नर्मदा उफान पर; सिवनी में 9 करोड़ का पुल बह गया, रायसेन में सरपंच कार समेत डूबा, उज्जैन में शिप्रा नदी के किनारे सभी छोटे-बड़े मंदिर डूबेDainik Bhaskar


लगातार बारिश से मध्यप्रदेश में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। राज्य के 9 जिलों के 394 से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में हैं। एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। तेज बारिश से नर्मदा रौद्र रूप ले चुकी है, तो उज्जैन में शिप्रा भी उफान पर है। घाट के सभी छोटे-बड़े मंदिर डूब गए हैं। सिवनी में बारिश की वजह से 9 करोड़ की लागत से बना पुल बह गया। रायसेन में कार डूबने से सरपंच की मौत हो गई, तो भोपाल की पॉश कॉलोनी तक में पानी भर गया। बारिश से बेहाली के 6 वीडियो….

सिवनी में उद्घाटन से पहले बह गया 300 मीटर लंबा पुल
सिवनी में 300 मीटर लंबा पुल उद्घाटन से पहले ही बह गया। पुल सिवनी जिले के सुनवारा गांव में वैनगंगा नदी पर बना था। यह पुल सुनवारा और भीमगढ़ गांव को जोड़ता था। उद्घाटन से पहले ही पुल भ्रष्टाचार की बाढ़ में बह गया।

रायसेन में सरपंच ने नदी में उतार दी कार
रायसेन के बाघ पिपरिया में तेंदुनी नदी में डूबने से सरपंच की मौत हो गई। दरअसल, सिमरोद निवासी सरपंच दर्शन सिंह धाकड़ ने नदी में इंजीनियर राजीव माने को फंसा देखा, तो उसने नदी में अपनी कार उतार दी। सरपंच नशे की हालत में था। डूबने से उसकी मौत हो गई। एनडीआरएफ ने इंजीनियर को रेस्क्यू किया।

नर्मदा खतरे के निशान से ऊपर बह रही
बारिश से नर्मदा नदी भी उफान पर है। खंडवा में नर्मदा पर बने इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर बांध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। यहां नर्मदा खतरे के निशान से 10 फीट ऊपर बह रही है। मंडलेश्वर में शिव मंदिर की सीढ़ियां डूब गईं हैं। इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर बना 106 फीट ऊंचा मोरटक्का पुल डूब चुका है। सीहोर जिले के सोमालवाड़ा में एयरफोर्स ने बाढ़ में फंसे गांववालों को रेस्क्यू किया।

शाजापुर के गांव में सड़क पर चलीं नावें

शाजापुर के अरनिया कला गांव में नाला उफनाने से निचले इलाकों में 5 से 7 फीट पानी भर गया। यहां नेहरू नगर और हरिजन बस्ती में लोग बारिश के पानी में घिर गए थे। नाव की मदद से लोगों को रेस्क्यू किया गया। जिले में चिल्लर नदी उफनाने से बिजना रोड पर बादशाही पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। उधर, उज्जैन में शिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने से यहां छोटा पुल और घाट के सभी छोटे-बड़े मंदिर डूब गए हैं।

राजधानी की पॉश कॉलोनी तक पानी
राजधानी भोपाल में पिछले 24 घंटे में 112 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश दर्ज की गई है। शाहपुरा थाने से कुछ दूर बनी पॉश कॉलोनी इंडस एंपायर में शनिवार रात 8 फीट तक पानी भर गया। कॉलोनी में रहने वाले 60 परिवारों की रात मुश्किल भरी रही। रविवार दोपहर तक पानी उतरा, तो हर तरफ गंदगी थी।

सीएम ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई दौरा किया
लगातार बारिश से नर्मदा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। होशंगाबाद, सीहोर और रायसेन के कई गांव बाढ़ से घिरे हैं। रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा कर हालात का जायजा लिया।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


शाजापुर में सड़क पर नाव चलाकर निचली बस्ती में चला रेस्क्यू ऑपरेशन।

लगातार बारिश से मध्यप्रदेश में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। राज्य के 9 जिलों के 394 से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में हैं। एयरफोर्स के हेलिकॉप्टर राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। तेज बारिश से नर्मदा रौद्र रूप ले चुकी है, तो उज्जैन में शिप्रा भी उफान पर है। घाट के सभी छोटे-बड़े मंदिर डूब गए हैं। सिवनी में बारिश की वजह से 9 करोड़ की लागत से बना पुल बह गया। रायसेन में कार डूबने से सरपंच की मौत हो गई, तो भोपाल की पॉश कॉलोनी तक में पानी भर गया। बारिश से बेहाली के 6 वीडियो…. सिवनी में उद्घाटन से पहले बह गया 300 मीटर लंबा पुल सिवनी में 300 मीटर लंबा पुल उद्घाटन से पहले ही बह गया। पुल सिवनी जिले के सुनवारा गांव में वैनगंगा नदी पर बना था। यह पुल सुनवारा और भीमगढ़ गांव को जोड़ता था। उद्घाटन से पहले ही पुल भ्रष्टाचार की बाढ़ में बह गया। रायसेन में सरपंच ने नदी में उतार दी कार रायसेन के बाघ पिपरिया में तेंदुनी नदी में डूबने से सरपंच की मौत हो गई। दरअसल, सिमरोद निवासी सरपंच दर्शन सिंह धाकड़ ने नदी में इंजीनियर राजीव माने को फंसा देखा, तो उसने नदी में अपनी कार उतार दी। सरपंच नशे की हालत में था। डूबने से उसकी मौत हो गई। एनडीआरएफ ने इंजीनियर को रेस्क्यू किया। नर्मदा खतरे के निशान से ऊपर बह रही बारिश से नर्मदा नदी भी उफान पर है। खंडवा में नर्मदा पर बने इंदिरा सागर और ओंकारेश्वर बांध से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। यहां नर्मदा खतरे के निशान से 10 फीट ऊपर बह रही है। मंडलेश्वर में शिव मंदिर की सीढ़ियां डूब गईं हैं। इंदौर-इच्छापुर हाईवे पर बना 106 फीट ऊंचा मोरटक्का पुल डूब चुका है। सीहोर जिले के सोमालवाड़ा में एयरफोर्स ने बाढ़ में फंसे गांववालों को रेस्क्यू किया। शाजापुर के गांव में सड़क पर चलीं नावें शाजापुर के अरनिया कला गांव में नाला उफनाने से निचले इलाकों में 5 से 7 फीट पानी भर गया। यहां नेहरू नगर और हरिजन बस्ती में लोग बारिश के पानी में घिर गए थे। नाव की मदद से लोगों को रेस्क्यू किया गया। जिले में चिल्लर नदी उफनाने से बिजना रोड पर बादशाही पुल के ऊपर से पानी बह रहा है। उधर, उज्जैन में शिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने से यहां छोटा पुल और घाट के सभी छोटे-बड़े मंदिर डूब गए हैं। राजधानी की पॉश कॉलोनी तक पानी राजधानी भोपाल में पिछले 24 घंटे में 112 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश दर्ज की गई है। शाहपुरा थाने से कुछ दूर बनी पॉश कॉलोनी इंडस एंपायर में शनिवार रात 8 फीट तक पानी भर गया। कॉलोनी में रहने वाले 60 परिवारों की रात मुश्किल भरी रही। रविवार दोपहर तक पानी उतरा, तो हर तरफ गंदगी थी। सीएम ने बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का हवाई दौरा किया लगातार बारिश से नर्मदा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। होशंगाबाद, सीहोर और रायसेन के कई गांव बाढ़ से घिरे हैं। रविवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा कर हालात का जायजा लिया। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

शाजापुर में सड़क पर नाव चलाकर निचली बस्ती में चला रेस्क्यू ऑपरेशन।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *