रेस्क्यू टीम को सभी 9 लोगों के शव मिले, इनमें प्लांट के 4 अफसर शामिल; 10 लोगों को बचाया गयाDainik Bhaskar


तेलंगाना के श्रीसैलम हाइडल पावर प्लांट में लगी आग के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है। लापता सभी 9 लोगों के शव बरामद कर लिए गए हैं। रेस्क्यू टीम ने 10 को बचा लिया था। इनमें 6 को अस्पताल में भर्ती किया गया है। फिलहाल हादसे की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। हादसे के वक्त प्लांट में 19 लोग मौजूद थे।

नागरकुर्नूल के कलेक्टर एल शर्मा ने बताया कि जिनकी बॉडी मिली है, उनमें तीन असिस्टेंट इंजीनियर मोहन कुमार, उजमा फातिमा और सुंदर हैं। वहीं, एक डिविजनल इंजीनियर श्रीनिवास गौड़ हैं। इनमें बैट्री कंपनी का कर्मचारी महेश भी शामिल है।

तेलंगाना के मंत्री जी जगदीश्वर रेड्डी ने बताया कि हादसा गुरुवार रात करीब 10.30 बजे हुआ। पावर सप्लाई भी बंद कर दी गई थी। हम सिंगारेनी कोल माइंस से मदद लेने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि वे इस स्थिति पर काबू पाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

इस हादसे में 10 लोगों को बचाया गया। इनमें से 6 को अस्पताल में भर्ती किया गया।

पीएम मोदी ने हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण बताया

मोदी ने ट्वीट किया- श्रीसैलम हाइडल पावर प्लांट में आग की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरे संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ है।

प्लांट में धुआं भर जाने की वजह से रेस्क्यू में परेशानी आई।

प्लांट में काफी धुआं भर गया
आग लगने के बाद प्लांट में काफी धुआं भर गया। इसकी वजह से बचाव अभियान में मुश्किल आई। श्रीसैलम डेम कृष्णा नदी पर है, जो आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की सीमा पर स्थित है। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा है कि वे लगातार अपडेट ले रहे हैं। उन्होंने मंत्री जगदीश्वर रेड्डी और ट्रांसको-जेंको कंपनी के सीएमडी डी प्रभाकर राव से बात की।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


तेलंगाना के मंत्री जी जगदीश्वर रेड्डी ने बताया कि हादसा गुरुवार रात करीब 10.30 बजे हुआ। हादसे की वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है।

तेलंगाना के श्रीसैलम हाइडल पावर प्लांट में लगी आग के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है। लापता सभी 9 लोगों के शव बरामद कर लिए गए हैं। रेस्क्यू टीम ने 10 को बचा लिया था। इनमें 6 को अस्पताल में भर्ती किया गया है। फिलहाल हादसे की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। हादसे के वक्त प्लांट में 19 लोग मौजूद थे। नागरकुर्नूल के कलेक्टर एल शर्मा ने बताया कि जिनकी बॉडी मिली है, उनमें तीन असिस्टेंट इंजीनियर मोहन कुमार, उजमा फातिमा और सुंदर हैं। वहीं, एक डिविजनल इंजीनियर श्रीनिवास गौड़ हैं। इनमें बैट्री कंपनी का कर्मचारी महेश भी शामिल है। तेलंगाना के मंत्री जी जगदीश्वर रेड्डी ने बताया कि हादसा गुरुवार रात करीब 10.30 बजे हुआ। पावर सप्लाई भी बंद कर दी गई थी। हम सिंगारेनी कोल माइंस से मदद लेने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि वे इस स्थिति पर काबू पाने में मददगार साबित हो सकते हैं। इस हादसे में 10 लोगों को बचाया गया। इनमें से 6 को अस्पताल में भर्ती किया गया।पीएम मोदी ने हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण बताया मोदी ने ट्वीट किया- श्रीसैलम हाइडल पावर प्लांट में आग की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरे संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ है। Fire at the Srisailam hydroelectric plant is deeply unfortunate. My thoughts are with the bereaved families. I hope those injured recover at the earliest. — Narendra Modi (@narendramodi) August 21, 2020प्लांट में धुआं भर जाने की वजह से रेस्क्यू में परेशानी आई।प्लांट में काफी धुआं भर गया आग लगने के बाद प्लांट में काफी धुआं भर गया। इसकी वजह से बचाव अभियान में मुश्किल आई। श्रीसैलम डेम कृष्णा नदी पर है, जो आंध्र प्रदेश और तेलंगाना की सीमा पर स्थित है। मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा है कि वे लगातार अपडेट ले रहे हैं। उन्होंने मंत्री जगदीश्वर रेड्डी और ट्रांसको-जेंको कंपनी के सीएमडी डी प्रभाकर राव से बात की। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

तेलंगाना के मंत्री जी जगदीश्वर रेड्डी ने बताया कि हादसा गुरुवार रात करीब 10.30 बजे हुआ। हादसे की वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *