को मारा

पिछले साल 22 जून को सूचना मिली कि आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर के एक गांव के पास बगीचे में घुसपैठ की है। हवलदार आलोक दुबे को वहां भेजा गया और उन्हें आतंकियों की घेराबंदी करने का निर्देश दिया गया। शाम 5:40 बजे उनकी नजर किसी संदिग्ध पर पड़ी। 5.45 बजे हवलदार ने आतंकियों का एक ग्रुप देखा जो अंधेरे का फायदा उठाकर सुरक्षा घेरा तोड़ने की कोशिश कर रहा था।

घने जंगल होने के कारण वहां साफ-साफ कुछ देखना मुमकिन नहीं था। अंधेरे का फायदा उठाते हुए आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। साहस दिखाते हुए हवलदार आलोक आतंकियों के करीब जा पहुंचे और एक को मार गिराया। बाद में उसकी पहचान ए कैटेगरी के आतंकी के रूप में की गई। उन्होंने बाकी आतंकियों के भागने का रास्ता रोक लिया और अंधाधुंध फायरिंग कर दी। इससे बाकी साथियों को घेरा टाइट करने में मदद मिली। इसके बाद सभी चार आतंकी भी मारे गए।

मेजर अनिल ने एलओसी पर 5 आतंकियों को मारा

मेजर अनिल कंपनी कमांडर हैं और जम्मू-कश्मीर पर लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात हैं। उन्हें खुफिया सूचना मिली कि कुछ आतंकी एलओसी क्रास करने की कोशिश में हैं। उन्होंने उसी रूट पर घात लगाई। जैसे ही आतंकियों का गिरोह पास आया, उन्होंने फायरिंग कर 3 आतंकियों को मार गिराया। इसके बाद वे वहीं मौजूद रहे, क्योंकि वहां और आतंकियों के जुटने का अनुमान था। करीब 15 मिनट इंतजार के बाद उन्होंने 2 और आतंकियों को मार गिराया।

लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह और उनकी टीम ने 4 आतंकियों को मारा

लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह रावत को जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन के लिए तैनात किया गया था। इस दौरान खुफिया सूचना मिली कि आतंकियों द्वारा घुसपैठ की कोशिश की जा रही है। इस ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभालते हुए उन्होंने घुसपैठ के सभी रास्तों पर सैनिक तैनात किए। करीब 36 घंटे बाद नियंत्रण रेखा के पास उनकी टीम ने आतंकवादियों के समूह को देखा।

लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह रावत की अगुआई में आगे बढ़ते हुए उनकी टीम ने 2 आतंकियों को मार गिराया। उन्होंने बाकी आतंकियों के जगह की भी पहचान कर ली। लंबी निगरानी के बाद रावत ने 2 और आतंकवादियों को मार गिराया और तीसरे को घायल कर दिया।

बार टु सेना मेडल (गैलेंटरी)
1. ले.कर्नल अमित कुमार
2. ले.कर्नल अमरेंद्र प्रसाद द्विवेदी
3. मेजर अमित शाह
4. मेजर अखिल कुमार त्रिपाठी
5. नायब सूबेदार अनिल कुमार

सेना मेडल (गैलेंटरी)
1. सेना मेडल (गैलेंटरी)
2. ले.कर्नल मनोज कुमार भरद्वाज
3. ले.कर्नल रोकेश कुमार
4. मेजर अर्चित गोस्वामी
5. मेजर अमन सिंह
6. मेजर राहुल कुमार सिंह
7. मेजर राहुल शर्मा
8. मेजर विनायक विजय
9. मेजर केतन शर्मा (मरणोपरांत)
10. मेजर आशुतोष तोमर
11. मेजर सैकत शेखर सरदार
12. मेजर राहुल शर्मा
13. मेजर दीपक कुमार
14. कैप्टन जसमीत सिंह
15. कैप्टन अमित दहिया
16. कैप्टन अभिषेक कटोच
17. कैप्टन नवल शांडिल्य
18. लेफ्टिनेंट राहुल शर्मा
19. सूबेदार के लालडिंग्लियाना
20. नायब सूबेदार राजेंद्र कुमार
21. नायब सूबेदार सेवांग गियालशान
22.हवलदार हरीश बिष्ट
23.हवलदार अमर सिंह
24. हवलदार शिव कुमार यादव
25. हवलदार राजेश कुमार
26. हवलदार सुरेश कुमार
27. हवलदार रवींद्र सिंह
28. हवलदार कुलदीप सिंह
29. हवलदार दशरथ कुमार बासुमतारी
30. लांस हवलदार सुमित सिंह
31. लांस हवलदार हवलदार पवार विकास वसंत
32. लांस राहुल सिंह
33. लांस नायक नसीब सिंह
34. नायक रवि रंजन कुमार
35. नायक लाबा घारा
36. नायक उरद राम सिंह
37. नायक शिव प्रताप सिंह चौहान
38. नायक सत्य पाल सिंह
39. नायक राजेंद्र सिंह
40. नायक एएस शांग्रेइयो
41. नायक कोंसम गौतम
42. लांस नायक बिरदाओ द्विमारी
43. सिपाही बोरोगा नरजारी
44. सिपाही हदियोल चंदाजी हिराजी
45. सिपाही राजपाल
46. सिपाही संजय कुमार
47. सिपाही पाटिल विकास तुकाराम
48. सिपाही सकपाल दीपक तुकाराम
49. सिपाही कापसे विकास साईंनाथ
50. सिपाही हेतराम गुर्जर
51. सिपाही रोहित कुमार यादव
52. सिपाही आनंद सिंह शेखावत
53. सिपाही अभिषेक पुंडीर
54. सिपाही अंकित सिंह
55. सिपाही रामबीर
56. सिपाही संतोष जोशी
57. रायफलमैन सतीश कुमार
58. ग्रेनेडियर हेमराज जाट
59. पैराट्रूपर सुमेर सिंह
60. नायक विकास कुमार द्विवेदी

मेंशन-इन-डिस्पैच
ऑरेशन मेघदूत
1. मेजर राज कुमार
2. सूबेदार सोनम दोरजी
3. सिपाही डिम्पल कुमार
4. सिपाही वीरपाल सिंह

मेंशन-इन-डिस्पैच

ऑरेशन रक्षक
1. मेजर रणदीप सिंह
2. सूबेदार वीरेशा कुराहट्‌टी
3. नायब सूबेदार नवल किशोर
4. नायक कृष्ण लाल
5. नायक सुभाष थापा
6. लांस नायक राजिंदर सिंह
7. लांस नायक अरय ब्रह्मा
8. लांस नायक जसबिंदर सिंह
9. सिपाही वीरी सिंह
10. सिपाही भगत संतोष मनलाल
11. सिपाही राहुल भैरू सुलागेकर
12. सिपाही रिंकू राणा
13. रायफलमैन चमनलाल
14. ग्रेनेडियर विपिन सिंह
15. सिग्नलमैन संतोष गोपे

शौर्य चक्र किसे दिया जाता है

  • सेना में किसी भी रैंक के ऑफिसर (महिला/पुरुष), नेवी, एयरफोर्स, किसी भी रिजर्व फोर्स, प्रादेशिक सेना, नागरिक सेना और कानूनी रूप से गठित अन्य सैनिक।
  • सशस्त्र बलों की नर्सिंग सेवाओं के मेंबर।
  • समाज के हर क्षेत्र के सभी जेंडर के सिविलियन नागरिक समेत पुलिस फोर्स, सेंट्रल पैरा-मिलिट्री फोर्सेस, रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स

शौर्य चक्र असाधारण वीरता या बलिदान के लिए दिया जाता है। यह मरणोपरांत भी दिया जा सकता है।

सुरक्षाबलों के सम्मान से जुड़ी यह खबर भी आप पढ़ सकते हैं…

1. लद्दाख में आईटीबीपी का शौर्य:मई-जून में 6 बार ईस्टर्न लद्दाख में चीन का मुकाबला करनेवाले आईटीबीपी के 21 जवानों को गैलेंट्री मेडल

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Gallantry Awards 2020: Shaurya Chakra for Indian Army Havildar Alok Kumar Dubey, Lieutenant Colonel Krishan Singh Rawat

गृह मंत्रालय ने स्वतंत्रता दिवस पर दिए जाने वाले गैलेंटरी अवॉर्ड की घोषणा कर दी है। इस साल 87 सैनिकों को ये अवॉर्ड दिए जाएंगे। इनमें तीन सैनिकों को शौर्य चक्र, पांच सैनिकों को बार टु सेना मेडल और 60 सैनिकों को सेना मेडल (गैलेंटरी), 19 को मेंशन-इन-डिस्पैच मिलेंगे। भारतीय सेना ने शुक्रवार को बताया कि हवलदार आलोक कुमार दुबे, मेजर अनिल उर्स और लेफ्टिनेंट कर्नल कृष्ण सिंह रावत को जम्मू-कश्मीर में उनके सभी ऑपरेशनों में वीरता के लिए शौर्य चक्र से सम्मानित जाएगा। इन्हें शौर्य चक्र 1. ले.कर्नल किशन सिंह रावत 2. मेजर अनिल उर्स 3. हवलदार आलोक कुमार दुबे हवलदार आलोक ने वीरता दिखाते हुए चार आतंकियों को मारा पिछले साल 22 जून को सूचना मिली कि आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर के एक गांव के पास बगीचे में घुसपैठ की है। हवलदार आलोक दुबे को वहां भेजा गया और उन्हें आतंकियों की घेराबंदी करने का निर्देश दिया गया। शाम 5:40 बजे उनकी नजर किसी संदिग्ध पर पड़ी। 5.45 बजे हवलदार ने आतंकियों का एक ग्रुप देखा जो अंधेरे का फायदा उठाकर सुरक्षा घेरा तोड़ने की कोशिश कर रहा था। घने जंगल होने के कारण वहां साफ-साफ कुछ देखना मुमकिन नहीं था। अंधेरे का फायदा उठाते हुए आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। साहस दिखाते हुए हवलदार आलोक आतंकियों के करीब जा पहुंचे और एक को मार गिराया। बाद में उसकी पहचान ए कैटेगरी के आतंकी के रूप में की गई। उन्होंने बाकी आतंकियों के भागने का रास्ता रोक लिया और अंधाधुंध फायरिंग कर दी। इससे बाकी साथियों को घेरा टाइट करने में मदद मिली। इसके बाद सभी चार आतंकी भी मारे गए। मेजर अनिल ने एलओसी पर 5 आतंकियों को मारा मेजर अनिल कंपनी कमांडर हैं और जम्मू-कश्मीर पर लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात हैं। उन्हें खुफिया सूचना मिली कि कुछ आतंकी एलओसी क्रास करने की कोशिश में हैं। उन्होंने उसी रूट पर घात लगाई। जैसे ही आतंकियों का गिरोह पास आया, उन्होंने फायरिंग कर 3 आतंकियों को मार गिराया। इसके बाद वे वहीं मौजूद रहे, क्योंकि वहां और आतंकियों के जुटने का अनुमान था। करीब 15 मिनट इंतजार के बाद उन्होंने 2 और आतंकियों को मार गिराया। लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह और उनकी टीम ने 4 आतंकियों को मारा लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह रावत को जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर काउंटर टेररिस्ट ऑपरेशन के लिए तैनात किया गया था। इस दौरान खुफिया सूचना मिली कि आतंकियों द्वारा घुसपैठ की कोशिश की जा रही है। इस ऑपरेशन की जिम्मेदारी संभालते हुए उन्होंने घुसपैठ के सभी रास्तों पर सैनिक तैनात किए। करीब 36 घंटे बाद नियंत्रण रेखा के पास उनकी टीम ने आतंकवादियों के समूह को देखा। लेफ्टिनेंट कर्नल किशन सिंह रावत की अगुआई में आगे बढ़ते हुए उनकी टीम ने 2 आतंकियों को मार गिराया। उन्होंने बाकी आतंकियों के जगह की भी पहचान कर ली। लंबी निगरानी के बाद रावत ने 2 और आतंकवादियों को मार गिराया और तीसरे को घायल कर दिया। बार टु सेना मेडल (गैलेंटरी) 1. ले.कर्नल अमित कुमार 2. ले.कर्नल अमरेंद्र प्रसाद द्विवेदी 3. मेजर अमित शाह 4. मेजर अखिल कुमार त्रिपाठी 5. नायब सूबेदार अनिल कुमार सेना मेडल (गैलेंटरी) 1. सेना मेडल (गैलेंटरी) 2. ले.कर्नल मनोज कुमार भरद्वाज 3. ले.कर्नल रोकेश कुमार 4. मेजर अर्चित गोस्वामी 5. मेजर अमन सिंह 6. मेजर राहुल कुमार सिंह 7. मेजर राहुल शर्मा 8. मेजर विनायक विजय 9. मेजर केतन शर्मा (मरणोपरांत) 10. मेजर आशुतोष तोमर 11. मेजर सैकत शेखर सरदार 12. मेजर राहुल शर्मा 13. मेजर दीपक कुमार 14. कैप्टन जसमीत सिंह 15. कैप्टन अमित दहिया 16. कैप्टन अभिषेक कटोच 17. कैप्टन नवल शांडिल्य 18. लेफ्टिनेंट राहुल शर्मा 19. सूबेदार के लालडिंग्लियाना 20. नायब सूबेदार राजेंद्र कुमार 21. नायब सूबेदार सेवांग गियालशान 22.हवलदार हरीश बिष्ट 23.हवलदार अमर सिंह 24. हवलदार शिव कुमार यादव 25. हवलदार राजेश कुमार 26. हवलदार सुरेश कुमार 27. हवलदार रवींद्र सिंह 28. हवलदार कुलदीप सिंह 29. हवलदार दशरथ कुमार बासुमतारी 30. लांस हवलदार सुमित सिंह 31. लांस हवलदार हवलदार पवार विकास वसंत 32. लांस राहुल सिंह 33. लांस नायक नसीब सिंह 34. नायक रवि रंजन कुमार 35. नायक लाबा घारा 36. नायक उरद राम सिंह 37. नायक शिव प्रताप सिंह चौहान 38. नायक सत्य पाल सिंह 39. नायक राजेंद्र सिंह 40. नायक एएस शांग्रेइयो 41. नायक कोंसम गौतम 42. लांस नायक बिरदाओ द्विमारी 43. सिपाही बोरोगा नरजारी 44. सिपाही हदियोल चंदाजी हिराजी 45. सिपाही राजपाल 46. सिपाही संजय कुमार 47. सिपाही पाटिल विकास तुकाराम 48. सिपाही सकपाल दीपक तुकाराम 49. सिपाही कापसे विकास साईंनाथ 50. सिपाही हेतराम गुर्जर 51. सिपाही रोहित कुमार यादव 52. सिपाही आनंद सिंह शेखावत 53. सिपाही अभिषेक पुंडीर 54. सिपाही अंकित सिंह 55. सिपाही रामबीर 56. सिपाही संतोष जोशी 57. रायफलमैन सतीश कुमार 58. ग्रेनेडियर हेमराज जाट 59. पैराट्रूपर सुमेर सिंह 60. नायक विकास कुमार द्विवेदी मेंशन-इन-डिस्पैचऑरेशन मेघदूत 1. मेजर राज कुमार 2. सूबेदार सोनम दोरजी 3. सिपाही डिम्पल कुमार 4. सिपाही वीरपाल सिंह मेंशन-इन-डिस्पैच ऑरेशन रक्षक 1. मेजर रणदीप सिंह 2. सूबेदार वीरेशा कुराहट्‌टी 3. नायब सूबेदार नवल किशोर 4. नायक कृष्ण लाल 5. नायक सुभाष थापा 6. लांस नायक राजिंदर सिंह 7. लांस नायक अरय ब्रह्मा 8. लांस नायक जसबिंदर सिंह 9. सिपाही वीरी सिंह 10. सिपाही भगत संतोष मनलाल 11. सिपाही राहुल भैरू सुलागेकर 12. सिपाही रिंकू राणा 13. रायफलमैन चमनलाल 14. ग्रेनेडियर विपिन सिंह 15. सिग्नलमैन संतोष गोपे शौर्य चक्र किसे दिया जाता है सेना में किसी भी रैंक के ऑफिसर (महिला/पुरुष), नेवी, एयरफोर्स, किसी भी रिजर्व फोर्स, प्रादेशिक सेना, नागरिक सेना और कानूनी रूप से गठित अन्य सैनिक।सशस्त्र बलों की नर्सिंग सेवाओं के मेंबर।समाज के हर क्षेत्र के सभी जेंडर के सिविलियन नागरिक समेत पुलिस फोर्स, सेंट्रल पैरा-मिलिट्री फोर्सेस, रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स शौर्य चक्र असाधारण वीरता या बलिदान के लिए दिया जाता है। यह मरणोपरांत भी दिया जा सकता है। सुरक्षाबलों के सम्मान से जुड़ी यह खबर भी आप पढ़ सकते हैं… 1. लद्दाख में आईटीबीपी का शौर्य:मई-जून में 6 बार ईस्टर्न लद्दाख में चीन का मुकाबला करनेवाले आईटीबीपी के 21 जवानों को गैलेंट्री मेडल आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Gallantry Awards 2020: Shaurya Chakra for Indian Army Havildar Alok Kumar Dubey, Lieutenant Colonel Krishan Singh RawatRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *