भारत के लिए रवाना हुए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो; कहा, मौका देने के लिए शुक्रियाDainik Bhaskar


अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर भारत के साथ 2+2 मंत्रिस्तरीय बातचीत के लिए दिल्ली आ रहे हैं। इस दौरान रक्षा सहयोग से जुड़े अहम समझौतों पर दस्तखत हो सकते हैं। बैठक में चीन का मुद्दा छाया रह सकता है।

सोमवार को माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर बताया कि वे भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की यात्रा पर रवाना हो रहे हैं। उन्होंने इस यात्रा का मकसद सहयोगियों के साथ मुक्त और मजबूत इंडो पेसिफिक एरिया बनाने के लिए साझा लक्ष्य तैयार करना बताया। उन्होंने यह मौका देने के लिए आभार भी जताया।

भारत की ओर से इस बातचीत में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर शामिल होंगे। इस बातचीत में भारत समेत पूरे हिंद प्रशांत क्षेत्र और विश्व में स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक रणनीतिक साझेदारी बनाने पर चर्चा होगी। यह इस तरह की तीसरी बैठक है। इससे पहले 2018 में दिल्ली और 2019 में वॉशिंगटन में दोनों देशों में बातचीत हुई थी।

4 मुद्दों पर होगी बात

  1. क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग
  2. रक्षा क्षेत्र की सूचनाएं साझा करना
  3. परस्पर सैन्य बातचीत
  4. रक्षा व्यापार

चीन के साथ तनाव के बीच अहम बैठक

भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव को देखते हुए यह बैठक काफी अहम है। माना जा रहा है कि बैठक में चीन और पाकिस्तान पर ही ज्यादा फोकस किया जा सकता है। चीन से मिल रही चुनौती की वजह से अमेरिका भी उस पर ज्यादा आक्रामक है।

हाल ही में अमेरिका ने भारत से अपील की थी कि वह चीनी कंपनियों को 5G ट्रायल से बाहर रखे। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने भारत में होने वाले 5G ट्रायल से चीन की हुवावे और जेडटीई को हटाने की बात कही है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


सोमवार को माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर बताया कि वे भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की यात्रा पर रवाना हो रहे हैं।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क एस्पर भारत के साथ 2+2 मंत्रिस्तरीय बातचीत के लिए दिल्ली आ रहे हैं। इस दौरान रक्षा सहयोग से जुड़े अहम समझौतों पर दस्तखत हो सकते हैं। बैठक में चीन का मुद्दा छाया रह सकता है। सोमवार को माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर बताया कि वे भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की यात्रा पर रवाना हो रहे हैं। उन्होंने इस यात्रा का मकसद सहयोगियों के साथ मुक्त और मजबूत इंडो पेसिफिक एरिया बनाने के लिए साझा लक्ष्य तैयार करना बताया। उन्होंने यह मौका देने के लिए आभार भी जताया। Wheels up for my trip to India, Sri Lanka, Maldives, and Indonesia. Grateful for the opportunity to connect with our partners to promote a shared vision for a free and open #IndoPacific composed of independent, strong, and prosperous nations. pic.twitter.com/IoaJvtsHZC — Secretary Pompeo (@SecPompeo) October 25, 2020भारत की ओर से इस बातचीत में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर शामिल होंगे। इस बातचीत में भारत समेत पूरे हिंद प्रशांत क्षेत्र और विश्व में स्थिरता को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक रणनीतिक साझेदारी बनाने पर चर्चा होगी। यह इस तरह की तीसरी बैठक है। इससे पहले 2018 में दिल्ली और 2019 में वॉशिंगटन में दोनों देशों में बातचीत हुई थी। 4 मुद्दों पर होगी बात क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोगरक्षा क्षेत्र की सूचनाएं साझा करनापरस्पर सैन्य बातचीतरक्षा व्यापार चीन के साथ तनाव के बीच अहम बैठक भारत और चीन के बीच चल रहे तनाव को देखते हुए यह बैठक काफी अहम है। माना जा रहा है कि बैठक में चीन और पाकिस्तान पर ही ज्यादा फोकस किया जा सकता है। चीन से मिल रही चुनौती की वजह से अमेरिका भी उस पर ज्यादा आक्रामक है। हाल ही में अमेरिका ने भारत से अपील की थी कि वह चीनी कंपनियों को 5G ट्रायल से बाहर रखे। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने भारत में होने वाले 5G ट्रायल से चीन की हुवावे और जेडटीई को हटाने की बात कही है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

सोमवार को माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर बताया कि वे भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की यात्रा पर रवाना हो रहे हैं।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *