250-250 रुपए में 5 टिकट खरीदे थे; छठा टिकट एजेंट जबरदस्ती दे गया, उसी ने 1.5 करोड़ जिता दिएDainik Bhaskar


कहते हैं ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है। हरियाणा में सिरसा जिले के कलांवाली में रहने वाले धर्मपाल के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। मिठाई की दुकान चलाने वाले धर्मपाल शुक्रवार सुबह उठे तो पता चला कि करोड़पति बन गए हैं। लॉटरी के जिस टिकट को एजेंट जबरदस्ती धर्मपाल को दे गया था, उसी का नंबर लग गया और धर्मपाल ने डेढ़ करोड़ रुपए जीत लिए। लॉटरी खुलने का फोन आया तो धर्मपाल को यकीन नहीं हुआ, लेकिन जब टिकट का नंबर चेक किया तो भरोसा हो गया।

सब किस्मत का खेल
धर्मपाल ने बताया, ‘पंजाब स्टेट राखी बंपर लॉटरी आई थी। सिरसा जिला पंजाब की सीमा से सटा होने की वजह से एजेंट यहां लॉटरी बेचने आते रहते हैं। हफ्ते भर पहले आए एक एजेंट से हमने 250-250 रुपए के 5 टिकट खरीदे थे। एजेंट कुछ घंटे बाद फिर आया। उसका कहना था कि एक टिकट बच गया है, इसे भी आप खरीद लो।’

धर्मपाल (नीली शर्ट में खड़े हुए) ने 1500 रुपए में कुल 6 टिकट खरीदे थे।

धर्मपाल ने कहा, ‘पहले तो मैंने एजेंट को मना कर दिया कि हमने तो पहले ही 5 टिकट खरीद लिए हैं, अब जरूरत नहीं। लेकिन, एजेंट नहीं माना और छठा टिकट खरीदने की गुजारिश करने लगा। वह नहीं माना तो हमने छठा टिकट भी खरीद लिया। शुक्रवार सुबह मेरे पास उसी एजेंट का फोन आया। उसने लॉटरी जीतने की खबर दी। ये किस्मत ही थी, कि न चाहते हुए भी आखिरी टिकट मुझे मिला और डेढ़ करोड़ की लॉटरी जीत गया।’

15 साल से टिकट खरीद रहे, अब किस्मत खुली
उनका कहना है कि हर दिन टिकट नहीं खरीदते हैं, लेकिन त्यौहार पर जब भी बंपर लॉटरी आती है, तब जरूर लेते हैं। हर बार दीपावली बंपर की लॉटरी खरीदते हैं। पिछले करीब 15 साल से ये सिलसिला चल रहा, लेकिन किस्मत अब जाकर खुली।

लॉटरी के पैसों से बच्चों को अच्छी पढ़ाई करवाएंगे
धर्मपाल के तीन बेटे हैं। उनका कहना है कि लॉटरी में जीते पैसों से बच्चों को अच्छी पढ़ाई करवाएंगे। साथ ही सामाजिक कामों में भी खर्च करेंगे।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


हरियाणा के सिरसा जिले के कलांवाली में मिठाई की दुकान चलाने वाले धर्मपाल (नीली शर्ट में) उस टिकट को दिखाते हुए, जिसके नंबर खुले हैं।

कहते हैं ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है। हरियाणा में सिरसा जिले के कलांवाली में रहने वाले धर्मपाल के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। मिठाई की दुकान चलाने वाले धर्मपाल शुक्रवार सुबह उठे तो पता चला कि करोड़पति बन गए हैं। लॉटरी के जिस टिकट को एजेंट जबरदस्ती धर्मपाल को दे गया था, उसी का नंबर लग गया और धर्मपाल ने डेढ़ करोड़ रुपए जीत लिए। लॉटरी खुलने का फोन आया तो धर्मपाल को यकीन नहीं हुआ, लेकिन जब टिकट का नंबर चेक किया तो भरोसा हो गया। सब किस्मत का खेल धर्मपाल ने बताया, ‘पंजाब स्टेट राखी बंपर लॉटरी आई थी। सिरसा जिला पंजाब की सीमा से सटा होने की वजह से एजेंट यहां लॉटरी बेचने आते रहते हैं। हफ्ते भर पहले आए एक एजेंट से हमने 250-250 रुपए के 5 टिकट खरीदे थे। एजेंट कुछ घंटे बाद फिर आया। उसका कहना था कि एक टिकट बच गया है, इसे भी आप खरीद लो।’ धर्मपाल (नीली शर्ट में खड़े हुए) ने 1500 रुपए में कुल 6 टिकट खरीदे थे।धर्मपाल ने कहा, ‘पहले तो मैंने एजेंट को मना कर दिया कि हमने तो पहले ही 5 टिकट खरीद लिए हैं, अब जरूरत नहीं। लेकिन, एजेंट नहीं माना और छठा टिकट खरीदने की गुजारिश करने लगा। वह नहीं माना तो हमने छठा टिकट भी खरीद लिया। शुक्रवार सुबह मेरे पास उसी एजेंट का फोन आया। उसने लॉटरी जीतने की खबर दी। ये किस्मत ही थी, कि न चाहते हुए भी आखिरी टिकट मुझे मिला और डेढ़ करोड़ की लॉटरी जीत गया।’ 15 साल से टिकट खरीद रहे, अब किस्मत खुली उनका कहना है कि हर दिन टिकट नहीं खरीदते हैं, लेकिन त्यौहार पर जब भी बंपर लॉटरी आती है, तब जरूर लेते हैं। हर बार दीपावली बंपर की लॉटरी खरीदते हैं। पिछले करीब 15 साल से ये सिलसिला चल रहा, लेकिन किस्मत अब जाकर खुली। लॉटरी के पैसों से बच्चों को अच्छी पढ़ाई करवाएंगे धर्मपाल के तीन बेटे हैं। उनका कहना है कि लॉटरी में जीते पैसों से बच्चों को अच्छी पढ़ाई करवाएंगे। साथ ही सामाजिक कामों में भी खर्च करेंगे। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

हरियाणा के सिरसा जिले के कलांवाली में मिठाई की दुकान चलाने वाले धर्मपाल (नीली शर्ट में) उस टिकट को दिखाते हुए, जिसके नंबर खुले हैं।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *