अनुराग ठाकुर ने नेहरू-सोनिया गांधी परिवार पर साधा निशाना; बोले- हमने इसे जनता के लिए बनाया, आपने गांधी परिवार के लिएDainik Bhaskar


लोकसभा में शुक्रवार को केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर द्वारा पीएम केयर फंड पर दिए गए बयान को लेकर जमकर हंगामा हुआ। उन्होंने नेहरू-गांधी परिवार और पीएम नेशनल रिलीफ फंड के बीच लिंक का आरोप लगाते हुए पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के फंड बनाने के तरीके पर सवाल उठाए। इस पर कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और मंत्री से माफी की मांग की।

1948 में रॉयल ऑर्डर की तरह बनाया ट्रस्ट
अनुराग ठाकुर ने कहा कि जब आप पीएम केयर्स के लिए चर्चा करते हैं, तो कृपया पीएम नेशनल रिलीफ फंड को पढ़िए। 1948 में उस समय के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने रॉयल ऑर्डर की तरह प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष बनाने के आदेश दिए थे। आज तक यह रजिस्टर्ड नहीं हो पाया। इसे फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट (एफसीआरए) क्लीयरेंस कैसे मिला?

उन्होंने कहा कि पीएम केयर्स एक रजिस्टर्ड पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट है। यह देश की 130 करोड़ जनता के लिए है। आपने गांधी परिवार के लिए एक ट्रस्ट बनाया था। नेहरू, सोनिया गांधी इस राहत कोष के सदस्य थे।

विपक्ष की नियत खराब
अनुराग ठाकुर पीएम केयर्स फंड पर विपक्ष के सवालों पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि विपक्ष के कुछ नेताओं ने पीएम केयर फंड पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि ये ईवीएम का विरोध करते हैं, फिर कई चुनाव हारते हैं। ये जन-धन का भी विरोध करते हैं। नोट बंदी, तीन तलाक और जीएसटी का विरोध किया जाता है। उन्होंने कहा कि इन्हें हर चीज में बुराई दिखती है। सच्चाई तो यह है कि इनकी नीयत ही खराब है।

कांग्रेस ने जताई आपत्ति
सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उनकी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाते हुए पीएम केयर्स फंड पर आपत्ति नहीं उठाई थी। उन्होंने पूछा कि अनुराग ठाकुर ने पार्टी अध्यक्ष और नेहरू पर व्यक्तिगत बयान क्यों दिया।

चौधरी ने कहा कि यह लोग चेयर की गरिमा को गिराना चाहते हैं और सदन के माहौल को बिगाड़ना चाहते हैं। आप पंडित नेहरू और सोनिया गांधी को भला-बुरा क्यों कह रहे हैं? अगर आप सदन नहीं चलाना चाहते, तो आपको कार्यवाही रोक देनी चाहिए।

सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी
ठाकुर के बयान का कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने जमकर विरोध किया। उन्होंने अनुराग ठाकुर से माफी मांगने की मांग की। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदस्यों से सदन को सामान्य रूप से चलने देने का आग्रह किया, लेकिन हंगामा जारी रहा।

इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही को आधे घंटे के लिए स्थगित करना पड़ा। कार्यवाही शुरू होने के बाद विपक्ष ने फिर विरोध शुरू कर दिया और माफी की मांग को लेकर नारे लगाने लगे। इसके बाद फिर से लोकसभा कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी।

कार्यवाही शुरू होने पर मांगी माफी
4 बार लोकसभा स्थगित होने के बाद जब कार्यवाही फिर से शुरू हुई, तो अनुराग ठाकुर ने अपने बयान पर खेद जताया। उन्होंने कहा कि सदन के सामने टैक्सेशन और अन्य कानूनों के इंट्रोडक्शन के दौरान मेरा उद्देश्य किसी को चोट पहुंचाना नहीं था। अगर मेरे बयान से किसी को चोट पहुंची, तो इसका दर्द मुझे भी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के बयान के बाद लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ।

लोकसभा में शुक्रवार को केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर द्वारा पीएम केयर फंड पर दिए गए बयान को लेकर जमकर हंगामा हुआ। उन्होंने नेहरू-गांधी परिवार और पीएम नेशनल रिलीफ फंड के बीच लिंक का आरोप लगाते हुए पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के फंड बनाने के तरीके पर सवाल उठाए। इस पर कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और मंत्री से माफी की मांग की। 1948 में रॉयल ऑर्डर की तरह बनाया ट्रस्ट अनुराग ठाकुर ने कहा कि जब आप पीएम केयर्स के लिए चर्चा करते हैं, तो कृपया पीएम नेशनल रिलीफ फंड को पढ़िए। 1948 में उस समय के प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने रॉयल ऑर्डर की तरह प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष बनाने के आदेश दिए थे। आज तक यह रजिस्टर्ड नहीं हो पाया। इसे फॉरेन कंट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट (एफसीआरए) क्लीयरेंस कैसे मिला? उन्होंने कहा कि पीएम केयर्स एक रजिस्टर्ड पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट है। यह देश की 130 करोड़ जनता के लिए है। आपने गांधी परिवार के लिए एक ट्रस्ट बनाया था। नेहरू, सोनिया गांधी इस राहत कोष के सदस्य थे। विपक्ष की नियत खराब अनुराग ठाकुर पीएम केयर्स फंड पर विपक्ष के सवालों पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि विपक्ष के कुछ नेताओं ने पीएम केयर फंड पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि ये ईवीएम का विरोध करते हैं, फिर कई चुनाव हारते हैं। ये जन-धन का भी विरोध करते हैं। नोट बंदी, तीन तलाक और जीएसटी का विरोध किया जाता है। उन्होंने कहा कि इन्हें हर चीज में बुराई दिखती है। सच्चाई तो यह है कि इनकी नीयत ही खराब है। कांग्रेस ने जताई आपत्ति सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उनकी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाते हुए पीएम केयर्स फंड पर आपत्ति नहीं उठाई थी। उन्होंने पूछा कि अनुराग ठाकुर ने पार्टी अध्यक्ष और नेहरू पर व्यक्तिगत बयान क्यों दिया। चौधरी ने कहा कि यह लोग चेयर की गरिमा को गिराना चाहते हैं और सदन के माहौल को बिगाड़ना चाहते हैं। आप पंडित नेहरू और सोनिया गांधी को भला-बुरा क्यों कह रहे हैं? अगर आप सदन नहीं चलाना चाहते, तो आपको कार्यवाही रोक देनी चाहिए। सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी ठाकुर के बयान का कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस ने जमकर विरोध किया। उन्होंने अनुराग ठाकुर से माफी मांगने की मांग की। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदस्यों से सदन को सामान्य रूप से चलने देने का आग्रह किया, लेकिन हंगामा जारी रहा। इसके बाद लोकसभा की कार्यवाही को आधे घंटे के लिए स्थगित करना पड़ा। कार्यवाही शुरू होने के बाद विपक्ष ने फिर विरोध शुरू कर दिया और माफी की मांग को लेकर नारे लगाने लगे। इसके बाद फिर से लोकसभा कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। कार्यवाही शुरू होने पर मांगी माफी 4 बार लोकसभा स्थगित होने के बाद जब कार्यवाही फिर से शुरू हुई, तो अनुराग ठाकुर ने अपने बयान पर खेद जताया। उन्होंने कहा कि सदन के सामने टैक्सेशन और अन्य कानूनों के इंट्रोडक्शन के दौरान मेरा उद्देश्य किसी को चोट पहुंचाना नहीं था। अगर मेरे बयान से किसी को चोट पहुंची, तो इसका दर्द मुझे भी है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के बयान के बाद लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *