नोबेल विजेता ने फोन कैमरे से कोरोना का पता लगाने वाला कोविड टेस्ट विकसित किया, 5 मिनट में रिपोर्ट देता हैDainik Bhaskar


नोबेल पुरस्कार विजेता जेनिफर डोडना ने खास तरह का कोविड टेस्ट विकसित किया है। यह 5 मिनट में बताता है कि सैम्पल में कोरोनावायरस की संख्या कितनी है। टेस्टिंग में जीन-एडिटिंग टेक्नोलॉजी और मोबाइल फोन के कैमरे का इस्तेमाल किया गया है।

जिसके लिए नोबेल मिला, उसी तकनीक से टेस्टिंग विकसित की
जर्नल ‘साइंस’ में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, कोविड टेस्ट में जिस CRISPR जीन एडिटिंग टूल का प्रयोग किया है, इसे अमेरिकी वैज्ञानिक जेनिफर डोडना ने विकसित किया है। जेनिफर को इसी के लिए इस साल केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार दिया गया है। यह टेस्ट बड़े स्तर पर लोगों के लिए उपलब्ध होता है तो घरों में कोविड टेस्टिंग करना आसान हो सकेगा।

RNA का पता लगाएगा टूल
इंसान से लिए गए सैम्पल पर जीन एडिटिंग टूल का प्रयोग किया जाता है। यह टूल बताता है कि सैम्पल में कोरोना के कितने वायरस हैं। टेस्टिंग के दौरान इस टूल की मदद से सैम्पल में कोरोना के खास तरह के RNA का पता लगाया जाता है।

टेस्ट के दौरान ही ये RNA फ्लोरोसेंट पार्टिकल्स रिलीज करता है, जो मोबाइल कैमरे की मदद से निकलने वाली लेजर लाइट के सम्पर्क में आने पर प्रकाश बिखेरता है। अगर सैम्पल में ऐसा होता है तो वायरस होने की पुष्टि होती है और रिपोर्ट पॉजिटिव आती है।

जेनिफर डोडना को इसी के लिए इस साल केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार दिया गया है।

क्विक टेस्टिंग कितनी फायदेमंद
कम से कम समय में वायरस की जांच करने वाली क्विक टेस्टिंग से ही समय पर संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। ऐसा होने पर ही इलाज तेजी से शुरू किया जा सकता है और जानें बचाई जा सकती हैं। महामारी की शुरुआत में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए टेस्ट सबसे जरूरी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Nobel Prize Winner Jennifer Doudna Develops Coronavirus (Covid-19) Test

नोबेल पुरस्कार विजेता जेनिफर डोडना ने खास तरह का कोविड टेस्ट विकसित किया है। यह 5 मिनट में बताता है कि सैम्पल में कोरोनावायरस की संख्या कितनी है। टेस्टिंग में जीन-एडिटिंग टेक्नोलॉजी और मोबाइल फोन के कैमरे का इस्तेमाल किया गया है। जिसके लिए नोबेल मिला, उसी तकनीक से टेस्टिंग विकसित की जर्नल ‘साइंस’ में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, कोविड टेस्ट में जिस CRISPR जीन एडिटिंग टूल का प्रयोग किया है, इसे अमेरिकी वैज्ञानिक जेनिफर डोडना ने विकसित किया है। जेनिफर को इसी के लिए इस साल केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार दिया गया है। यह टेस्ट बड़े स्तर पर लोगों के लिए उपलब्ध होता है तो घरों में कोविड टेस्टिंग करना आसान हो सकेगा। RNA का पता लगाएगा टूल इंसान से लिए गए सैम्पल पर जीन एडिटिंग टूल का प्रयोग किया जाता है। यह टूल बताता है कि सैम्पल में कोरोना के कितने वायरस हैं। टेस्टिंग के दौरान इस टूल की मदद से सैम्पल में कोरोना के खास तरह के RNA का पता लगाया जाता है। टेस्ट के दौरान ही ये RNA फ्लोरोसेंट पार्टिकल्स रिलीज करता है, जो मोबाइल कैमरे की मदद से निकलने वाली लेजर लाइट के सम्पर्क में आने पर प्रकाश बिखेरता है। अगर सैम्पल में ऐसा होता है तो वायरस होने की पुष्टि होती है और रिपोर्ट पॉजिटिव आती है। पढ़ें, कोरोना की कौन सी जांच कब कराएं जेनिफर डोडना को इसी के लिए इस साल केमिस्ट्री में नोबेल पुरस्कार दिया गया है।क्विक टेस्टिंग कितनी फायदेमंद कम से कम समय में वायरस की जांच करने वाली क्विक टेस्टिंग से ही समय पर संक्रमण का पता लगाया जा सकता है। ऐसा होने पर ही इलाज तेजी से शुरू किया जा सकता है और जानें बचाई जा सकती हैं। महामारी की शुरुआत में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए टेस्ट सबसे जरूरी है। पढ़ें, अब फूंक मारकर एक मिनट में कोरोना का पता लगाया जा सकता है आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Nobel Prize Winner Jennifer Doudna Develops Coronavirus (Covid-19) TestRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *