कहानी उस ड्रग की जिससे रिया चक्रवर्ती का नाम जुड़ा, ये ड्रग दिमाग को बेकाबू कर देता है; 30 मिनट में शुरू हो जाता है असरDainik Bhaskar


अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग्स की एंट्री हो गई है। इससे जुड़े चैट के स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं। चैट में रिया चक्रवर्ती गौरव नाम के एक शख्स से जिस ड्रग के बारे में बात कर रही हैं, उसका नाम MDMA है।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, यह सायकोट्रॉपिक और सिंथेटिक ड्रग है। इसे लेने के बाद सबसे पहले व्यक्ति काफी खुश महसूस करता है और फिर धीरे-धीरे दिमाग से उसका कंट्रोल खोने लगता है। वह मतिभ्रम यानी हैल्युसिनेशन का शिकार हो जाता है। इसका असर ड्रग लेने के 30-45 मिनट बाद शुरू होता है और 3 से 6 घंटे तक रहता है। असर शुरू होते ही इंसान काफी एनर्जिटिक महसूस करने लगता है।

1. क्या है MDMA ड्रग?
वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हैल्थ (एशिया पैसेफिक) के डायरेक्टर सुनील मित्तल के मुताबिक, MDMA (3, 4-मेथेलीन डाई-ऑक्सी मेथाम्फेटामाइन) को स्टिम्युलेंट की कैटेगरी में रखा गया है। यह शरीर के मेटाबॉलिज्म और दिमाग से रिलीज होने हार्मोन और कैमिकल को बढ़ाता है।

2. ड्रग लेने के बाद शरीर पर क्या असर दिखता है?
सुनील मित्तल के मुताबिक, सायकोएक्टिव कम्पाउंड होने के कारण इस ड्रग को लेने के बाद इंसान खुद को एनर्जी से भरा हुआ महसूस करता है। उसकी सोच बदलने लगती है। वह बहुत ज्यादा खुश नजर आता है और अधिक बातें करने लगता है। इसका इस्तेमाल करने वाले को थकावट नहीं महसूस होती।

दिल्ली की सेंट्रल फॉरेंसिंक साइंस लैबोरेट्री की विशेषज्ञ रहीं मधुलिका शर्मा कहती हैं, यह ड्रग सीधे तौर पर दिमाग पर असर करता है। ड्रग का असर होने पर इंसान कन्फ्यूज हो जाता है, उसके सोचने की क्षमता नहीं रह जाती। हाथ कांपते हैं।

3. इसका असर खत्म होने के बाद क्या होता है?
मधुलिका शर्मा कहती हैं कि ड्रग का असर खत्म होने के बाद नर्वस सिस्टम सुस्त हो जाता है, इंसान का इस पर कंट्रोल नहीं रहता। अगर सुशांत के मामले में इस ड्रग का नाम आया है तो उसकी बॉडी की दोबारा जांच होनी चाहिए। इससे यह साफ हो सकेगा कि यह ड्रग उसके शरीर में था या नहीं।
हालांकि विसरा रिपोर्ट कहती है कि शरीर में कोई ड्रग नहीं था। लेकिन एक बार फिर इसकी जांच होती है तो बेहतर होगा। दोबारा जांच के बाद रिपोर्ट निगेटिव आती है तो इस ड्रग पर चर्चा खत्म होगी।

4. ड्रग का असर शुरू होते ही दिमाग पर कंट्रोल क्यों खत्म होने लगता है?
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन ड्रग अब्यूज के मुताबिक, ज्यादातर लोग इसे टैबलेट या कैप्सूल के रूप में लेते हैं। इसे मॉली के नाम से भी जाना जाता है। यह तीन तरह के हार्मोन की मात्रा को बढ़ाता है, जिससे धीरे-धीरे दिमाग से कंट्रोल खोने लगता है-

5. क्या बार-बार इसे लेने पर इंसान इसका आदी (एडिक्ट) हो जाता है?
MDMA ड्रग लेने पर इंसान इसका कितना आदी होगा, यह इंसान और इसकी मात्रा पर निर्भर करता है। लोग लम्बे समय तक इसे लेने पर आदी हो जाते हैं, क्योंकि इसके असर के कारण उन्हें थकान नहीं महसूस होती, भूख नहीं लगती, डिप्रेशन का अहसास नहीं होता। ये आम वजह हैं जिसके कारण इंसान इसे बार-बार लेता है।

6. MDMA का लम्बे समय तक शरीर पर क्या असर हो सकता है?
इस ड्रग की हाई डोज लेने पर शरीर की तापमान कंट्रोल करने की क्षमता पर असर पड़ता है। शरीर का तापमान अधिक बढ़ने पर लिवर, किडनी और हार्ट फेल्योर हो सकता है। या मौत भी हो सकती है।

कुछ लोग MDMA ड्रग के साथ अल्कोहल या गांजा लेते हैं, यह कॉम्बिनेशन बेहद खतरनाक है।

7. अगर कोई ड्रग का आदी हो जाता है तो इलाज क्या है?
सीधे तौर पर इसका कोई इलाज नहीं है। ऐसे लोगों को बिहेवियरल थैरेपी दी जाती है, जिससे धीरे-धीरे ड्रग की आदत से पीछा छुड़ाया जाता है। ड्रग के एडिक्शन का पूरी तरह से कैसे इलाज किया जाए, इस पर वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Rhea Chakraborty News | Rhea Chakraborty Drugs Related Investigation; All You Need To Know About WhatsApp Drug Chat Of Actress Rhea Chakraborty

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत केस में ड्रग्स की एंट्री हो गई है। इससे जुड़े चैट के स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं। चैट में रिया चक्रवर्ती गौरव नाम के एक शख्स से जिस ड्रग के बारे में बात कर रही हैं, उसका नाम MDMA है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, यह सायकोट्रॉपिक और सिंथेटिक ड्रग है। इसे लेने के बाद सबसे पहले व्यक्ति काफी खुश महसूस करता है और फिर धीरे-धीरे दिमाग से उसका कंट्रोल खोने लगता है। वह मतिभ्रम यानी हैल्युसिनेशन का शिकार हो जाता है। इसका असर ड्रग लेने के 30-45 मिनट बाद शुरू होता है और 3 से 6 घंटे तक रहता है। असर शुरू होते ही इंसान काफी एनर्जिटिक महसूस करने लगता है। 1. क्या है MDMA ड्रग? वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हैल्थ (एशिया पैसेफिक) के डायरेक्टर सुनील मित्तल के मुताबिक, MDMA (3, 4-मेथेलीन डाई-ऑक्सी मेथाम्फेटामाइन) को स्टिम्युलेंट की कैटेगरी में रखा गया है। यह शरीर के मेटाबॉलिज्म और दिमाग से रिलीज होने हार्मोन और कैमिकल को बढ़ाता है। 2. ड्रग लेने के बाद शरीर पर क्या असर दिखता है? सुनील मित्तल के मुताबिक, सायकोएक्टिव कम्पाउंड होने के कारण इस ड्रग को लेने के बाद इंसान खुद को एनर्जी से भरा हुआ महसूस करता है। उसकी सोच बदलने लगती है। वह बहुत ज्यादा खुश नजर आता है और अधिक बातें करने लगता है। इसका इस्तेमाल करने वाले को थकावट नहीं महसूस होती। दिल्ली की सेंट्रल फॉरेंसिंक साइंस लैबोरेट्री की विशेषज्ञ रहीं मधुलिका शर्मा कहती हैं, यह ड्रग सीधे तौर पर दिमाग पर असर करता है। ड्रग का असर होने पर इंसान कन्फ्यूज हो जाता है, उसके सोचने की क्षमता नहीं रह जाती। हाथ कांपते हैं। 3. इसका असर खत्म होने के बाद क्या होता है? मधुलिका शर्मा कहती हैं कि ड्रग का असर खत्म होने के बाद नर्वस सिस्टम सुस्त हो जाता है, इंसान का इस पर कंट्रोल नहीं रहता। अगर सुशांत के मामले में इस ड्रग का नाम आया है तो उसकी बॉडी की दोबारा जांच होनी चाहिए। इससे यह साफ हो सकेगा कि यह ड्रग उसके शरीर में था या नहीं। हालांकि विसरा रिपोर्ट कहती है कि शरीर में कोई ड्रग नहीं था। लेकिन एक बार फिर इसकी जांच होती है तो बेहतर होगा। दोबारा जांच के बाद रिपोर्ट निगेटिव आती है तो इस ड्रग पर चर्चा खत्म होगी। 4. ड्रग का असर शुरू होते ही दिमाग पर कंट्रोल क्यों खत्म होने लगता है? नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन ड्रग अब्यूज के मुताबिक, ज्यादातर लोग इसे टैबलेट या कैप्सूल के रूप में लेते हैं। इसे मॉली के नाम से भी जाना जाता है। यह तीन तरह के हार्मोन की मात्रा को बढ़ाता है, जिससे धीरे-धीरे दिमाग से कंट्रोल खोने लगता है- 5. क्या बार-बार इसे लेने पर इंसान इसका आदी (एडिक्ट) हो जाता है? MDMA ड्रग लेने पर इंसान इसका कितना आदी होगा, यह इंसान और इसकी मात्रा पर निर्भर करता है। लोग लम्बे समय तक इसे लेने पर आदी हो जाते हैं, क्योंकि इसके असर के कारण उन्हें थकान नहीं महसूस होती, भूख नहीं लगती, डिप्रेशन का अहसास नहीं होता। ये आम वजह हैं जिसके कारण इंसान इसे बार-बार लेता है। 6. MDMA का लम्बे समय तक शरीर पर क्या असर हो सकता है? इस ड्रग की हाई डोज लेने पर शरीर की तापमान कंट्रोल करने की क्षमता पर असर पड़ता है। शरीर का तापमान अधिक बढ़ने पर लिवर, किडनी और हार्ट फेल्योर हो सकता है। या मौत भी हो सकती है। कुछ लोग MDMA ड्रग के साथ अल्कोहल या गांजा लेते हैं, यह कॉम्बिनेशन बेहद खतरनाक है।7. अगर कोई ड्रग का आदी हो जाता है तो इलाज क्या है? सीधे तौर पर इसका कोई इलाज नहीं है। ऐसे लोगों को बिहेवियरल थैरेपी दी जाती है, जिससे धीरे-धीरे ड्रग की आदत से पीछा छुड़ाया जाता है। ड्रग के एडिक्शन का पूरी तरह से कैसे इलाज किया जाए, इस पर वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Rhea Chakraborty News | Rhea Chakraborty Drugs Related Investigation; All You Need To Know About WhatsApp Drug Chat Of Actress Rhea ChakrabortyRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *