एक्सपर्ट पैनल ने सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक से वैक्सीन के ट्रायल का और डेटा मांगाDainik Bhaskar


देश में कोरोना की किसी वैक्सीन के इमरजेंसी यूज को आज अप्रूवल नहीं मिल सका। फार्मा कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट, भारत बायोटेक और फाइजर ने इसके लिए एप्लीकेशन दी है। इस पर जनरल ड्रग्स स्टेंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) के एक्सपर्ट पैनल ने बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक से उनकी कोरोना वैक्सीन का और डेटा मांगा।

यह डेटा ट्रायल के दौरान वैक्सीन की सेफ्टी और एफिकेसी से जुड़ा है। सूत्रों ने न्यूज एजेंसी PTI को बताया कि अमेरिकी कंपनी फाइजर की भारतीय इकाई की ओर से किए गए आवेदन पर बुधवार को विचार नहीं किया गया, क्योंकि उसने कमेटी के सामने प्रजेंटेशन के लिए और समय मांगा है।

एप्लीकेशन रिजेक्ट होने की खबरों को मिनिस्ट्री ने गलत बताया

भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया दोनों के एप्लीकेशन पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। इस बीच ऐसी भी खबरें आईं कि ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक का इमरजेंसी यूज के लिए अप्रूवल का एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दिया है। हालांकि कुछ देर बाद ही मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर ने इन खबरों को गलत बता दिया।

फेज-2 और फेज-3 ट्रायल का डेटा मांगा

सीरम इंस्टीट्यूट के एप्लीकेशन पर विचार करते समय एक्सपर्ट पैनल ने देश में हुए फेज-2 और फेज -3 के क्लिनिकल ट्रायल का डेटा देने के लिए कहा। इसके अलावा ब्रिटेन के मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट रेगुलेटरी एजेंसी के मूल्यांकन के नतीजों के साथ दोनों देशों में हुए ट्रायल का इम्युनोजेनेसिटी डेटा भी मांगा गया है।

हैदराबाद बेस्ड भारत बायोटेक के लिए पैनल ने सिफारिश की है कि कंपनी को देश में चल रहे फेज -3 के क्लीनिकल ट्रायल का सेफ्टी और एफिकेसी डेटा देना चाहिए।

चार दिन में तीनों कंपनियों ने एप्लाई किया

भारत बायोटेक ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को सात दिसंबर को स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन के इमरजेंसी यूज के लिए आवेदन किया था। वहीं, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ने एक दिन पहले छह दिसंबर को ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन कोवीशील्ड के लिए सहमति मांगी थी। अमेरिकी कंपनी फाइजर ने चार दिसंबर को आवेदन किया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अलग-अलग देशाें के डिप्लोमेट्स बुधवार को भारत बायोटेक के प्लांट में वैक्सीन की तैयारी देखने पहुंचे।

देश में कोरोना की किसी वैक्सीन के इमरजेंसी यूज को आज अप्रूवल नहीं मिल सका। फार्मा कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट, भारत बायोटेक और फाइजर ने इसके लिए एप्लीकेशन दी है। इस पर जनरल ड्रग्स स्टेंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) के एक्सपर्ट पैनल ने बुधवार को सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक से उनकी कोरोना वैक्सीन का और डेटा मांगा। यह डेटा ट्रायल के दौरान वैक्सीन की सेफ्टी और एफिकेसी से जुड़ा है। सूत्रों ने न्यूज एजेंसी PTI को बताया कि अमेरिकी कंपनी फाइजर की भारतीय इकाई की ओर से किए गए आवेदन पर बुधवार को विचार नहीं किया गया, क्योंकि उसने कमेटी के सामने प्रजेंटेशन के लिए और समय मांगा है। एप्लीकेशन रिजेक्ट होने की खबरों को मिनिस्ट्री ने गलत बताया The media report about the rejection of Serum Institute and Bharat Biotech’s emergency use authorisation of vaccine is fake: Ministry of Health & Family Welfare pic.twitter.com/vysHrU43hi — ANI (@ANI) December 9, 2020भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया दोनों के एप्लीकेशन पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। इस बीच ऐसी भी खबरें आईं कि ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक का इमरजेंसी यूज के लिए अप्रूवल का एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दिया है। हालांकि कुछ देर बाद ही मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर ने इन खबरों को गलत बता दिया। फेज-2 और फेज-3 ट्रायल का डेटा मांगा सीरम इंस्टीट्यूट के एप्लीकेशन पर विचार करते समय एक्सपर्ट पैनल ने देश में हुए फेज-2 और फेज -3 के क्लिनिकल ट्रायल का डेटा देने के लिए कहा। इसके अलावा ब्रिटेन के मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट रेगुलेटरी एजेंसी के मूल्यांकन के नतीजों के साथ दोनों देशों में हुए ट्रायल का इम्युनोजेनेसिटी डेटा भी मांगा गया है। हैदराबाद बेस्ड भारत बायोटेक के लिए पैनल ने सिफारिश की है कि कंपनी को देश में चल रहे फेज -3 के क्लीनिकल ट्रायल का सेफ्टी और एफिकेसी डेटा देना चाहिए। चार दिन में तीनों कंपनियों ने एप्लाई किया भारत बायोटेक ने ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को सात दिसंबर को स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन के इमरजेंसी यूज के लिए आवेदन किया था। वहीं, पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ने एक दिन पहले छह दिसंबर को ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन कोवीशील्ड के लिए सहमति मांगी थी। अमेरिकी कंपनी फाइजर ने चार दिसंबर को आवेदन किया था। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

अलग-अलग देशाें के डिप्लोमेट्स बुधवार को भारत बायोटेक के प्लांट में वैक्सीन की तैयारी देखने पहुंचे।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *