भारत ने कहा- पिछले चार महीनों से चीन के एकतरफा एक्शन की वजह से हालात बिगड़े, अब वह ईमानदारी से डिसएंगेजमेंट करेDainik Bhaskar


भारत ने कहा है कि पिछले चार महीनों से सीमा पर जो हालात बने हैं, वह चीन के एकतरफा कदमों की वजह हैं। अब चीन को चाहिए कि वह ईमानदारी से बॉर्डर पर शांति के लिए कंप्लीट डिसएंगेजमेंट करे। भारत अभी भी शांतिपूर्ण बातचीत से सभी मुद्दों को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है।

गुरुवार को भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि रूस यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस के रक्षा मंत्री से मुलाकात कर द्विपक्षीय मुद्दों पर बात करेंगे। उन्होंने कहा कि चीन के रक्षा मंत्री से उनकी मुलाकात के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है।

जाधव मामले में सरकार सभी कदम उठाएगी
कुलभूषण जाधव के मामले पर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ डिप्लोमैटिक चैनलों के जरिए संपर्क में हैं। हमारी सरकार जाधव की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाएगी। इससे पहले आज पाकिस्तान में इस्लामाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई हुई, जिसमें कोर्ट ने पाकिस्तान सरकार को जाधव के लिए वकील नियुक्त करने के लिए भारत को एक और मौका देने को कहा। हाईकोर्ट अब छह अक्टूबर को मामले की सुनवाई करेगा।

प्रेस ब्रीफिंग के प्रमुख प्वाइंट…

  • क्वाड यानी क्वड्रीलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग देशों की मीटिंग को लेकर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि यह बैठक इस साल के आखिर तक हो सकती है। इस पर काम चल रहा है। क्वाड में भारत के अलावा अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं।
  • मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बांग्लादेश कार्गो ट्रांसपोर्टेशन के लिए भारत ने दो और रूट जोड़े हैं। अब ऐसे 10 रूट हो जाएंगे। सोनमुरा-दाउदकंडी रूट से त्रिपुरा भी नेशनल वाटरवे से बांग्लादेश से कनेक्ट हो जाएगा। बांग्लादेश के दाउदकंडी से ट्रायल रन शुरू किया गया है जो पांच सितंबर को त्रिपुरा के सोनमुरा में पूरा होगा।
  • 118 चीनी एप्स पर बैन लगाने के फैसले पर मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत में एफडीआई (फॉरेन डाइरेक्ट इंवेस्टमेंट) के लिए दुनिया में सबसे खुले देशों में से एक है, इसमें इंटरनेट कंपनियां और डिजिटल टेक्नोलॉजी कंपनियां भी आती हैं। हालांकि, उनको भारत सरकार के नियमों का पालन करना होगा।

चीन की भारत से अपील

विदेश मंत्रालय का बयान सामने आने के बाद चीनी दूतावास ने कहा कि वह भारत सरकार से आग्रह करते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा के बहाने चीनी मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाकर भेदभाव वाली कार्रवाई न करें। यह डब्ल्यूटीओ के नियमों का उल्लंघन है। खुला और निष्पक्ष कारोबारी माहौल बनाएं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भारत ने कहा है कि वह अभी भी शांतिपूर्ण बातचीत से सभी मुद्दों को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है।- फाइल फोटो

भारत ने कहा है कि पिछले चार महीनों से सीमा पर जो हालात बने हैं, वह चीन के एकतरफा कदमों की वजह हैं। अब चीन को चाहिए कि वह ईमानदारी से बॉर्डर पर शांति के लिए कंप्लीट डिसएंगेजमेंट करे। भारत अभी भी शांतिपूर्ण बातचीत से सभी मुद्दों को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है। गुरुवार को भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि रूस यात्रा के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस के रक्षा मंत्री से मुलाकात कर द्विपक्षीय मुद्दों पर बात करेंगे। उन्होंने कहा कि चीन के रक्षा मंत्री से उनकी मुलाकात के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है। जाधव मामले में सरकार सभी कदम उठाएगी कुलभूषण जाधव के मामले पर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ डिप्लोमैटिक चैनलों के जरिए संपर्क में हैं। हमारी सरकार जाधव की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाएगी। इससे पहले आज पाकिस्तान में इस्लामाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई हुई, जिसमें कोर्ट ने पाकिस्तान सरकार को जाधव के लिए वकील नियुक्त करने के लिए भारत को एक और मौका देने को कहा। हाईकोर्ट अब छह अक्टूबर को मामले की सुनवाई करेगा। प्रेस ब्रीफिंग के प्रमुख प्वाइंट… क्वाड यानी क्वड्रीलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग देशों की मीटिंग को लेकर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि यह बैठक इस साल के आखिर तक हो सकती है। इस पर काम चल रहा है। क्वाड में भारत के अलावा अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान शामिल हैं।मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि बांग्लादेश कार्गो ट्रांसपोर्टेशन के लिए भारत ने दो और रूट जोड़े हैं। अब ऐसे 10 रूट हो जाएंगे। सोनमुरा-दाउदकंडी रूट से त्रिपुरा भी नेशनल वाटरवे से बांग्लादेश से कनेक्ट हो जाएगा। बांग्लादेश के दाउदकंडी से ट्रायल रन शुरू किया गया है जो पांच सितंबर को त्रिपुरा के सोनमुरा में पूरा होगा।118 चीनी एप्स पर बैन लगाने के फैसले पर मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत में एफडीआई (फॉरेन डाइरेक्ट इंवेस्टमेंट) के लिए दुनिया में सबसे खुले देशों में से एक है, इसमें इंटरनेट कंपनियां और डिजिटल टेक्नोलॉजी कंपनियां भी आती हैं। हालांकि, उनको भारत सरकार के नियमों का पालन करना होगा। चीन की भारत से अपील विदेश मंत्रालय का बयान सामने आने के बाद चीनी दूतावास ने कहा कि वह भारत सरकार से आग्रह करते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा के बहाने चीनी मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाकर भेदभाव वाली कार्रवाई न करें। यह डब्ल्यूटीओ के नियमों का उल्लंघन है। खुला और निष्पक्ष कारोबारी माहौल बनाएं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

भारत ने कहा है कि वह अभी भी शांतिपूर्ण बातचीत से सभी मुद्दों को हल करने के लिए प्रतिबद्ध है।- फाइल फोटोRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *