हरियाणा के अनिल विज पहले मंत्री, जिन्हें स्वदेशी वैक्सीन की डोज दी गईDainik Bhaskar


कोरोना से लड़ने के लिए भारत बायोटेक की कोवैक्सिन का तीसरा ट्रायल शुरू हो गया है। इस फाइनल फेज में हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को पहली डोज दी गई है। वो पहले ऐसे मंत्री बन गए हैं, जिन्हें स्वदेशी वैक्सीन दी गई है। अनिल विज ने इस ट्रायल के लिए खुद वॉलंटियर बनने की पहल की थी।

डॉ. रमेश वर्मा ने बताया कि विज को दूसरी डोज 28 दिन बाद दी जाएगी। इस दौरान एंटीबॉडी की कंडीशन की स्टडी की जाएगी। हमें उम्मीद है कि यह ट्रायल सफल रहेगा।

देश में 20 रिसर्च सेंटर पर वैक्सीन का तीसरा ट्रायल

देश के 20 रिसर्च सेंटर पर कोरोना वैक्सीन का तीसरा ट्रायल किया जा रहा है। करीब 26 हजार लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। इन सेंटरों में PGIMS रोहतक भी शामिल है। भारत बायोटेक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ मिलकर ये ट्रायल कर रहा है।

पहले दो फेज में जिन लोगों को कोरोना वैक्सीन दी गई, उनमें कोई साइड इफेक्ट नहीं नजर आया। किसी भी वॉलंटियर के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट भी नहीं है। ऐसे में इस वैक्सीन से उम्मीद बढ़ गई है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को शुक्रवार को कोवैक्सिन की डोज दी गई। मंत्री ने खुद ही वॉलंटियर बनने की पेशकश की थी।

कोरोना से लड़ने के लिए भारत बायोटेक की कोवैक्सिन का तीसरा ट्रायल शुरू हो गया है। इस फाइनल फेज में हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को पहली डोज दी गई है। वो पहले ऐसे मंत्री बन गए हैं, जिन्हें स्वदेशी वैक्सीन दी गई है। अनिल विज ने इस ट्रायल के लिए खुद वॉलंटियर बनने की पहल की थी। #WATCH Haryana Health Minister Anil Vij being administered a trial dose of #Covaxin, at a hospital in Ambala. He had offered to be the first volunteer for the third phase trial of Covaxin, which started in the state today. pic.twitter.com/xKuXWLeFAB — ANI (@ANI) November 20, 2020डॉ. रमेश वर्मा ने बताया कि विज को दूसरी डोज 28 दिन बाद दी जाएगी। इस दौरान एंटीबॉडी की कंडीशन की स्टडी की जाएगी। हमें उम्मीद है कि यह ट्रायल सफल रहेगा। देश में 20 रिसर्च सेंटर पर वैक्सीन का तीसरा ट्रायल देश के 20 रिसर्च सेंटर पर कोरोना वैक्सीन का तीसरा ट्रायल किया जा रहा है। करीब 26 हजार लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। इन सेंटरों में PGIMS रोहतक भी शामिल है। भारत बायोटेक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ मिलकर ये ट्रायल कर रहा है। पहले दो फेज में जिन लोगों को कोरोना वैक्सीन दी गई, उनमें कोई साइड इफेक्ट नहीं नजर आया। किसी भी वॉलंटियर के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट भी नहीं है। ऐसे में इस वैक्सीन से उम्मीद बढ़ गई है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को शुक्रवार को कोवैक्सिन की डोज दी गई। मंत्री ने खुद ही वॉलंटियर बनने की पेशकश की थी।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *