गिलगित-बाल्टिस्तान चुनाव में किसी को बहुमत नहीं, इमरान की पार्टी ने 8 सीटें जीतींDainik Bhaskar


भारत के विरोध के बावजूद POK के गिलगित-बाल्टिस्तान में इमरान सरकार द्वारा कराए जा रहे चुनाव में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला। वहां विधानसभा की 24 में से 23 सीटों पर हुए चुनाव में 9 पर इमरान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) जीत चुकी है या उन पर आगे चल रही है।

जिओ टीवी के मुताबिक PTI ने 8, निर्दलीयों को 6 और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) को 5, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) को 2, जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (JIU-F) और मजलिस वहदतुल मुस्लमीन (MWM) को एक-एक सीट मिली। चुनाव में चार महिलाओं समेत कुल 330 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। मतदान खत्म होने से पहले PPP और PML-N ने PTI को फायदा पहुंचाने के लिए चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है।

2010 में PPP ने 15, जबकि 2015 में PML-N को 16 सीटें मिली थीं
गिलगित- बाल्टिस्तान में ये तीसरा चुनाव है। वहां पहला चुनाव 2010 में कराया गया था। तब PPP 15 सीटें जीतकर सत्ता में आई थी। उसके बाद 2015 के चुनाव में PML-N को 16 सीटों पर जीत मिली थी। बता दें कि इस साल की शुरुआत में पाकिस्तान के हाईकोर्ट ने इमरान सरकार को 2018 के प्रशासनिक आदेश में संशोधन करने और क्षेत्र में आम चुनाव कराने की मंजूरी दी थी। भारत ने गिलगित-बाल्टिस्‍तान में चुनाव कराने के पाकिस्तान के कदम का विरोध किया है। भारत ने कहा कि सैन्य कब्जे वाले इस क्षेत्र की स्थिति को बदलने के लिए उठाए गए कदम का कोई कानूनी आधार नहीं है।
कार्टून विवाद में चरमपंथी TLP समर्थकों ने इस्लामाबाद को फिर घेरा
फ्रांस में शुरू हुए कार्टून विवाद को लेकर पाकिस्तान में चल रहा विरोध थमता नजर नहीं आ रहा है। कार्टून के खिलाफ सोमवार को चरमपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (TLP) के समर्थकों ने एक बार फिर राजधानी इस्लामाबाद को जाम करने की कोशिश की। रावलपिंडी में TLP प्रमुख मौलाना खादिम हुसैन रिजवी के नेतृत्व में विरोध मार्च निकाला गया। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक TLP के 3 हजार से ज्यादा समर्थक रावलपिंडी से इस्लामाबाद के फैजाबाद पहुंचे जहां इलाके के बाहर ही पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर उन्हें रोक दिया।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


मतदान खत्म होने से पहले पीपीपी और पीएमएल-एन ने पीटीआई को फायदा पहुंचाने के लिए चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है।

भारत के विरोध के बावजूद POK के गिलगित-बाल्टिस्तान में इमरान सरकार द्वारा कराए जा रहे चुनाव में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला। वहां विधानसभा की 24 में से 23 सीटों पर हुए चुनाव में 9 पर इमरान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) जीत चुकी है या उन पर आगे चल रही है। जिओ टीवी के मुताबिक PTI ने 8, निर्दलीयों को 6 और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) को 5, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) को 2, जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (JIU-F) और मजलिस वहदतुल मुस्लमीन (MWM) को एक-एक सीट मिली। चुनाव में चार महिलाओं समेत कुल 330 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। मतदान खत्म होने से पहले PPP और PML-N ने PTI को फायदा पहुंचाने के लिए चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है। 2010 में PPP ने 15, जबकि 2015 में PML-N को 16 सीटें मिली थीं गिलगित- बाल्टिस्तान में ये तीसरा चुनाव है। वहां पहला चुनाव 2010 में कराया गया था। तब PPP 15 सीटें जीतकर सत्ता में आई थी। उसके बाद 2015 के चुनाव में PML-N को 16 सीटों पर जीत मिली थी। बता दें कि इस साल की शुरुआत में पाकिस्तान के हाईकोर्ट ने इमरान सरकार को 2018 के प्रशासनिक आदेश में संशोधन करने और क्षेत्र में आम चुनाव कराने की मंजूरी दी थी। भारत ने गिलगित-बाल्टिस्‍तान में चुनाव कराने के पाकिस्तान के कदम का विरोध किया है। भारत ने कहा कि सैन्य कब्जे वाले इस क्षेत्र की स्थिति को बदलने के लिए उठाए गए कदम का कोई कानूनी आधार नहीं है।कार्टून विवाद में चरमपंथी TLP समर्थकों ने इस्लामाबाद को फिर घेरा फ्रांस में शुरू हुए कार्टून विवाद को लेकर पाकिस्तान में चल रहा विरोध थमता नजर नहीं आ रहा है। कार्टून के खिलाफ सोमवार को चरमपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (TLP) के समर्थकों ने एक बार फिर राजधानी इस्लामाबाद को जाम करने की कोशिश की। रावलपिंडी में TLP प्रमुख मौलाना खादिम हुसैन रिजवी के नेतृत्व में विरोध मार्च निकाला गया। पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक TLP के 3 हजार से ज्यादा समर्थक रावलपिंडी से इस्लामाबाद के फैजाबाद पहुंचे जहां इलाके के बाहर ही पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर उन्हें रोक दिया। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

मतदान खत्म होने से पहले पीपीपी और पीएमएल-एन ने पीटीआई को फायदा पहुंचाने के लिए चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *