जम्मू-कश्मीर पुलिस का दावा- पाकिस्तान ने एलओसी पर रात में ड्रोन भेजे, इससे आतंकियों की मदद के लिए राइफल-पिस्टल गिराए गएDainik Bhaskar


जम्मू कश्मीर के अखनूर में बॉर्डर के पास से सुरक्षाबलों ने हथियारों की खेप बरामद की। जम्मू कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को बताया कि पाकिस्तान कश्मीर के आतंकियों तक हथियार पहुंचाने के लिए ड्रोन्स का इस्तेमाल कर रहा है।

सोमवार रात भी नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अखनूर से सटे एक गांव में हथियार गिराए गए। इनमें दो एके-47 राइफल, इसकी 90 राउंड गोलियां, तीन मैगजीन और एक स्टार पिस्टल शामिल थे। शुरुआती सबूतों से लगता है कि हथियारों को कश्मीर पहुंचाने में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की भूमिका है।

अखनूर में बॉर्डर के 12 किमी. के दायरे में दो जगहों पर हथियार मिले

इससे पहले, सुरक्षाबलों को सोमवार रात सीमा पार से आतंकियों के लिए हथियार भेजे जाने की जानकारी मिली थी। इसके बाद सर्च ऑपरेशन चलाकर सुरक्षाबलों ने हथियार बरामद किए। अखनूर में बॉर्डर के 12 किमी. के दायरे में दो जगहों पर हथियार मिले हैं।

जुलाई में भी सेना ने एक ड्रोन शूट करके गिराया था

जम्मू-कश्मीर के कठुआ के पनसर इलाके में बीएसएफ ने जुलाई में एक पाकिस्तानी ड्रोन को शूट करके गिराया था। पाकिस्तान में बने इस ड्रोन के जरिए आतंकियों को हथियार पहुंचाने की कोशिश हो रही थी। इसमें एक अमेरिकी राइफल, दो मैग्जीन और दूसरे हथियार थे। ये कंसाइनमेंट किसी अली भाई के नाम पर आया था।

पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू- कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से ही पाकिस्तान की ओर से ड्रोन के जरिए हथियार भेजने की कोशिश हो रही है। 2019 अक्टूबर में ड्रोन के जरिए आतंकियों को सैटेलाइट फोन भेजने की बात भी सामने आई थी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


जम्मू-कश्मीर के अखनूर में बॉर्डर से 12 किमी. के दायरे में दो जगहों से सुरक्षाबलों ने इन हथियारों को बरामद किया।

जम्मू कश्मीर के अखनूर में बॉर्डर के पास से सुरक्षाबलों ने हथियारों की खेप बरामद की। जम्मू कश्मीर पुलिस ने मंगलवार को बताया कि पाकिस्तान कश्मीर के आतंकियों तक हथियार पहुंचाने के लिए ड्रोन्स का इस्तेमाल कर रहा है। सोमवार रात भी नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अखनूर से सटे एक गांव में हथियार गिराए गए। इनमें दो एके-47 राइफल, इसकी 90 राउंड गोलियां, तीन मैगजीन और एक स्टार पिस्टल शामिल थे। शुरुआती सबूतों से लगता है कि हथियारों को कश्मीर पहुंचाने में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की भूमिका है। अखनूर में बॉर्डर के 12 किमी. के दायरे में दो जगहों पर हथियार मिले इससे पहले, सुरक्षाबलों को सोमवार रात सीमा पार से आतंकियों के लिए हथियार भेजे जाने की जानकारी मिली थी। इसके बाद सर्च ऑपरेशन चलाकर सुरक्षाबलों ने हथियार बरामद किए। अखनूर में बॉर्डर के 12 किमी. के दायरे में दो जगहों पर हथियार मिले हैं। जुलाई में भी सेना ने एक ड्रोन शूट करके गिराया था जम्मू-कश्मीर के कठुआ के पनसर इलाके में बीएसएफ ने जुलाई में एक पाकिस्तानी ड्रोन को शूट करके गिराया था। पाकिस्तान में बने इस ड्रोन के जरिए आतंकियों को हथियार पहुंचाने की कोशिश हो रही थी। इसमें एक अमेरिकी राइफल, दो मैग्जीन और दूसरे हथियार थे। ये कंसाइनमेंट किसी अली भाई के नाम पर आया था। पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू- कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से ही पाकिस्तान की ओर से ड्रोन के जरिए हथियार भेजने की कोशिश हो रही है। 2019 अक्टूबर में ड्रोन के जरिए आतंकियों को सैटेलाइट फोन भेजने की बात भी सामने आई थी। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

जम्मू-कश्मीर के अखनूर में बॉर्डर से 12 किमी. के दायरे में दो जगहों से सुरक्षाबलों ने इन हथियारों को बरामद किया।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *