ISRO आज 3 बजकर 2 मिनट पर रडार इमेजिंग सैटेलाइट समेत 10 सैटेलाइट लॉन्च करेगाDainik Bhaskar


इंडियन स्‍पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) आज दोपहर 3 बजकर 2 मिनट पर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्‍पेस सेंटर से सैटेलाइट लॉन्‍च करेगा। इसकी तैयारियां चल रही हैं। कोरोना काल में ISRO का यह पहला सैटेलाइट लॉन्च होगा। इसमें PSLV-C49 रॉकेट अपने साथ देश का रडार इमेजिंग सैटेलाइट EOS01 और 9 दूसरे विदेशी सैटलाइट ले जाएगा।

EOS01 की क्या खासियत?
यह रडार इमेज‍िंग सैटलाइट है। इसका सिंथेटिक अपरचर रडार बादलों के पार भी देख सकेगा। यह दिन-रात और हर मौसम में फोटो ले सकेगा। इससे आसमान से देश की सीमाओं पर नजर रखने में मदद मिलेगी। साथ ही एग्रीकल्चर-फॉरेस्ट्री, मिट्टी की नमी पता करने और डिजास्टर मैनेजमेंट में भी सपोर्ट करेगा।

सोशल मीडिया पर LIVE टेलीकास्ट होगा
आज की लॉन्चिंग सफल रही तो ISRO के विदेशी सैटलाइट भेजने का आंकड़ा 328 हो जाएगा। यह ISRO का 51वां मिशन होगा। ISRO अपनी वेबसाइट, यूट्यूब चैनल, फेसबुक और ट्विटर पेज पर इसका LIVE टेलीकास्ट करेगा। विक्रम साराभाई स्पेस रिसर्च सेंटर के डायरेक्टर एस सोमनाथ ने बताया था कि PSLV-C49 के बाद दिसंबर में PSLV-C50 लॉन्च करने की योजना है। एक लॉन्च के बाद दूसरे के लिए तैयारी करने में करीब 30 दिन का वक्त लगता है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


रडार इमेजिंग सैटेलाइट से मिलिट्री सर्विलांस में मदद मिलेगी। यह सैटेलाइट रात में भी इमेज कैप्चर कर सकता है।

इंडियन स्‍पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) आज दोपहर 3 बजकर 2 मिनट पर श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्‍पेस सेंटर से सैटेलाइट लॉन्‍च करेगा। इसकी तैयारियां चल रही हैं। कोरोना काल में ISRO का यह पहला सैटेलाइट लॉन्च होगा। इसमें PSLV-C49 रॉकेट अपने साथ देश का रडार इमेजिंग सैटेलाइट EOS01 और 9 दूसरे विदेशी सैटलाइट ले जाएगा। EOS01 की क्या खासियत? यह रडार इमेज‍िंग सैटलाइट है। इसका सिंथेटिक अपरचर रडार बादलों के पार भी देख सकेगा। यह दिन-रात और हर मौसम में फोटो ले सकेगा। इससे आसमान से देश की सीमाओं पर नजर रखने में मदद मिलेगी। साथ ही एग्रीकल्चर-फॉरेस्ट्री, मिट्टी की नमी पता करने और डिजास्टर मैनेजमेंट में भी सपोर्ट करेगा। सोशल मीडिया पर LIVE टेलीकास्ट होगा आज की लॉन्चिंग सफल रही तो ISRO के विदेशी सैटलाइट भेजने का आंकड़ा 328 हो जाएगा। यह ISRO का 51वां मिशन होगा। ISRO अपनी वेबसाइट, यूट्यूब चैनल, फेसबुक और ट्विटर पेज पर इसका LIVE टेलीकास्ट करेगा। विक्रम साराभाई स्पेस रिसर्च सेंटर के डायरेक्टर एस सोमनाथ ने बताया था कि PSLV-C49 के बाद दिसंबर में PSLV-C50 लॉन्च करने की योजना है। एक लॉन्च के बाद दूसरे के लिए तैयारी करने में करीब 30 दिन का वक्त लगता है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

रडार इमेजिंग सैटेलाइट से मिलिट्री सर्विलांस में मदद मिलेगी। यह सैटेलाइट रात में भी इमेज कैप्चर कर सकता है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *