उद्धव ने कहा- 800 एकड़ जमीन संरक्षित वन क्षेत्र घोषित; अब इसे कांजुरमार्ग में बनाया जाएगा, खर्च में इजाफा नहीं होगाDainik Bhaskar


महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को ऐलान किया कि आरे में मेट्रो कार शेड नहीं बनाया जाएगा। इसे संरक्षित वन क्षेत्र घोषित किया गया है। आरे की जगह अब कांजुरमार्ग में मेट्रो शेड का निर्माण होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जगह बदलने के बाद मेट्रो शेड बनाने के खर्च में इजाफा नहीं होगा, क्योंकि सरकार के पास यहां पहले से ही जमीन है।

पिछले साल सितंबर-अक्टूबर में आरे मेट्रो शेड के मामले ने तूल पकड़ लिया था, क्योंकि पर्यावरण एक्टिविस्ट इसका विरोध कर रहे थे। सरकार यहां 2700 पेड़ काटकर मेट्रो शेड बनाना चाहती थी। इसी बात को लेकर सरकार और एक्टिविस्ट आमने-सामने आ गए थे।

उद्धव ने कहा- बायोडायवर्सिटी की सुरक्षा जरूरी है
उद्धव ठाकरे ने कहा- मेट्रो शेड को लेकर अनिश्चितता की स्थिति अब खत्म हो चुकी है। आरे में बायोडायवर्सिटी की सुरक्षा जरूरी है। शहरी इलाके के पास यहां 800 एकड़ जंगल है। यह मुंबई का नेचुरल फॉरेस्ट कवर है। आरे में जो इमारत पहले से ही बन चुकी है, उसका इस्तेमाल किसी और सामुदायिक मकसद से किया जाएगा।

आदित्य ने पिछले महीने चलाया था अभियान
मुख्यमंत्री पहले ही आरे में मेट्रो शेड का विरोध कर रहे लोगों पर दर्ज पुलिस केस वापस लेने का आदेश दे चुके हैं। सीएम ने पिछले साल दिसंबर में इसकी घोषणा की थी। यह केस उन लोगों के खिलाफ दर्ज किए गए थे, जिन्होंने आरे में पेड़ काटने आए अधिकारियों का विरोध किया था।

पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने पिछले महीने पेड़ बचाने के लिए अभियान चलाया था। उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पृथ्वी के भविष्य के लिए यह प्रदर्शन किया था। उन आदिवासियों के लिए प्रदर्शन किया था, जो आरे को अपना घर कहते हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


मुंबई के गोरेगांव स्थित आरे फॉरेस्ट को बचाने की मुहिम में आमजन से लेकर बॉलीवुड सितारे तक शामिल रहे हैं। यह फोटो सालभर पुराना है। जब लोगों ने मेट्रो कार डिपो के निर्माण से ग्रीन बेल्ट को होने वाले नुकसान को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था। -फाइल फोटो

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को ऐलान किया कि आरे में मेट्रो कार शेड नहीं बनाया जाएगा। इसे संरक्षित वन क्षेत्र घोषित किया गया है। आरे की जगह अब कांजुरमार्ग में मेट्रो शेड का निर्माण होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जगह बदलने के बाद मेट्रो शेड बनाने के खर्च में इजाफा नहीं होगा, क्योंकि सरकार के पास यहां पहले से ही जमीन है। पिछले साल सितंबर-अक्टूबर में आरे मेट्रो शेड के मामले ने तूल पकड़ लिया था, क्योंकि पर्यावरण एक्टिविस्ट इसका विरोध कर रहे थे। सरकार यहां 2700 पेड़ काटकर मेट्रो शेड बनाना चाहती थी। इसी बात को लेकर सरकार और एक्टिविस्ट आमने-सामने आ गए थे। उद्धव ने कहा- बायोडायवर्सिटी की सुरक्षा जरूरी है उद्धव ठाकरे ने कहा- मेट्रो शेड को लेकर अनिश्चितता की स्थिति अब खत्म हो चुकी है। आरे में बायोडायवर्सिटी की सुरक्षा जरूरी है। शहरी इलाके के पास यहां 800 एकड़ जंगल है। यह मुंबई का नेचुरल फॉरेस्ट कवर है। आरे में जो इमारत पहले से ही बन चुकी है, उसका इस्तेमाल किसी और सामुदायिक मकसद से किया जाएगा। आदित्य ने पिछले महीने चलाया था अभियान मुख्यमंत्री पहले ही आरे में मेट्रो शेड का विरोध कर रहे लोगों पर दर्ज पुलिस केस वापस लेने का आदेश दे चुके हैं। सीएम ने पिछले साल दिसंबर में इसकी घोषणा की थी। यह केस उन लोगों के खिलाफ दर्ज किए गए थे, जिन्होंने आरे में पेड़ काटने आए अधिकारियों का विरोध किया था। पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने पिछले महीने पेड़ बचाने के लिए अभियान चलाया था। उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पृथ्वी के भविष्य के लिए यह प्रदर्शन किया था। उन आदिवासियों के लिए प्रदर्शन किया था, जो आरे को अपना घर कहते हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

मुंबई के गोरेगांव स्थित आरे फॉरेस्ट को बचाने की मुहिम में आमजन से लेकर बॉलीवुड सितारे तक शामिल रहे हैं। यह फोटो सालभर पुराना है। जब लोगों ने मेट्रो कार डिपो के निर्माण से ग्रीन बेल्ट को होने वाले नुकसान को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था। -फाइल फोटोRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *