भारत के कब्जे वाली ब्लैक टॉप हिल पर फिर हुई चीनी सेना की घुसपैठ? एक साल पुरानी फोटो गलत दावे के साथ वायरलDainik Bhaskar


क्या हो रहा है वायरल : सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि 11 सितंबर की रात चीनी सेना ने दोबारा एलएसी पर घुसपैठ की। दावा है कि चीनी सेना ने भारतीय सेना को ब्लैक टॉप हिल से हटाने की कोशिश की थी और इस कोशिश को भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया।

7 सितंबर को भारतीय सेना ने चीनी घुसपैठ को नाकाम करते हुए चुशूल की अहम चोटियों पर कब्जा कर लिया था। इनमें ब्लैक टॉप हिल भी शामिल है। एक सप्ताह बाद अब दावा किया जा रहा है कि चीन ने दोबारा ब्लैक टॉप हिल पर घुसपैठ की। सोशल मीडिया के अलावा News 24 वेबसाइट पर भी ये खबर पब्लिश की गई है।

और सच क्या है ?

  • अलग-अलग की वर्ड सर्च करने पर भी News 24 के अलावा किसी अन्य न्यूज वेबसाइट पर हमें ऐसी खबर नहीं मिली, जिससे पुष्टि होती हो कि 11 सितंबर की रात भारत और चीन की सेनाओं में फिर झड़प हुई।
  • पड़ताल के अगले चरण में हमने उस फोटो का सच जांचना शुरू किया, जिसे दावे के साथ उसे शेयर किया जा रहा है। फोटो में बर्फीले इलाके में भारतीय सैनिक हाथ में तिरंगा लिए खड़े दिख रहे हैं।
  • फोटो को गूगल पर रिवर्स सर्च करने से न्यूज एजेंसी ANI की वेबसाइट पर 1 साल पुरानी खबर में भी यही फोटो मिली। इससे ये स्पष्ट होता है कि फोटो का भारत-चीन सीमा पर चल रहे हालिया विवाद से कोई संबंध नहीं है।
  • ANI की खबर में फोटो के साथ दिए गए कैप्शन से पता चलता है कि ये सियाचिन ग्लैशियर में अक्टूबर, 2019 के दौरान चले स्वच्छ भारत कैंपेन की है। पीएम मोदी की अपील पर भारतीय सैनिकों ने भी इस कैंपेन में हिस्सा लिया था।
  • केंद्र सरकार की एजेंसी पीआईबी फैक्ट चेक ने सीमा पर भारत-चीन सैनिकों के बीच हुई झड़प की खबर को फेक बताया है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Fact Check: Chinese army intrusion on India’s occupied Black Top Hill again? 1 year old photo goes viral with a false claim.

क्या हो रहा है वायरल : सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि 11 सितंबर की रात चीनी सेना ने दोबारा एलएसी पर घुसपैठ की। दावा है कि चीनी सेना ने भारतीय सेना को ब्लैक टॉप हिल से हटाने की कोशिश की थी और इस कोशिश को भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया। 7 सितंबर को भारतीय सेना ने चीनी घुसपैठ को नाकाम करते हुए चुशूल की अहम चोटियों पर कब्जा कर लिया था। इनमें ब्लैक टॉप हिल भी शामिल है। एक सप्ताह बाद अब दावा किया जा रहा है कि चीन ने दोबारा ब्लैक टॉप हिल पर घुसपैठ की। सोशल मीडिया के अलावा News 24 वेबसाइट पर भी ये खबर पब्लिश की गई है। और सच क्या है ? अलग-अलग की वर्ड सर्च करने पर भी News 24 के अलावा किसी अन्य न्यूज वेबसाइट पर हमें ऐसी खबर नहीं मिली, जिससे पुष्टि होती हो कि 11 सितंबर की रात भारत और चीन की सेनाओं में फिर झड़प हुई। पड़ताल के अगले चरण में हमने उस फोटो का सच जांचना शुरू किया, जिसे दावे के साथ उसे शेयर किया जा रहा है। फोटो में बर्फीले इलाके में भारतीय सैनिक हाथ में तिरंगा लिए खड़े दिख रहे हैं।फोटो को गूगल पर रिवर्स सर्च करने से न्यूज एजेंसी ANI की वेबसाइट पर 1 साल पुरानी खबर में भी यही फोटो मिली। इससे ये स्पष्ट होता है कि फोटो का भारत-चीन सीमा पर चल रहे हालिया विवाद से कोई संबंध नहीं है।ANI की खबर में फोटो के साथ दिए गए कैप्शन से पता चलता है कि ये सियाचिन ग्लैशियर में अक्टूबर, 2019 के दौरान चले स्वच्छ भारत कैंपेन की है। पीएम मोदी की अपील पर भारतीय सैनिकों ने भी इस कैंपेन में हिस्सा लिया था। केंद्र सरकार की एजेंसी पीआईबी फैक्ट चेक ने सीमा पर भारत-चीन सैनिकों के बीच हुई झड़प की खबर को फेक बताया है। Claim: Media reports have claimed that #IndianArmy and People’s Liberation Army (PLA) engaged in fresh clashes at Pangong Tso near the #LAC on Friday night. #PIBFactCheck: This claim is #Fake. There have been no fresh clashes between @adgpi and #PLA on Friday night. pic.twitter.com/BVmqTuTJwY — PIB Fact Check (@PIBFactCheck) September 13, 2020आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Fact Check: Chinese army intrusion on India’s occupied Black Top Hill again? 1 year old photo goes viral with a false claim.Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *