दुनिया की कोई भी वैक्सीन 50 फीसदी तक भी कोरोना को रोकने में असरदार नहीं, बड़े पैमाने पर टीकाकरण 2021 तक भी नहीं हो सकेगाDainik Bhaskar


विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वैक्सीन पर बड़ा बयान दिया है। संगठन का कहना है कि बड़े पैमाने पर कोरोना के टीकाकरण की उम्मीद अगले साल मध्य तक भी नहीं की जा सकती। अभी भी दुनियाभर में वैक्सीन के ट्रायल पूरे नहीं हुए हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता डॉ. मारग्रेट हैरिस ने कहा, दुनियाभर की कई वैक्सीन एडवांस स्टेज के क्लीनिकल ट्रायल में हैं। इनमें से कोई भी वैक्सीन कोरोना को रोकने में 50 फीसदी तक भी असरदार साबित नहीं हुई है। महामारी के इस दौर में किसी भी वैक्सीन से यह उम्मीद की जाती है कि यह कम से कम 50 फीसदी तो असरदार हो।

तीसरे चरण के ट्रायल में लम्बा समय लगेगा
डॉ. हैरिस के मुताबिक, रूस ने अपनी वैक्सीन का दो महीने से भी कम समय में ट्रायल पूरा करके अप्रूव कर दिया। इसकी निंदा दुनियाभर के कई वैज्ञानिकों और सरकारों ने की है। इसके अलावा अमेरिकी कम्पनी फाइजर का कहना है, उनकी वैक्सीन अक्टूबर तक लोगों तक पहुंच जाएगी।

उन्होंने कहा कि हर वैक्सीन का तीसरा चरण काफी लम्बा समय लेता है। इसके बाद ही पता चलेगा कि यह कितनी कारगर है। ऐसे में हम अगले साल के मध्य तक बड़े पैमाने पर कोरोना के टीकाकरण की उम्मीद नहीं कर सकते।

कौन सी वैक्सीन पर मानकों पर खरी, पता नहीं
डॉ. हैरिस का कहना है, दुनियाभर में जो भी वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं, उन्हें आपस में आंकड़े और परिणाम साझा करने की जरूरत है। वैक्सीन लाखों लोगों को दी जा चुकी है, लेकिन हमें यह नहीं पता कि कौन सी वैक्सीन मानकों के मुताबिक कितनी असरदार है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Big update on vaccine who says None of the vaccines have 50 percent efficacy to fight covid19 Widespread Covid Vaccination Not Expected Until Middle Of Next Year

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वैक्सीन पर बड़ा बयान दिया है। संगठन का कहना है कि बड़े पैमाने पर कोरोना के टीकाकरण की उम्मीद अगले साल मध्य तक भी नहीं की जा सकती। अभी भी दुनियाभर में वैक्सीन के ट्रायल पूरे नहीं हुए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रवक्ता डॉ. मारग्रेट हैरिस ने कहा, दुनियाभर की कई वैक्सीन एडवांस स्टेज के क्लीनिकल ट्रायल में हैं। इनमें से कोई भी वैक्सीन कोरोना को रोकने में 50 फीसदी तक भी असरदार साबित नहीं हुई है। महामारी के इस दौर में किसी भी वैक्सीन से यह उम्मीद की जाती है कि यह कम से कम 50 फीसदी तो असरदार हो। तीसरे चरण के ट्रायल में लम्बा समय लगेगा डॉ. हैरिस के मुताबिक, रूस ने अपनी वैक्सीन का दो महीने से भी कम समय में ट्रायल पूरा करके अप्रूव कर दिया। इसकी निंदा दुनियाभर के कई वैज्ञानिकों और सरकारों ने की है। इसके अलावा अमेरिकी कम्पनी फाइजर का कहना है, उनकी वैक्सीन अक्टूबर तक लोगों तक पहुंच जाएगी। उन्होंने कहा कि हर वैक्सीन का तीसरा चरण काफी लम्बा समय लेता है। इसके बाद ही पता चलेगा कि यह कितनी कारगर है। ऐसे में हम अगले साल के मध्य तक बड़े पैमाने पर कोरोना के टीकाकरण की उम्मीद नहीं कर सकते। कौन सी वैक्सीन पर मानकों पर खरी, पता नहीं डॉ. हैरिस का कहना है, दुनियाभर में जो भी वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं, उन्हें आपस में आंकड़े और परिणाम साझा करने की जरूरत है। वैक्सीन लाखों लोगों को दी जा चुकी है, लेकिन हमें यह नहीं पता कि कौन सी वैक्सीन मानकों के मुताबिक कितनी असरदार है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Big update on vaccine who says None of the vaccines have 50 percent efficacy to fight covid19 Widespread Covid Vaccination Not Expected Until Middle Of Next YearRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *