कारें डूबीं, बाढ़ में 30 से ज्यादा गायें बह गईं; उफनते नाले में ट्रैक्टर समेत किसान बहा; इंदौर में सड़कों पर नावें चलींDainik Bhaskar


मध्यप्रदेश के ज्यादातर जिलों में भारी बारिश हो रही है। सभी बांध लबालब हो चुके हैं। बांधों से लगातार पानी छोड़े जाने से नदियां उफान पर हैं। भारी बारिश का सबसे ज्यादा असर भोपाल और इंदौर संभाग में पड़ा है। वीडियो में देखें बारिश से भोपाल-इंदौर संभाग की बेहाली…

भोपाल: बड़े तालाब का पानी वीआईपी रोड पर आया
राजधानी में गुरुवार शाम से हो रही बारिश से बड़े तालाब का पानी वीआईपी रोड पर आ गया। छोटा तालाब भी ओवरफ्लो हो गया। मनीषा मार्केट, प्रशासन एकेडमी और स्टेशन रोड जैसे निचले इलाके पानी में डूबे हुए हैं। अल्पना तिराहा स्थित पेट्रोल पंप में करीब 3 फीट पानी भर गया।

बांध लबालब, लगातार छोड़ा जा रहा पानी
बारिश से शनिवार सुबह भदभदा डैम के एक-एक कर छह गेट खोलने पड़ गए। कलियासोत डैम के दो गेट भी खोल गए दिए गए हैं। शहर में भारी बारिश का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि एक ही दिन में छह घंटे के अंदर दोनों बड़े डैम के गेट खोलने पड़ गए। कैरवा डैम और हथाईखेड़ा डैम से भी पानी छोड़ा जा रहा है।

घुंसी नदी की बाढ़ में फंसा परिवार
भोपाल में भारी बारिश की वजह से भोजपुर रोड पर घुंसी नदी में बाढ़ आ गई। इससे यहां के छान गांव में पानी घुस गया। एक परिवार का घर पूरी तरह से डूब गया। परिवार फंस गया। एसडीआरएफ की टीम ने परिवार को रेस्क्यू किया।

इंदौर: 50 से ज्यादा कॉलोनी पानी से घिरीं

भारी बारिश से देश का सबसे साफ शहर इंदौर भी पानी-पानी हो गया। शहर की 50 से ज्यादा पॉश कॉलोनियों पानी से घिर गईं हैं, जबकि 20 से ज्यादा निचली बस्तियों में कम तक पानी भरा हुआ है। भावना नगर इलाके में कार और रिक्शा पानी में डूब गए। इंदौर की लाइफ लाइन कहलाने वाला यशवंत सागर बांध भी रातभर में लबालब हो गया और इसके सभी गेट खोलकर अतिरिक्त पानी निकाला जा रहा है।

सड़कों पर चलीं नाव
इंदौर में खान नदी में जलस्तर बढ़ने से निचली बस्तियों में पानी भरना शुरू हो गया है। किला मैदान रोड इलाके की सिकंदराबाद, गरीब नवाज बस्ती और भिस्ती बस्ती के लोगों को नाव के जरिए रेस्क्यू किया गया।

नाले के तेज बहाव में रात भर फंसा रहा युवक
इंदौर में अमितेष नगर इलाके के नाले का पानी पुलिया के ऊपर से बह रहा है। यहां युवक रात भर नाले के तेज बहाव में जाली के सहारे लटका रहा। पेशे से हम्माल युवक चोइथराम मंडी से घर लौट रहा था। सुबह जेसीबी की मदद से उसे बचाया गया।


… और देखते-देखते बह गया ट्रैक्टर
इंदौर के पास नेमावर रोड के आगे नाला उफना गया है। इसे पार करने की कोशिश में किसान ट्रैक्टर समेत बह गया। वहीं, उज्जैन के बड़नगर में इंदौर से गुजरात जा रही बस पानी में फंस गई। सभी 18 यात्रियों को जेसीबी की मदद से रेस्क्यू किया गया।

देवास में 30 से ज्यादा गाय बहीं
देवास जिले के अरनिया गांव में लोदरी नदी उफान पर है। नदी में आई बाढ़ में 30 से ज्यादा गाय बह गईं। उधर, जिले के सोनकच्छ में कालीसिंध नदी के किनारे के मंदिर डूब गए हैं। नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है।

उज्जैन में शिप्रा का रौद्र रूप
लगातार बारिश से उज्जैन में शिप्रा नदी रौद्र रूप ले चुकी है। राम घाट पर सभी मंदिर डूब गए हैं। बड़े पुल पर चार तो छोटे पुल पर करीब आठ फीट ऊपर पानी बह रहा है। शिप्रा के किनारे बसे लोगों को प्रशासन सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा रहा है।

शाजापुर: पानी में घिरी महिला का रेस्क्यू

शाजापुर में भी बारिश हो रही है। तिलावत मेना में घुटनों के ऊपर तक पानी भर गया है। यहां एक महिला मंदिर गई थी। वापस लौटने के दौरान तेज बारिश होने लगी और मंदिर के आसपास का इलाका पानी में डूब गया। आसपास के लोगों ने महिला को देखा और उसे रस्सी के सहारे रेस्क्यू कर पानी से बाहर निकाला।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भारी बारिश से भोपाल तरबतर है। राजधानी के निचले इलाकों में पानी भरा हुआ है। जनजीवन पटरी से उतर चुका है। शुक्रवार शाम 5.30 बजे से शनिवार सुबह 8.30 बजे तक भोपाल में 8.50 इंच बारिश हो चुकी है।

मध्यप्रदेश के ज्यादातर जिलों में भारी बारिश हो रही है। सभी बांध लबालब हो चुके हैं। बांधों से लगातार पानी छोड़े जाने से नदियां उफान पर हैं। भारी बारिश का सबसे ज्यादा असर भोपाल और इंदौर संभाग में पड़ा है। वीडियो में देखें बारिश से भोपाल-इंदौर संभाग की बेहाली… भोपाल: बड़े तालाब का पानी वीआईपी रोड पर आया राजधानी में गुरुवार शाम से हो रही बारिश से बड़े तालाब का पानी वीआईपी रोड पर आ गया। छोटा तालाब भी ओवरफ्लो हो गया। मनीषा मार्केट, प्रशासन एकेडमी और स्टेशन रोड जैसे निचले इलाके पानी में डूबे हुए हैं। अल्पना तिराहा स्थित पेट्रोल पंप में करीब 3 फीट पानी भर गया। बांध लबालब, लगातार छोड़ा जा रहा पानी बारिश से शनिवार सुबह भदभदा डैम के एक-एक कर छह गेट खोलने पड़ गए। कलियासोत डैम के दो गेट भी खोल गए दिए गए हैं। शहर में भारी बारिश का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि एक ही दिन में छह घंटे के अंदर दोनों बड़े डैम के गेट खोलने पड़ गए। कैरवा डैम और हथाईखेड़ा डैम से भी पानी छोड़ा जा रहा है। घुंसी नदी की बाढ़ में फंसा परिवार भोपाल में भारी बारिश की वजह से भोजपुर रोड पर घुंसी नदी में बाढ़ आ गई। इससे यहां के छान गांव में पानी घुस गया। एक परिवार का घर पूरी तरह से डूब गया। परिवार फंस गया। एसडीआरएफ की टीम ने परिवार को रेस्क्यू किया। इंदौर: 50 से ज्यादा कॉलोनी पानी से घिरीं भारी बारिश से देश का सबसे साफ शहर इंदौर भी पानी-पानी हो गया। शहर की 50 से ज्यादा पॉश कॉलोनियों पानी से घिर गईं हैं, जबकि 20 से ज्यादा निचली बस्तियों में कम तक पानी भरा हुआ है। भावना नगर इलाके में कार और रिक्शा पानी में डूब गए। इंदौर की लाइफ लाइन कहलाने वाला यशवंत सागर बांध भी रातभर में लबालब हो गया और इसके सभी गेट खोलकर अतिरिक्त पानी निकाला जा रहा है। सड़कों पर चलीं नाव इंदौर में खान नदी में जलस्तर बढ़ने से निचली बस्तियों में पानी भरना शुरू हो गया है। किला मैदान रोड इलाके की सिकंदराबाद, गरीब नवाज बस्ती और भिस्ती बस्ती के लोगों को नाव के जरिए रेस्क्यू किया गया। नाले के तेज बहाव में रात भर फंसा रहा युवक इंदौर में अमितेष नगर इलाके के नाले का पानी पुलिया के ऊपर से बह रहा है। यहां युवक रात भर नाले के तेज बहाव में जाली के सहारे लटका रहा। पेशे से हम्माल युवक चोइथराम मंडी से घर लौट रहा था। सुबह जेसीबी की मदद से उसे बचाया गया। … और देखते-देखते बह गया ट्रैक्टर इंदौर के पास नेमावर रोड के आगे नाला उफना गया है। इसे पार करने की कोशिश में किसान ट्रैक्टर समेत बह गया। वहीं, उज्जैन के बड़नगर में इंदौर से गुजरात जा रही बस पानी में फंस गई। सभी 18 यात्रियों को जेसीबी की मदद से रेस्क्यू किया गया। देवास में 30 से ज्यादा गाय बहीं देवास जिले के अरनिया गांव में लोदरी नदी उफान पर है। नदी में आई बाढ़ में 30 से ज्यादा गाय बह गईं। उधर, जिले के सोनकच्छ में कालीसिंध नदी के किनारे के मंदिर डूब गए हैं। नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। उज्जैन में शिप्रा का रौद्र रूप लगातार बारिश से उज्जैन में शिप्रा नदी रौद्र रूप ले चुकी है। राम घाट पर सभी मंदिर डूब गए हैं। बड़े पुल पर चार तो छोटे पुल पर करीब आठ फीट ऊपर पानी बह रहा है। शिप्रा के किनारे बसे लोगों को प्रशासन सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा रहा है। शाजापुर: पानी में घिरी महिला का रेस्क्यू शाजापुर में भी बारिश हो रही है। तिलावत मेना में घुटनों के ऊपर तक पानी भर गया है। यहां एक महिला मंदिर गई थी। वापस लौटने के दौरान तेज बारिश होने लगी और मंदिर के आसपास का इलाका पानी में डूब गया। आसपास के लोगों ने महिला को देखा और उसे रस्सी के सहारे रेस्क्यू कर पानी से बाहर निकाला। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

भारी बारिश से भोपाल तरबतर है। राजधानी के निचले इलाकों में पानी भरा हुआ है। जनजीवन पटरी से उतर चुका है। शुक्रवार शाम 5.30 बजे से शनिवार सुबह 8.30 बजे तक भोपाल में 8.50 इंच बारिश हो चुकी है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *