16 राज्यों में 10 लाख आबादी पर 25 हजार कोरोना टेस्ट भी नहीं हो रहे, इनमें यूपी, बिहार और एमपी समेत 10 प्रदेशों में भाजपा सत्ता मेंDainik Bhaskar


देश में कोरोनावायरस का पहला मरीज आए करीब 7 महीने होने वाले हैं। इन 7 महीनों के भीतर ही देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 27 लाख के पार पहुंच गई। इस दौरान भारत में टेस्टिंग कैपेसिटी भी बढ़ी है। 31 जनवरी तक देश में सिर्फ 49 टेस्ट हुए थे और आज 3 करोड़ से ज्यादा सैंपल की जांच हो चुकी है।

हालांकि, टेस्टिंग को लेकर राजनीतिक पार्टियां सवाल भी उठाती रहती हैं। कांग्रेस कई बार केंद्र सरकार पर कम टेस्टिंग को लेकर आरोप लगाती रही है। वहीं, सरकार कहती है कि देश में टेस्टिंग बढ़ रही है।

इन्हीं सब राजनीतिक बातों के बीच हमने देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में हो रही टेस्टिंग का डेटा निकाला और ये समझने की कोशिश की जिन राज्यों में भाजपा की सरकार है, वहां टेस्टिंग कैसी हो रही है? जहां कांग्रेस है, वहां क्या हालात हैं? और जहां दूसरी पार्टियों की सरकार है, वहां क्या है?

सबसे पहले बात भाजपा और उसके सहयोगियों के राज्यों की बात
देश में 16 राज्य ऐसे हैं, जहां या तो भाजपा या उनके सहयोगी दलों की सरकार है। जबकि, 5 केंद्र शासित प्रदेश हैं, यहां तो एक तरह से केंद्र का ही राज है। इन सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में करीब 70 करोड़ की आबादी रहती है। यानी देश की आधी से ज्यादा आबादी पर भाजपा ही राज कर रही है।

अब देखा जाए तो जिन राज्यों में हर 10 लाख आबादी पर 25 हजार से भी कम टेस्ट हुए हैं, उनकी संख्या 16 है। इन 16 में से 10 राज्यों में भाजपा या तो उसके सहयोगी की सरकार है।

जहां कांग्रेस या उसके सहयोग की सरकार, अब उन राज्यों की बात
देश के 3 राज्यों में कांग्रेस की सरकार है और 2 में वो सरकार की सहयोगी है। जबकि, एक केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में भी कांग्रेस की ही सरकार है। कुल मिलाकर इन 6 राज्यों में सिर्फ पुडुचेरी ही है, जहां हर 10 लाख आबादी पर सबसे ज्यादा 37 हजार 916 टेस्ट हुए हैं। हालांकि, इसका कारण ये भी है कि बाकी राज्यों के मुकाबले यहां की आबादी बहुत कम है।

देश में कोरोना की सबसे बुरी मार झेल रहे महाराष्ट्र में भी कांग्रेस सहयोगी है। यहां 3.20 लाख से ज्यादा टेस्ट हो चुके हैं। यहां का पॉजिटिव रेट भी देश में सबसे ज्यादा है। महाराष्ट्र में हर 10 लाख आबादी पर 26 हजार से ज्यादा टेस्ट हुए हैं।

अब बात उन राज्यों की, जहां दूसरी पार्टियां सत्ता में हैं
देश में सिर्फ 8 राज्य ही ऐसे हैं, जहां न तो भाजपा की सरकार है और न ही कांग्रेस की। यहां दूसरी पार्टियां सत्ता में हैं। इन 8 राज्यों में 37.21 करोड़ से ज्यादा आबादी रहती है, जो देश की कुल आबादी का 27% हिस्सा है। इन 8 राज्यों में से सिर्फ दिल्ली, पश्चिम बंगाल और ओडिशा ही ऐसे राज्य हैं, जहां हर 10 लाख आबादी पर 25 हजार से कम टेस्ट हुए हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Coronavirus Testing Rate Summary India (State-Wise) List Update | COVID Sample Testing BJP Led NDA Government in Madhya Himachal Uttar Pradesh Gujarat Rajasthan Haryana

देश में कोरोनावायरस का पहला मरीज आए करीब 7 महीने होने वाले हैं। इन 7 महीनों के भीतर ही देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 27 लाख के पार पहुंच गई। इस दौरान भारत में टेस्टिंग कैपेसिटी भी बढ़ी है। 31 जनवरी तक देश में सिर्फ 49 टेस्ट हुए थे और आज 3 करोड़ से ज्यादा सैंपल की जांच हो चुकी है। हालांकि, टेस्टिंग को लेकर राजनीतिक पार्टियां सवाल भी उठाती रहती हैं। कांग्रेस कई बार केंद्र सरकार पर कम टेस्टिंग को लेकर आरोप लगाती रही है। वहीं, सरकार कहती है कि देश में टेस्टिंग बढ़ रही है। इन्हीं सब राजनीतिक बातों के बीच हमने देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में हो रही टेस्टिंग का डेटा निकाला और ये समझने की कोशिश की जिन राज्यों में भाजपा की सरकार है, वहां टेस्टिंग कैसी हो रही है? जहां कांग्रेस है, वहां क्या हालात हैं? और जहां दूसरी पार्टियों की सरकार है, वहां क्या है? सबसे पहले बात भाजपा और उसके सहयोगियों के राज्यों की बात देश में 16 राज्य ऐसे हैं, जहां या तो भाजपा या उनके सहयोगी दलों की सरकार है। जबकि, 5 केंद्र शासित प्रदेश हैं, यहां तो एक तरह से केंद्र का ही राज है। इन सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में करीब 70 करोड़ की आबादी रहती है। यानी देश की आधी से ज्यादा आबादी पर भाजपा ही राज कर रही है। अब देखा जाए तो जिन राज्यों में हर 10 लाख आबादी पर 25 हजार से भी कम टेस्ट हुए हैं, उनकी संख्या 16 है। इन 16 में से 10 राज्यों में भाजपा या तो उसके सहयोगी की सरकार है। जहां कांग्रेस या उसके सहयोग की सरकार, अब उन राज्यों की बात देश के 3 राज्यों में कांग्रेस की सरकार है और 2 में वो सरकार की सहयोगी है। जबकि, एक केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में भी कांग्रेस की ही सरकार है। कुल मिलाकर इन 6 राज्यों में सिर्फ पुडुचेरी ही है, जहां हर 10 लाख आबादी पर सबसे ज्यादा 37 हजार 916 टेस्ट हुए हैं। हालांकि, इसका कारण ये भी है कि बाकी राज्यों के मुकाबले यहां की आबादी बहुत कम है। देश में कोरोना की सबसे बुरी मार झेल रहे महाराष्ट्र में भी कांग्रेस सहयोगी है। यहां 3.20 लाख से ज्यादा टेस्ट हो चुके हैं। यहां का पॉजिटिव रेट भी देश में सबसे ज्यादा है। महाराष्ट्र में हर 10 लाख आबादी पर 26 हजार से ज्यादा टेस्ट हुए हैं। अब बात उन राज्यों की, जहां दूसरी पार्टियां सत्ता में हैं देश में सिर्फ 8 राज्य ही ऐसे हैं, जहां न तो भाजपा की सरकार है और न ही कांग्रेस की। यहां दूसरी पार्टियां सत्ता में हैं। इन 8 राज्यों में 37.21 करोड़ से ज्यादा आबादी रहती है, जो देश की कुल आबादी का 27% हिस्सा है। इन 8 राज्यों में से सिर्फ दिल्ली, पश्चिम बंगाल और ओडिशा ही ऐसे राज्य हैं, जहां हर 10 लाख आबादी पर 25 हजार से कम टेस्ट हुए हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Coronavirus Testing Rate Summary India (State-Wise) List Update | COVID Sample Testing BJP Led NDA Government in Madhya Himachal Uttar Pradesh Gujarat Rajasthan HaryanaRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *