41 वायसराय, 14 प्रधानमंत्री और 17 सरकारें बदलीं, पर फसलों की कीमत का मुद्दा जस का तसDainik Bhaskar


दिल्ली में 14 दिन से चल रहे किसान आंदोलन के आक्रोश की जड़ें 211 साल पुरानी हैं। सबूत हैं अग्रेजों के जमाने के वो दस्तावेज, जो कहते हैं कि किसानों के बारे में देश में सबसे पहला अध्ययन 1879 में सामने आया था। तब वायसराय रहे लॉर्ड मेयो (1869 से 1872) के आदेश पर एओ ह्यूम द्वारा तैयार एक रिपोर्ट में कहा गया था कि किसान पिछले 70 सालों से अपनी फसलों की सही कीमत के लिए जूझ रहे हैं।

इसका निष्कर्ष ये था कि किसानों की आधी उपज बिचौलिये, सरकारी लोग और बड़े जमींदार ले जाते हैं। किसानों को बमुश्किल छठा हिस्सा मिल पाता है। तब से अब तक देश में 41 वायसराय-गवर्नर जनरल, 14 प्रधानमंत्री और देश की 17 सरकारें बदल चुकी हैं, लेकिन हालात वहीं के वहीं हैं। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि जो समस्याएं 211 साल में दूर नहीं हो पाईं, वे 14 दिन के आंदोलन से कैसे दूर होंगी?

किसानों के बारे में देश की सबसे पहली रिपोर्ट में ये बातें सामने आईं

3 समाधान: जो तब सुझाए गए थे, पर अब तक नहीं हुआ

1. अधिकारी किसानों को हर रोज 10 घंटे दें
विभाग के काबिल सलाहकार दफ्तरों में नहीं, किसानों के बीच रहकर समस्याएं मिटाएं। रोजाना उन्हें दस घंटे दें। दस साल तक एक इलाके में रहें। कृषि कॉलेज खोलें। किसानों से वैज्ञानिक और वैज्ञानिकों से किसान सीखें।

2. किसानों को कला, विज्ञान, उद्योग से जोड़ें
किसानों को उद्योगों, विज्ञान और कला से जोड़ें। यूरोप, अमेरिका व ऑस्ट्रेलिया में उनके उत्पादों का प्रदर्शन करें। खेतों को उद्योगों से जोड़ें। मौसम की जानकारी उन्हें हर रोज दी जाए। गांव-गांव बोटेनिकल गार्डन तैयार करें।

3. कॉलेजों से ज्यादा कृषि संस्थान बनवाएं
भारत में लॉ, शिक्षा के कॉलेजों-विवि से भी अधिक जरूरी कृषि संस्थान हैं, जो किसानों की मदद करें। स्कूलों में कृषि, बॉटनी, एग्रो केमिस्ट्री, वेजिटेबल फिजिओलॉजी और जिओलॉजी पढ़ाएं। प्रैक्टिकल शिक्षा जरूरी है।

3 ताकतें: जो किसानों के पास तब भी थीं, आज भी

1. इस देश के किसान दुनिया में सबसे अनुभवी
खेती के 3000 साल के अनुभवी इन किसानों के सामने इंग्लैंड के किसान कुछ नहीं हैं। आप ऊपर के गांवों को देखें। गेहूं का ठाठें मारता समुद्र। सैकड़ों मील गेहूं के खेतों में खरपतवार तो दूर, घास तक भी नहीं है।

2. आंधी-तूफान के बारे में सटीक अंदाजा
मौसम के बारे में ऐसे पारंगत कि आंधी, तूफान और ओलावृष्टि तक का उन्हें बोध है। कौन से पौधों को कितने समय तक रखें, उनके फसलों के पकने के ज्ञान पर आश्चर्य होता है। ग्रहों और सितारों की भी गजब जानकारी।

3. फसल कब, कहां उगानी है, इसमें महारथ
भारत के किसानों को कौनसी फसल कब, कहां, कितनी और क्यों बोएं, इस सबमें महारथ। अनाजों के भंडारण में माहिर हैं। बीस साल बाद भी एक-एक दाना दमकता मिलता है। पशु चिकित्सा में भी कुशल हैं।

मेयो की सौंपी रिपोर्ट में ह्यूम ने जो लिखा था, वो आज भी सटीक
ह्यूम ने यह रिपोर्ट 1 जुलाई 1879 को तत्कालीन वायसराय लॉर्ड मेयो को सौंपी थी। इसमें भारतीय किसानों की तारीफों के साथ-साथ ह्यूम ने लिखा था- ‘कितना शर्मनाक है कि ये किसान 70 साल से एक समस्या से रूबरू हैं और हल नहीं निकला। क्या हम इन्हें तबाह होने देंगे? क्या अपनी आर्थिक धमनियों को ऐसे बर्बाद होने दें? कोई अपनी आंखों के सामने सोने के अंडे देने वाली हंसिनी को दम तोड़ते कैसे देख सकता है?’ ह्यूम के अनुसार मेयो अकेले वायसराय थे, जो खुद किसान थे, इसलिए उन्होंने ये अध्ययन कराया था।

कौन थे ह्यूम?
एओ ह्यूम तत्कालीन भारत में कृषि, राजस्व और वाणिज्य सचिव के पद पर थे। उन्होंने ही इस रिपोर्ट के छह साल बाद यानी 1885 में कांग्रेस की स्थापना करवाई। वे जानते थे कि फसलों का पूरा मूल्य नहीं मिलने और बिचौलियों व बड़े जमींदारों की लूट के चलते किसानों में भारी नाराजगी है, जो अंग्रेजी शासन को उखाड़ सकती है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


41 Viceroys, 14 Prime Ministers and 17 Governments changed, but the issue of the price of crops remains the same

दिल्ली में 14 दिन से चल रहे किसान आंदोलन के आक्रोश की जड़ें 211 साल पुरानी हैं। सबूत हैं अग्रेजों के जमाने के वो दस्तावेज, जो कहते हैं कि किसानों के बारे में देश में सबसे पहला अध्ययन 1879 में सामने आया था। तब वायसराय रहे लॉर्ड मेयो (1869 से 1872) के आदेश पर एओ ह्यूम द्वारा तैयार एक रिपोर्ट में कहा गया था कि किसान पिछले 70 सालों से अपनी फसलों की सही कीमत के लिए जूझ रहे हैं। इसका निष्कर्ष ये था कि किसानों की आधी उपज बिचौलिये, सरकारी लोग और बड़े जमींदार ले जाते हैं। किसानों को बमुश्किल छठा हिस्सा मिल पाता है। तब से अब तक देश में 41 वायसराय-गवर्नर जनरल, 14 प्रधानमंत्री और देश की 17 सरकारें बदल चुकी हैं, लेकिन हालात वहीं के वहीं हैं। ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि जो समस्याएं 211 साल में दूर नहीं हो पाईं, वे 14 दिन के आंदोलन से कैसे दूर होंगी? किसानों के बारे में देश की सबसे पहली रिपोर्ट में ये बातें सामने आईं 3 समाधान: जो तब सुझाए गए थे, पर अब तक नहीं हुआ 1. अधिकारी किसानों को हर रोज 10 घंटे दें विभाग के काबिल सलाहकार दफ्तरों में नहीं, किसानों के बीच रहकर समस्याएं मिटाएं। रोजाना उन्हें दस घंटे दें। दस साल तक एक इलाके में रहें। कृषि कॉलेज खोलें। किसानों से वैज्ञानिक और वैज्ञानिकों से किसान सीखें। 2. किसानों को कला, विज्ञान, उद्योग से जोड़ें किसानों को उद्योगों, विज्ञान और कला से जोड़ें। यूरोप, अमेरिका व ऑस्ट्रेलिया में उनके उत्पादों का प्रदर्शन करें। खेतों को उद्योगों से जोड़ें। मौसम की जानकारी उन्हें हर रोज दी जाए। गांव-गांव बोटेनिकल गार्डन तैयार करें। 3. कॉलेजों से ज्यादा कृषि संस्थान बनवाएं भारत में लॉ, शिक्षा के कॉलेजों-विवि से भी अधिक जरूरी कृषि संस्थान हैं, जो किसानों की मदद करें। स्कूलों में कृषि, बॉटनी, एग्रो केमिस्ट्री, वेजिटेबल फिजिओलॉजी और जिओलॉजी पढ़ाएं। प्रैक्टिकल शिक्षा जरूरी है। 3 ताकतें: जो किसानों के पास तब भी थीं, आज भी 1. इस देश के किसान दुनिया में सबसे अनुभवी खेती के 3000 साल के अनुभवी इन किसानों के सामने इंग्लैंड के किसान कुछ नहीं हैं। आप ऊपर के गांवों को देखें। गेहूं का ठाठें मारता समुद्र। सैकड़ों मील गेहूं के खेतों में खरपतवार तो दूर, घास तक भी नहीं है। 2. आंधी-तूफान के बारे में सटीक अंदाजा मौसम के बारे में ऐसे पारंगत कि आंधी, तूफान और ओलावृष्टि तक का उन्हें बोध है। कौन से पौधों को कितने समय तक रखें, उनके फसलों के पकने के ज्ञान पर आश्चर्य होता है। ग्रहों और सितारों की भी गजब जानकारी। 3. फसल कब, कहां उगानी है, इसमें महारथ भारत के किसानों को कौनसी फसल कब, कहां, कितनी और क्यों बोएं, इस सबमें महारथ। अनाजों के भंडारण में माहिर हैं। बीस साल बाद भी एक-एक दाना दमकता मिलता है। पशु चिकित्सा में भी कुशल हैं। मेयो की सौंपी रिपोर्ट में ह्यूम ने जो लिखा था, वो आज भी सटीक ह्यूम ने यह रिपोर्ट 1 जुलाई 1879 को तत्कालीन वायसराय लॉर्ड मेयो को सौंपी थी। इसमें भारतीय किसानों की तारीफों के साथ-साथ ह्यूम ने लिखा था- ‘कितना शर्मनाक है कि ये किसान 70 साल से एक समस्या से रूबरू हैं और हल नहीं निकला। क्या हम इन्हें तबाह होने देंगे? क्या अपनी आर्थिक धमनियों को ऐसे बर्बाद होने दें? कोई अपनी आंखों के सामने सोने के अंडे देने वाली हंसिनी को दम तोड़ते कैसे देख सकता है?’ ह्यूम के अनुसार मेयो अकेले वायसराय थे, जो खुद किसान थे, इसलिए उन्होंने ये अध्ययन कराया था। कौन थे ह्यूम? एओ ह्यूम तत्कालीन भारत में कृषि, राजस्व और वाणिज्य सचिव के पद पर थे। उन्होंने ही इस रिपोर्ट के छह साल बाद यानी 1885 में कांग्रेस की स्थापना करवाई। वे जानते थे कि फसलों का पूरा मूल्य नहीं मिलने और बिचौलियों व बड़े जमींदारों की लूट के चलते किसानों में भारी नाराजगी है, जो अंग्रेजी शासन को उखाड़ सकती है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

41 Viceroys, 14 Prime Ministers and 17 Governments changed, but the issue of the price of crops remains the sameRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *