चीफ जस्टिस बोबडे की बीमार मां के साथ ढाई करोड़ की धोखाधड़ी; मैरिज गार्डन का काम देखता था आरोपीDainik Bhaskar


चीफ जस्टिस एसए बोबडे की मां की पारिवारिक संपत्ति की देखभाल करने वाले एक व्यक्ति काे ढाई करोड़ रुपए की धाेखाधड़ी के आराेप में गिरफ्तार किया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी तापस घोष को 8 दिसंबर की रात गिरफ्तार कर लिया गया था। नागपुर पुलिस का एक विशेष जांच दल (SIT) DCP विनीता साहू के नेतृत्व में मामले की छानबीन कर रहा है।

मैरिज हॉल की देखरेख करता था आरोपी
अधिकारी ने कहा कि आकाशवाणी चौक के पास बोबडे परिवार के आवास से सटी हुई उनकी संपत्ति है, जिसका नाम ‘सीडन लॉन’ है। उन्होंने कहा कि शादियाें जैसे कई आयोजनों पर इसे किराए पर दिया जाता है। जस्टिस बोबडे की मां मुक्ता इस संपत्ति की मालिक हैं और घोष को इसकी देखभाल करने के लिए नियुक्त किया गया था।

घोष पिछले दस साल से संपत्ति का मैनेजमेंट संभाल रहा था और वित्तीय लेनदेन देख रहा था। मुक्ता बोबडे की उम्र और गिरते स्वास्थ्य का फायदा उठाकर घोष ने कथित तौर पर लॉन की फर्जी रसीदें बनाईं और ढाई करोड़ रुपए का घपला किया। लाॅकडाउन के दाैरान बुकिंग रद्द हाेने के बाद भी लाेगाें के पैसे न लाैटाने के बाद पूरा मामला सामने आया। अगस्त में मुक्ता ने धाेखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद जांच टीम बनाई गई।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबडे (बाएं) की मां मुक्ता बीमार हैं। वे नागपुर में रहती हैं। धोखाधड़ी करने वाला आरोपी 10 साल से उनकी संपत्ति की देखरेख कर रहा था। (फाइल फोटो)

चीफ जस्टिस एसए बोबडे की मां की पारिवारिक संपत्ति की देखभाल करने वाले एक व्यक्ति काे ढाई करोड़ रुपए की धाेखाधड़ी के आराेप में गिरफ्तार किया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी तापस घोष को 8 दिसंबर की रात गिरफ्तार कर लिया गया था। नागपुर पुलिस का एक विशेष जांच दल (SIT) DCP विनीता साहू के नेतृत्व में मामले की छानबीन कर रहा है। मैरिज हॉल की देखरेख करता था आरोपी अधिकारी ने कहा कि आकाशवाणी चौक के पास बोबडे परिवार के आवास से सटी हुई उनकी संपत्ति है, जिसका नाम ‘सीडन लॉन’ है। उन्होंने कहा कि शादियाें जैसे कई आयोजनों पर इसे किराए पर दिया जाता है। जस्टिस बोबडे की मां मुक्ता इस संपत्ति की मालिक हैं और घोष को इसकी देखभाल करने के लिए नियुक्त किया गया था। घोष पिछले दस साल से संपत्ति का मैनेजमेंट संभाल रहा था और वित्तीय लेनदेन देख रहा था। मुक्ता बोबडे की उम्र और गिरते स्वास्थ्य का फायदा उठाकर घोष ने कथित तौर पर लॉन की फर्जी रसीदें बनाईं और ढाई करोड़ रुपए का घपला किया। लाॅकडाउन के दाैरान बुकिंग रद्द हाेने के बाद भी लाेगाें के पैसे न लाैटाने के बाद पूरा मामला सामने आया। अगस्त में मुक्ता ने धाेखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद जांच टीम बनाई गई। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

चीफ जस्टिस शरद अरविंद बोबडे (बाएं) की मां मुक्ता बीमार हैं। वे नागपुर में रहती हैं। धोखाधड़ी करने वाला आरोपी 10 साल से उनकी संपत्ति की देखरेख कर रहा था। (फाइल फोटो)Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *