11 घंटे में 24 किमी तक ट्रेकिंग कर हजारों फीट की ऊंचाई पर बसे गांव पहुंचे मुख्यमंत्री पेमा खांडू, यहां के 10 घरों में रहते हैं सिर्फ 50 लोगDainik Bhaskar


अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू इन दिनों तवांग जिले में अपने विधानसभा क्षेत्र मुकटो के दौरे पर हैं। इस दौरान गुरुवार को वह समुद्रतल से 14 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर बसे लुगुतांग गांव पहुंचे। यहां तक का रास्ता उन्होंने 11 घंटे में 24 किमी. तक ट्रेकिंग करते हुए तय किया। लुगुतांग गांव के लोगों से मिलने के लिए उन्हें जंगल से होकर भी गुजरना पड़ा। उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।

खांडू ने ट्वीट किया- 16 हजार फीट ऊंची कारपु-ला पहाड़ी को पार कर 14 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर स्थित लुगुतांग गांव तक का सफर काफी कठिन रहा। उन्होंने इस ट्वीट के साथ एक वीडियो भी पोस्ट किया, जिसमें वह पहाड़ियां चढ़ते नजर आ रहे हैं।

खांडू ने गांव के लोगों के साथ बैठक की

खांडू ने गांव पहुंचने के बाद वहां के लोगों के साथ बैठक की। उनसे सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं के बारे में चर्चा की। उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा- यह तय करने की कोशिश कि सरकारी योजनाएं सुदूर इलाकों में रहने वाले लोगों तक पहुंच सके। इस गांव तक सड़क के जरिए नहीं पहुंचा जा सकता। पहाड़ियों से होते हुए गांव तक पहुंचने के दौरान कारपु- ला पहाड़ी और कई पहाड़ी झीलों का मनोरम नजारा देखने को मिला।

मुख्यमंत्री ने गांव वालों के साथ दो दिन बिताए

मुख्यमंत्री के साथ तवांग के विधायक सेरिंग ताशी भी इस गांव में पहुंचे थे। यहां पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री ने गांव वालों के साथ जांगचूप स्तूप के अभिषेक में हिस्सा लिया। इस स्तूप को खांडू के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री दोर्जी खांडू के नाम पर बनवाया गया है, जिनकी 2011 के अप्रैल में लुगुतांग गांव के पास ही हेलिकॉप्टर क्रैश होने में मौत हो गई थी। वापस नीचे लौटने से पहले मुख्यमंत्री ने गांव के लोगों के साथ ही दो दिन बिताए।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू लुगुतांग गांव जाने के दौरान पहाड़ियों पर चढ़ते हुए। यह फोटो उनके ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट वीडियो से लिया गया है।

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू इन दिनों तवांग जिले में अपने विधानसभा क्षेत्र मुकटो के दौरे पर हैं। इस दौरान गुरुवार को वह समुद्रतल से 14 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर बसे लुगुतांग गांव पहुंचे। यहां तक का रास्ता उन्होंने 11 घंटे में 24 किमी. तक ट्रेकिंग करते हुए तय किया। लुगुतांग गांव के लोगों से मिलने के लिए उन्हें जंगल से होकर भी गुजरना पड़ा। उन्होंने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। खांडू ने ट्वीट किया- 16 हजार फीट ऊंची कारपु-ला पहाड़ी को पार कर 14 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर स्थित लुगुतांग गांव तक का सफर काफी कठिन रहा। उन्होंने इस ट्वीट के साथ एक वीडियो भी पोस्ट किया, जिसमें वह पहाड़ियां चढ़ते नजर आ रहे हैं। A 24 Kms trek, 11 hours of fresh air & Mother Nature at her best; crossing Karpu-La (16000 ft) to Luguthang (14500 ft) in Tawang district. A paradise untouched. @PMOIndia @HMOIndia @DefenceMinIndia @MDoNER_India @KirenRijiju @TapirGao @RebiaNabam @ChownaMeinBJP @TseringTashis pic.twitter.com/Jxh4Ymtv8K — Pema Khandu པདྨ་མཁའ་འགྲོ་། (@PemaKhanduBJP) September 10, 2020खांडू ने गांव के लोगों के साथ बैठक की खांडू ने गांव पहुंचने के बाद वहां के लोगों के साथ बैठक की। उनसे सरकार की ओर से चलाई जा रही योजनाओं के बारे में चर्चा की। उन्होंने एक दूसरे ट्वीट में कहा- यह तय करने की कोशिश कि सरकारी योजनाएं सुदूर इलाकों में रहने वाले लोगों तक पहुंच सके। इस गांव तक सड़क के जरिए नहीं पहुंचा जा सकता। पहाड़ियों से होते हुए गांव तक पहुंचने के दौरान कारपु- ला पहाड़ी और कई पहाड़ी झीलों का मनोरम नजारा देखने को मिला। मुख्यमंत्री ने गांव वालों के साथ दो दिन बिताए मुख्यमंत्री के साथ तवांग के विधायक सेरिंग ताशी भी इस गांव में पहुंचे थे। यहां पहुंचने के बाद मुख्यमंत्री ने गांव वालों के साथ जांगचूप स्तूप के अभिषेक में हिस्सा लिया। इस स्तूप को खांडू के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री दोर्जी खांडू के नाम पर बनवाया गया है, जिनकी 2011 के अप्रैल में लुगुतांग गांव के पास ही हेलिकॉप्टर क्रैश होने में मौत हो गई थी। वापस नीचे लौटने से पहले मुख्यमंत्री ने गांव के लोगों के साथ ही दो दिन बिताए। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू लुगुतांग गांव जाने के दौरान पहाड़ियों पर चढ़ते हुए। यह फोटो उनके ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट वीडियो से लिया गया है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *