यूरोप के 31 देशों में संक्रमण का ज्यादा असर; यहां नॉर्थ अमेरिका के देशों से अधिक नए मरीज मिल रहेDainik Bhaskar


दुनिया के 54 देशों में कोरोना की दूसरी लहर रफ्तार पकड़ने लगी है। इसका सबसे ज्यादा असर यूरोप में देखने को मिला है। यहां हर दिन 1.90 लाख से 2.25 लाख तक नए मरीज बढ़ रहे हैं। यूरोप के 31 देश ऐसे हैं जहां संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।
इनमें 7 देश ऐसे हैं जहां 10 हजार से ज्यादा, 6 देशों में 5 हजार से ज्यादा और बाकी देशों में 500 से ज्यादा नए मरीज बढ़ रहे हैं। ये वो देश हैं जहां कोरोना की पहली लहर में 100 से 10 हजार केस तक सामने आए थे। मतलब दूसरी लहर में ठीक डबल केस सामने आ रहे हैं।

नॉर्थ अमेरिका की बात करें तो यहां इकलौता अमेरिका ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा 1.40 लाख से 1.60 लाख तक मरीज मिल रहे हैं। इसके अलावा नॉर्थ अमेरिका के 6 अन्य ऐसे देश हैं जहां 500 से 10 हजार तक मरीज हर दिन मिल रहे हैं।

6.27 करोड़ से ज्यादा मरीज हुए
दुनिया में मरीजों का आंकड़ा 6 करोड़ 27 लाख से अधिक हो चुका है। इनमें 14 लाख 61 हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि 4 करोड़ 33 लाख लोग अब तक ठीक हो चुके हैं। 1 करोड़ 79 लाख मरीज ऐसे हैं जिनका इलाज चल रहा है। ये आंकड़े www.worldometers.info के मुताबिक हैं।

फ्रांस की राजधानी पेरिस में शनिवार को एक गिफ्ट शॉप पर मौजूद ग्राहक। फ्रांस सरकार ने कुछ प्रतिबंध हटा लिए हैं। अगर हालात काबू में रहे तो बाकी प्रतिबंध भी जल्द ही हटाए जा सकते हैं। इसकी घोषणा सोमवार को की जा सकती है।

ऑस्ट्रेलिया में राहत
ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया में सख्त प्रतिबंधों का फायदा साफ तौर पर नजर आने लगा है। विक्टोरिया में लगातार 30 दिन से कोई नया केस सामने नहीं आया। इतना ही नहीं राज्य के किसी अस्पताल में फिलहाल कोई कोरोना पेशेंट एडमिट नहीं है। शनिवार को पूरे राज्य में सिर्फ 6 हजार टेस्ट ही किए गए। न्यू साउथ वेल्स में भी हालात काफी सुधार पर हैं। यहां 22 दिन से कोई नया केस नहीं मिला है। इसके अलावा किसी अस्पताल में कोई कोरोना पेशेंट फिलहाल नहीं है।

सिंगापुर: कोरोना एंटीबॉडी के साथ जन्मा बच्चा
सिंगापुर की एक महिला ने नवंबर में बच्चे को जन्म दिया है, जिसमें कोरोना की एंटीबॉडी पाई गई हैं। मार्च में प्रेग्नेंसी के दौरान महिला संक्रमित हो गई थी। इससे संक्रमण के मां से बच्चे में जाने के संकेत मिल रहे हैं। हालांकि WHO का कहना है कि ये स्पष्ट नहीं है कि गर्भवती महिला से भ्रूण या गर्भस्थ शिशु में संक्रमण जा सकता है।

सर्बिया में हालात बिगड़ रहे
सर्बिया में 2 हजार मेडिकल वर्कर्स जबर्दस्ती आइसोलेशन में भेजा गया है। बताया जा रहा है कि राजधानी बेलग्रेड के अस्पतालों में खासे मरीज पहुंच रहे हैं। सर्बियाई डॉक्टर्स यूनियन के प्रेसिडेंट रेड पेनिच के मुताबिक, मैंने अपने प्रोफेशनल करियर में ऐसी स्थिति नहीं देखी। हमारे पास अस्पतालों में रूम नहीं है।

उधर, सर्बिया से सटे बोस्निया, नॉर्थ मेसीडोनिया और मोंटेनेग्रो संक्रमण के चलते मौत के मामलों में यूरोप में टॉप पर आ गए हैं। हालांकि, यहां की सरकारें पूर्ण लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। सिर्फ मामूली प्रतिबंध ही लगाए गए हैं।

कोरोना प्रभावित टॉप-10 देशों में हालात

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 13,610,357 272,254 8,041,239
भारत 9,390,791 136,705 8,799,249
ब्राजील 6,290,272 172,637 5,562,539
रूस 2,242,633 39,068 1,739,470
फ्रांस 2,208,699 52,127 161,137
स्पेन 1,646,192 44,668 उपलब्ध नहीं
यूके 1,589,301 57,551 उपलब्ध नहीं
इटली 1,538,217 53,677 696,647
अर्जेंटीना 1,407,277 38,216 1,235,257
कोलंबिया 1,290,510 36,214 1,189,499

आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

ब्राजील में संक्रमण की रफ्तार फिर तेज

संक्रमण के मामले में तीसरे स्थान पर मौजूद ब्राजील में इसका कहर कम नहीं हो रहा। शनिवार को यहां करीब 52 हजार नए मामले सामने आए। यहां राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो अब भी हालात को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन आ जाएगी तो भी वे इसे नहीं लगवाएंगे।

ब्राजील में शनिवार को एक ही दिन में 51 हजार 922 नए मामले सामने आए। हालात कितने बेकाबू होते जा रहे हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसी दौरान 600 लोगों की मौत भी हो गई। ब्राजील में 62 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसी दौरान एक लाख 72 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

बोल्सोनारो गंभीर नहीं
ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सोनारो अब भी कोरोनावायरस की गंभीरता को समझने तैयार नहीं दिखते। एक बार फिर उन्होंने वायरस का मजाक उड़ाया। इतना ही नहीं मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को भी नकार दिया। साथ ही कहा कि अगर कोरोनावायरस की वैक्सीन आ भी गई तो वे इसे नहीं लगवाएंगे। उन्होंने कहा कि ब्राजील को वैक्सीन की कोई जरूरत नहीं है और वायरस वक्त के साथ खुद ही खत्म हो जाएगा। उन्होंने मास्क लगाने वालों की आलोचना की।

फ्रांस में क्रिसमस की तैयारियां शुरू
फ्रांस सरकार ने शनिवार को साफ कर दिया कि देश में संक्रमण के हालात पर काफी हद तक काबू पाया जा चुका है और जल्द ही लॉकडाउन पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। देश के कुछ हिस्सों में धीरे-धीरे दुकानें खुलने लगी हैं। हालांकि, रेस्टोरेंट और बार-होटल अब भी बंद हैं। पेरिस की सड़कों पर करीब चार हफ्ते बाद रौनक लौटने लगी है। 30 अक्टूबर के बाद पहली बार यहां गैर जरूरी चीजों की दुकानें भी खुलीं। लेकिन, टूरिस्ट्स की मुश्किल बरकरार है। 20 जनवरी तक यहां बार, रेस्टोरेंट्स और होटल बंद ही रहेंगे।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


फोटो ब्राजील की है। यहां रविवार को लोकल बॉडी के इलेक्शन हुए। कोरोना से बचाव के लिए कई वोटर्स इस दौरान डिजाइनदार मास्क पहने दिखे।

दुनिया के 54 देशों में कोरोना की दूसरी लहर रफ्तार पकड़ने लगी है। इसका सबसे ज्यादा असर यूरोप में देखने को मिला है। यहां हर दिन 1.90 लाख से 2.25 लाख तक नए मरीज बढ़ रहे हैं। यूरोप के 31 देश ऐसे हैं जहां संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। इनमें 7 देश ऐसे हैं जहां 10 हजार से ज्यादा, 6 देशों में 5 हजार से ज्यादा और बाकी देशों में 500 से ज्यादा नए मरीज बढ़ रहे हैं। ये वो देश हैं जहां कोरोना की पहली लहर में 100 से 10 हजार केस तक सामने आए थे। मतलब दूसरी लहर में ठीक डबल केस सामने आ रहे हैं। नॉर्थ अमेरिका की बात करें तो यहां इकलौता अमेरिका ऐसा देश है जहां सबसे ज्यादा 1.40 लाख से 1.60 लाख तक मरीज मिल रहे हैं। इसके अलावा नॉर्थ अमेरिका के 6 अन्य ऐसे देश हैं जहां 500 से 10 हजार तक मरीज हर दिन मिल रहे हैं। 6.27 करोड़ से ज्यादा मरीज हुए दुनिया में मरीजों का आंकड़ा 6 करोड़ 27 लाख से अधिक हो चुका है। इनमें 14 लाख 61 हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि 4 करोड़ 33 लाख लोग अब तक ठीक हो चुके हैं। 1 करोड़ 79 लाख मरीज ऐसे हैं जिनका इलाज चल रहा है। ये आंकड़े www.worldometers.info के मुताबिक हैं। फ्रांस की राजधानी पेरिस में शनिवार को एक गिफ्ट शॉप पर मौजूद ग्राहक। फ्रांस सरकार ने कुछ प्रतिबंध हटा लिए हैं। अगर हालात काबू में रहे तो बाकी प्रतिबंध भी जल्द ही हटाए जा सकते हैं। इसकी घोषणा सोमवार को की जा सकती है।ऑस्ट्रेलिया में राहत ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया में सख्त प्रतिबंधों का फायदा साफ तौर पर नजर आने लगा है। विक्टोरिया में लगातार 30 दिन से कोई नया केस सामने नहीं आया। इतना ही नहीं राज्य के किसी अस्पताल में फिलहाल कोई कोरोना पेशेंट एडमिट नहीं है। शनिवार को पूरे राज्य में सिर्फ 6 हजार टेस्ट ही किए गए। न्यू साउथ वेल्स में भी हालात काफी सुधार पर हैं। यहां 22 दिन से कोई नया केस नहीं मिला है। इसके अलावा किसी अस्पताल में कोई कोरोना पेशेंट फिलहाल नहीं है। सिंगापुर: कोरोना एंटीबॉडी के साथ जन्मा बच्चा सिंगापुर की एक महिला ने नवंबर में बच्चे को जन्म दिया है, जिसमें कोरोना की एंटीबॉडी पाई गई हैं। मार्च में प्रेग्नेंसी के दौरान महिला संक्रमित हो गई थी। इससे संक्रमण के मां से बच्चे में जाने के संकेत मिल रहे हैं। हालांकि WHO का कहना है कि ये स्पष्ट नहीं है कि गर्भवती महिला से भ्रूण या गर्भस्थ शिशु में संक्रमण जा सकता है। सर्बिया में हालात बिगड़ रहे सर्बिया में 2 हजार मेडिकल वर्कर्स जबर्दस्ती आइसोलेशन में भेजा गया है। बताया जा रहा है कि राजधानी बेलग्रेड के अस्पतालों में खासे मरीज पहुंच रहे हैं। सर्बियाई डॉक्टर्स यूनियन के प्रेसिडेंट रेड पेनिच के मुताबिक, मैंने अपने प्रोफेशनल करियर में ऐसी स्थिति नहीं देखी। हमारे पास अस्पतालों में रूम नहीं है। उधर, सर्बिया से सटे बोस्निया, नॉर्थ मेसीडोनिया और मोंटेनेग्रो संक्रमण के चलते मौत के मामलों में यूरोप में टॉप पर आ गए हैं। हालांकि, यहां की सरकारें पूर्ण लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। सिर्फ मामूली प्रतिबंध ही लगाए गए हैं। कोरोना प्रभावित टॉप-10 देशों में हालात देश संक्रमित मौतें ठीक हुए अमेरिका 13,610,357 272,254 8,041,239 भारत 9,390,791 136,705 8,799,249 ब्राजील 6,290,272 172,637 5,562,539 रूस 2,242,633 39,068 1,739,470 फ्रांस 2,208,699 52,127 161,137 स्पेन 1,646,192 44,668 उपलब्ध नहीं यूके 1,589,301 57,551 उपलब्ध नहीं इटली 1,538,217 53,677 696,647 अर्जेंटीना 1,407,277 38,216 1,235,257 कोलंबिया 1,290,510 36,214 1,189,499 आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं। ब्राजील में संक्रमण की रफ्तार फिर तेज संक्रमण के मामले में तीसरे स्थान पर मौजूद ब्राजील में इसका कहर कम नहीं हो रहा। शनिवार को यहां करीब 52 हजार नए मामले सामने आए। यहां राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो अब भी हालात को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन आ जाएगी तो भी वे इसे नहीं लगवाएंगे। ब्राजील में शनिवार को एक ही दिन में 51 हजार 922 नए मामले सामने आए। हालात कितने बेकाबू होते जा रहे हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसी दौरान 600 लोगों की मौत भी हो गई। ब्राजील में 62 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इसी दौरान एक लाख 72 हजार लोगों की मौत हो चुकी है। बोल्सोनारो गंभीर नहीं ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सोनारो अब भी कोरोनावायरस की गंभीरता को समझने तैयार नहीं दिखते। एक बार फिर उन्होंने वायरस का मजाक उड़ाया। इतना ही नहीं मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग को भी नकार दिया। साथ ही कहा कि अगर कोरोनावायरस की वैक्सीन आ भी गई तो वे इसे नहीं लगवाएंगे। उन्होंने कहा कि ब्राजील को वैक्सीन की कोई जरूरत नहीं है और वायरस वक्त के साथ खुद ही खत्म हो जाएगा। उन्होंने मास्क लगाने वालों की आलोचना की। फ्रांस में क्रिसमस की तैयारियां शुरू फ्रांस सरकार ने शनिवार को साफ कर दिया कि देश में संक्रमण के हालात पर काफी हद तक काबू पाया जा चुका है और जल्द ही लॉकडाउन पूरी तरह खत्म किया जा सकता है। देश के कुछ हिस्सों में धीरे-धीरे दुकानें खुलने लगी हैं। हालांकि, रेस्टोरेंट और बार-होटल अब भी बंद हैं। पेरिस की सड़कों पर करीब चार हफ्ते बाद रौनक लौटने लगी है। 30 अक्टूबर के बाद पहली बार यहां गैर जरूरी चीजों की दुकानें भी खुलीं। लेकिन, टूरिस्ट्स की मुश्किल बरकरार है। 20 जनवरी तक यहां बार, रेस्टोरेंट्स और होटल बंद ही रहेंगे। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

फोटो ब्राजील की है। यहां रविवार को लोकल बॉडी के इलेक्शन हुए। कोरोना से बचाव के लिए कई वोटर्स इस दौरान डिजाइनदार मास्क पहने दिखे।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *