पहले फोन करके बच्चे से पिता के मोबाइल में ऐप इंस्टॉल कराया, फिर खाते से 9 लाख रु. उड़ाएDainik Bhaskar


आज के साइबर युग में ऑनलाइन धोखाधड़ी के नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में महाराष्ट्र के नागपुर के पास करोडी कस्बे में ऑनलाइन धोखाधड़ी का चौंकाने वाले मामला सामने आया है। पुलिस के मुताबिक, यहां ठगों ने पहले बच्चे को फोन करके उसके पिता के मोबाइल में एक ऐप इंस्टॉल कराया। इसके बाद पिता के बैंक अकाउंट से करीब 9 लाख रुपए उड़ा लिए। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के मुताबिक, करोडी निवासी अशोक मानवते का 15 साल का बेटा उसके मोबाइल को इस्तेमाल करता था। बीते बुधवार को एक अनजान नंबर से उसके मोबाइल पर कॉल आया। इस कॉल को अशोक के बेटे ने रिसीव किया। कॉल करने वाले ने अपने आपको एक डिजिटल पेमेंट कंपनी का कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव बताया। अशोक के मुताबिक, उनका यह मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक था।

फर्जी कस्टमर केयर और सोशल मीडिया फ्रेंड बनकर किया जा रहा फ्रॉड

213 महिलाओं के फर्जी फार्म भर प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के 10.65 लाख रुपए हड़पे

ऑनलाइन गेम खेलते समय जालसाजों व साइबर धमकी देने वालों से सावधान रहें

जिओ मार्ट की फ्रेंचाइजी के नाम पर 25 हजार से ज्यादा की ठगी

क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के बहाने इंस्टॉल कराया ऐप

अशोक ने बताया कि कॉल करने वाले ने बच्चे को उनके डिजिटल पेमेंट अकाउंट की लिमिट बढ़ाने की बात कही। इसके बाद बच्चे से मोबाइल में रिमोट डेस्कटॉप सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कराया। जैस ही बच्चे ने ऐप इंस्टॉल किया, कॉल करने वाले को मोबाइल की रिमोट एक्सेस मिल गई। इसके बाद कॉल करने वाले ने अशोक के बैंक खाते से 8.95 लाख रुपए उड़ा लिए। पुलिस ने आईपीसी के सेक्शन 419, 420 और इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

धोखाधड़ी से ऐसे करें बचाव

  • किसी भी संदेह वाले ईमेल, कॉल या मैसेज पर ध्यान ना दें।
  • किसी के साथ एटीएम पिन, नंबर और CVV नंबर साझा ना करें।
  • किसी भी ट्रांजेक्शन की OTP किसी के साथ साझा ना करें।
  • किसी अंजान आदमी को डेट ऑफ बर्थ न बताएं।
  • बैंक खातों से लिंक मोबाइल को बच्चों की पहुंच से दूर रखें।
  • अपने मोबाइल में नए ऐप इंस्टॉल पर सुरक्षा फीचर लगाएं।
  • कस्टमर केयर वालों को पर्सनल जानकारी, लास्ट ट्रांजेक्शन की डिटेल आदि की सूचना साझा ना करें।
  • किसी भी प्रकार से लालच या झांसे वाले संदेशों या कॉल्स पर एक्शन लेने से पहले खुद जानकारी लें।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


पुलिस ने शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। पीड़ित के मुताबिक, उनका यह मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक था। -प्रतीकात्मक फोटो

आज के साइबर युग में ऑनलाइन धोखाधड़ी के नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में महाराष्ट्र के नागपुर के पास करोडी कस्बे में ऑनलाइन धोखाधड़ी का चौंकाने वाले मामला सामने आया है। पुलिस के मुताबिक, यहां ठगों ने पहले बच्चे को फोन करके उसके पिता के मोबाइल में एक ऐप इंस्टॉल कराया। इसके बाद पिता के बैंक अकाउंट से करीब 9 लाख रुपए उड़ा लिए। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक, करोडी निवासी अशोक मानवते का 15 साल का बेटा उसके मोबाइल को इस्तेमाल करता था। बीते बुधवार को एक अनजान नंबर से उसके मोबाइल पर कॉल आया। इस कॉल को अशोक के बेटे ने रिसीव किया। कॉल करने वाले ने अपने आपको एक डिजिटल पेमेंट कंपनी का कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव बताया। अशोक के मुताबिक, उनका यह मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक था। फर्जी कस्टमर केयर और सोशल मीडिया फ्रेंड बनकर किया जा रहा फ्रॉड 213 महिलाओं के फर्जी फार्म भर प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के 10.65 लाख रुपए हड़पे ऑनलाइन गेम खेलते समय जालसाजों व साइबर धमकी देने वालों से सावधान रहें जिओ मार्ट की फ्रेंचाइजी के नाम पर 25 हजार से ज्यादा की ठगी क्रेडिट लिमिट बढ़ाने के बहाने इंस्टॉल कराया ऐप अशोक ने बताया कि कॉल करने वाले ने बच्चे को उनके डिजिटल पेमेंट अकाउंट की लिमिट बढ़ाने की बात कही। इसके बाद बच्चे से मोबाइल में रिमोट डेस्कटॉप सॉफ्टवेयर इंस्टॉल कराया। जैस ही बच्चे ने ऐप इंस्टॉल किया, कॉल करने वाले को मोबाइल की रिमोट एक्सेस मिल गई। इसके बाद कॉल करने वाले ने अशोक के बैंक खाते से 8.95 लाख रुपए उड़ा लिए। पुलिस ने आईपीसी के सेक्शन 419, 420 और इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। धोखाधड़ी से ऐसे करें बचाव किसी भी संदेह वाले ईमेल, कॉल या मैसेज पर ध्यान ना दें।किसी के साथ एटीएम पिन, नंबर और CVV नंबर साझा ना करें।किसी भी ट्रांजेक्शन की OTP किसी के साथ साझा ना करें।किसी अंजान आदमी को डेट ऑफ बर्थ न बताएं।बैंक खातों से लिंक मोबाइल को बच्चों की पहुंच से दूर रखें।अपने मोबाइल में नए ऐप इंस्टॉल पर सुरक्षा फीचर लगाएं।कस्टमर केयर वालों को पर्सनल जानकारी, लास्ट ट्रांजेक्शन की डिटेल आदि की सूचना साझा ना करें।किसी भी प्रकार से लालच या झांसे वाले संदेशों या कॉल्स पर एक्शन लेने से पहले खुद जानकारी लें। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

पुलिस ने शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। पीड़ित के मुताबिक, उनका यह मोबाइल नंबर बैंक अकाउंट से लिंक था। -प्रतीकात्मक फोटोRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *