सेना ने 5 दिन में दूसरी बार चीन की मदद की, एलएसी के पास रास्ता भटके 13 याक और 4 बछड़ों को चीनी सेना को सौंपाDainik Bhaskar


लद्दाख में बढ़ते तनाव के बावजूद भारतीय सेना चीन की लगातार मदद कर रही है। सेना ने एक बार फिर मानवीयता दिखाते हुए सोमवार को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के पास भटके हुए चीनी याक और उनके बछड़ों को चीन को सौंप दिया। सेना के ईस्टर्न कमांड ने इसकी जानकारी दी। सेना के मुताबिक चीनी अधिकारियों ने इसके लिए धन्यवाद भी कहा।

सेना ने ट्वीट किया, ‘‘ह्यूमन जेस्चर के तहत, भारतीय सेना ने 7 सितंबर को 13 याक और चार बछड़ों को चीनी सेना को सौंपा। ये सभी 31 अगस्त को एलएसी पार कर अरुणाचल प्रदेश के ईस्ट कामेंग आ गए थे। चीनी अधिकारियों ने इसके लिए धन्यवाद भी दिया।’’

3 चीनी नागरिकों की भी मदद की थी
भारतीय सेना ने इससे पहले रास्ता भटक गए 3 चीनी नागरिकों की मदद भी की थी। तीन सितंबर को सिक्किम के उत्तरी इलाके में करीब 17 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर चीनी नागरिक रास्ता भटक गए थे। चीनी नागरिकों की जान को खतरे को देखते हुए भारतीय सेना तत्काल वहां पहुंची और उन्हें ऑक्सीजन और अन्य मेडिकल सहायता मुहैया कराई गई। ऊंचाई पर मुश्किल हालातों के लिए उन्हें खाना और गर्म कपड़े भी मुहैया कराए गए। (पूरी खबर पढ़ें)

चीन पर पांच लड़कों को किडनैप करने का आरोप

5 सितंबर को अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने ट्विटर पर दावा किया था कि यहां के पांच लड़कों को चीन ने अगवा कर लिया है। एरिंग ने लड़कों के नाम भी बताए थे। उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से अपील की है कि पांचों लड़कों की सुरक्षित वापसी होनी चाहिए। अरुणाचल पुलिस ने इस मामले में जांच भी शुरू कर दी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अरुणाचल प्रदेश में चीन से लगी सीमा पर चीनी सेना को याक और उनके बछड़े सौंपती भारतीय सेना।

लद्दाख में बढ़ते तनाव के बावजूद भारतीय सेना चीन की लगातार मदद कर रही है। सेना ने एक बार फिर मानवीयता दिखाते हुए सोमवार को लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के पास भटके हुए चीनी याक और उनके बछड़ों को चीन को सौंप दिया। सेना के ईस्टर्न कमांड ने इसकी जानकारी दी। सेना के मुताबिक चीनी अधिकारियों ने इसके लिए धन्यवाद भी कहा। सेना ने ट्वीट किया, ‘‘ह्यूमन जेस्चर के तहत, भारतीय सेना ने 7 सितंबर को 13 याक और चार बछड़ों को चीनी सेना को सौंपा। ये सभी 31 अगस्त को एलएसी पार कर अरुणाचल प्रदेश के ईस्ट कामेंग आ गए थे। चीनी अधिकारियों ने इसके लिए धन्यवाद भी दिया।’’ #IndianArmy#ArunachalPradesh In a humane gesture, Indian Army handed over 13 Yaks and four Calves that strayed across the LAC on 31 Aug 20 in East Kameng, Arunachal Pradesh to China on 07 Sep 20.Chinese officials present thanked Indian Army for the compassionate gesture@adgpi pic.twitter.com/9MaRpUwX5r — EasternCommand_IA (@easterncomd) September 7, 20203 चीनी नागरिकों की भी मदद की थी भारतीय सेना ने इससे पहले रास्ता भटक गए 3 चीनी नागरिकों की मदद भी की थी। तीन सितंबर को सिक्किम के उत्तरी इलाके में करीब 17 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर चीनी नागरिक रास्ता भटक गए थे। चीनी नागरिकों की जान को खतरे को देखते हुए भारतीय सेना तत्काल वहां पहुंची और उन्हें ऑक्सीजन और अन्य मेडिकल सहायता मुहैया कराई गई। ऊंचाई पर मुश्किल हालातों के लिए उन्हें खाना और गर्म कपड़े भी मुहैया कराए गए। (पूरी खबर पढ़ें) चीन पर पांच लड़कों को किडनैप करने का आरोप 5 सितंबर को अरुणाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक निनॉन्ग एरिंग ने ट्विटर पर दावा किया था कि यहां के पांच लड़कों को चीन ने अगवा कर लिया है। एरिंग ने लड़कों के नाम भी बताए थे। उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से अपील की है कि पांचों लड़कों की सुरक्षित वापसी होनी चाहिए। अरुणाचल पुलिस ने इस मामले में जांच भी शुरू कर दी है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

अरुणाचल प्रदेश में चीन से लगी सीमा पर चीनी सेना को याक और उनके बछड़े सौंपती भारतीय सेना।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *