देश में ही तैयार होंगे हल्के फाइटर एयरक्राफ्ट और क्रूज मिसाइलें, इस लिस्ट में बुलेटप्रूफ गाड़ियां और रॉकेट लॉन्चर भीDainik Bhaskar


डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) ने सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को 108 डिफेंस प्रोडक्ट्स की सूची सौंपी है। अब ये प्रोडक्ट्स देश में बनाए जाएंगे। इनमें लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल और हल्के फाइटर एयरक्राफ्ट भी शामिल हैं।

डीआरडीओ इनके डेवलपमेंट में लोकल इंडस्ट्रीज को भी सपोर्ट करेगा। दरअसल, रक्षा मंत्रालय ने 9 अगस्त को 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। इसका मकसद आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देना और आयात का बोझ कम करना है।

लिस्ट में ये प्रोडक्ट शामिल
108 डिफेंस प्रोडक्ट्स की लिस्ट में मिनी और माइक्रो यूएवी(ड्रोन), आरओवी (पानी के अंदर चलने वाली रिमोट कंट्रोल डिवाइस), हथियारों में लगने वाले इंफ्रारेड नाइट विजन सिस्टम (शार्ट रेंज), माउंटेन फुटब्रिज, तैरने वाले ब्रिज और मार्किंग इक्युपमेंट शामिल हैं।

इसके अलावा बख्तरबंद वाहन, एंटी टेररिस्ट व्हीकल, दुश्मन को धोखा देने वाला नेट, बुलेटप्रूफ वाहन, मिसाइल का कवच, रॉकेट लॉन्चर, सैटेलाइट नेविगेशन रिसीवर और टीआर (ट्रांसमिट/रिसीव) माड्यूल को भी लिस्ट में शामिल किया गया है।

दिसंबर 2025 तक बैन हो जाएंगे 101 प्रोडक्ट्स
इस महीने की शुरुआत में रक्षा मंत्रालय ने आर्मी, एयरफोर्स और नेवी की सलाह के बाद 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। दिसंबर 2025 तक इन 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात को बैन किया जाएगा।

101 प्रोडक्ट्स की लिस्ट में सामान्य उपकरण ही नहीं बल्कि उच्च तकनीक वाले वेपन सिस्टम मसलन आर्टिलरी गन, असॉल्ट राइफल, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, एलसीएच रडार, लाइट काम्बैट एयरक्राफ्ट, लैंड-अटैक क्रूज मिसाइल (लॉन्ग रेंज) जैसे आइटम्स शामिल हैं।

सिलसिलेवार तरीके से प्रोडक्ट्स में बैन लगेगा
रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, आयात पर प्रतिबंध एक झटके में नहीं लगेगा, सिलसिलेवार दिसंबर 2025 तक यह प्रभावी होगा। इसमें 69 प्रोडक्ट्स दिसंबर-2020 के बाद विदेश से नहीं आएंगे। इसी तरह 11 प्रोडक्ट्स दिसंबर-2021 के बाद आयात के लिए बैन हो जाएंगे। बचे हुए 21 प्रोडक्ट्स दिसंबर 2022 से दिसंबर 2025 तक इस सूची में शामिल हो जाएंगे।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. भास्कर एक्सप्लेनर:सेना की बंदूक से मिसाइल तक 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के इम्पोर्ट पर लगेगा बैन; जानिए यह फैसला किस तरह डिफेंस प्रोडक्शन में भारत को आत्मनिर्भर बनाएगा?

2. स्वदेशी हथियारों से बढ़ेगी ताकत:डिफेंस सेक्टर में मेक इन इंडिया को बूस्ट करने की तैयारी; भारतीय सेना 6 नए स्वदेशी स्वाति वेपन-लोकेटिंग राडार खरीदेगी

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


यह फोटो निर्भय मिसाइल की है। निर्भय एक लंबी दूरी की सब-सोनिक क्रूज मिसाइल है। इसे डीआरडीओ ने डेवलप किया है। यह मिसाइल 1000 किलोमीटर तक मार कर सकती है।

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) ने सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को 108 डिफेंस प्रोडक्ट्स की सूची सौंपी है। अब ये प्रोडक्ट्स देश में बनाए जाएंगे। इनमें लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल और हल्के फाइटर एयरक्राफ्ट भी शामिल हैं। डीआरडीओ इनके डेवलपमेंट में लोकल इंडस्ट्रीज को भी सपोर्ट करेगा। दरअसल, रक्षा मंत्रालय ने 9 अगस्त को 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। इसका मकसद आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देना और आयात का बोझ कम करना है। लिस्ट में ये प्रोडक्ट शामिल 108 डिफेंस प्रोडक्ट्स की लिस्ट में मिनी और माइक्रो यूएवी(ड्रोन), आरओवी (पानी के अंदर चलने वाली रिमोट कंट्रोल डिवाइस), हथियारों में लगने वाले इंफ्रारेड नाइट विजन सिस्टम (शार्ट रेंज), माउंटेन फुटब्रिज, तैरने वाले ब्रिज और मार्किंग इक्युपमेंट शामिल हैं। इसके अलावा बख्तरबंद वाहन, एंटी टेररिस्ट व्हीकल, दुश्मन को धोखा देने वाला नेट, बुलेटप्रूफ वाहन, मिसाइल का कवच, रॉकेट लॉन्चर, सैटेलाइट नेविगेशन रिसीवर और टीआर (ट्रांसमिट/रिसीव) माड्यूल को भी लिस्ट में शामिल किया गया है। दिसंबर 2025 तक बैन हो जाएंगे 101 प्रोडक्ट्स इस महीने की शुरुआत में रक्षा मंत्रालय ने आर्मी, एयरफोर्स और नेवी की सलाह के बाद 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। दिसंबर 2025 तक इन 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के आयात को बैन किया जाएगा। 101 प्रोडक्ट्स की लिस्ट में सामान्य उपकरण ही नहीं बल्कि उच्च तकनीक वाले वेपन सिस्टम मसलन आर्टिलरी गन, असॉल्ट राइफल, सोनार सिस्टम, ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, एलसीएच रडार, लाइट काम्बैट एयरक्राफ्ट, लैंड-अटैक क्रूज मिसाइल (लॉन्ग रेंज) जैसे आइटम्स शामिल हैं। सिलसिलेवार तरीके से प्रोडक्ट्स में बैन लगेगा रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, आयात पर प्रतिबंध एक झटके में नहीं लगेगा, सिलसिलेवार दिसंबर 2025 तक यह प्रभावी होगा। इसमें 69 प्रोडक्ट्स दिसंबर-2020 के बाद विदेश से नहीं आएंगे। इसी तरह 11 प्रोडक्ट्स दिसंबर-2021 के बाद आयात के लिए बैन हो जाएंगे। बचे हुए 21 प्रोडक्ट्स दिसंबर 2022 से दिसंबर 2025 तक इस सूची में शामिल हो जाएंगे। ये खबरें भी पढ़ सकते हैं… 1. भास्कर एक्सप्लेनर:सेना की बंदूक से मिसाइल तक 101 डिफेंस प्रोडक्ट्स के इम्पोर्ट पर लगेगा बैन; जानिए यह फैसला किस तरह डिफेंस प्रोडक्शन में भारत को आत्मनिर्भर बनाएगा? 2. स्वदेशी हथियारों से बढ़ेगी ताकत:डिफेंस सेक्टर में मेक इन इंडिया को बूस्ट करने की तैयारी; भारतीय सेना 6 नए स्वदेशी स्वाति वेपन-लोकेटिंग राडार खरीदेगी आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

यह फोटो निर्भय मिसाइल की है। निर्भय एक लंबी दूरी की सब-सोनिक क्रूज मिसाइल है। इसे डीआरडीओ ने डेवलप किया है। यह मिसाइल 1000 किलोमीटर तक मार कर सकती है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *