संक्रमित जवानों का आंकड़ा 50 हजार के पार, CRPF के सबसे ज्यादा 14 हजार जवान संक्रमितDainik Bhaskar


भारत में कोविड-19 की लड़ाई में फ्रंटलाइन पर काम कर रहे अर्धसैनिक बलों (CAPF) में संक्रमितों का आंकड़ा 50 हजार के पार हो गया है। यह गोवा, हिमाचल प्रदेश और पुडुचेरी जैसे राज्यों में मिले संक्रमितों की संख्या से ज्यादा है। 10 दिसंबर तक सेंट्रल रिजर्व पुलिस (CRPF) और सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (CISF) समेत दूसरे केंद्रीय फोर्सेज के 50 हजार 10 जवान संक्रमित मिले हैं। अब तक 185 जवानों की मौत भी हुई है। फिलहाल, देश के केंद्रीय बलों में 10 लाख से ज्यादा जवान अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इनमें सीआईएसएफ जवानों की संख्या सबसे ज्यादा है।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, सबसे ज्यादा CRPF के जवान संक्रमण की चपेट में आए हैं। अब तक इसके 14 हजार 461 जवान पॉजिटिव मिले हैं। इसके 75 जवानों की मौत भी हुई है। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) संक्रमण के मामले में दूसरे नंबर पर है। इसके 14 हजार 101 जवान संक्रमित हुए हैं और 44 की मौत हुई है। BSF देश की दूसरी सबसे बड़ी पारा मिलिट्री फोर्स है।

NSG कमांडो सबसे ज्यादा सुरक्षित

CISF के 10 हजार 430 जवान संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 558 का इलाज जारी है। इसके 40 संक्रमित जवानों की जान गई है। CISF देश के ज्यादातर एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, मेट्रो और सरकारी बिल्डिंगों की सुरक्षा में तैनात होते हैं। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) में 5458 और और इंडो तिब्बतन पुलिस (आईटीबीपी) बल में 4953 संक्रमित मिले हैं। देश के VIP लोगों की सुरक्षा में लगे नेशनल सिक्योरिटी ग्रुप (NSG) कमांडों में संक्रमण सबसे कम है। अब तक इसके सिर्फ 329 कमांडोज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और एक भी मौत नहीं हुई है।

केंद्रीय बलों को वैक्सीन लगाई जाएगी
कोरोना का टीका बनाने का काम तेजी से चल रहा है। भारत में 8 वैक्सीन तैयार की जा रही हैं। केंद्र सरकार ने वैक्सीन बनने पर केंद्रीय फोर्सेज को इसे लगवाने का फैसला किया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने हाल ही में इसके लिए देश के सभी सेंट्रल फोर्सेज के प्रमुखों के साथ बैठक की थी। गृह मंत्रालय ने सभी केंद्रीय बलों को फ्रंटलाइन वर्कर पर सेवा देने वाले जवानों का ब्यौरा मांगा है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अर्धसैनिक बलों की तैनाती संवेदनशील क्षेत्रों जैसे- जम्मू-कश्मीर, भारत-पाकिस्तान बॉर्डर, भारत-बांग्लादेश बॉर्डर और नक्सल क्षेत्र में होती है।- फाइल फोटो

भारत में कोविड-19 की लड़ाई में फ्रंटलाइन पर काम कर रहे अर्धसैनिक बलों (CAPF) में संक्रमितों का आंकड़ा 50 हजार के पार हो गया है। यह गोवा, हिमाचल प्रदेश और पुडुचेरी जैसे राज्यों में मिले संक्रमितों की संख्या से ज्यादा है। 10 दिसंबर तक सेंट्रल रिजर्व पुलिस (CRPF) और सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (CISF) समेत दूसरे केंद्रीय फोर्सेज के 50 हजार 10 जवान संक्रमित मिले हैं। अब तक 185 जवानों की मौत भी हुई है। फिलहाल, देश के केंद्रीय बलों में 10 लाख से ज्यादा जवान अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इनमें सीआईएसएफ जवानों की संख्या सबसे ज्यादा है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, सबसे ज्यादा CRPF के जवान संक्रमण की चपेट में आए हैं। अब तक इसके 14 हजार 461 जवान पॉजिटिव मिले हैं। इसके 75 जवानों की मौत भी हुई है। बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) संक्रमण के मामले में दूसरे नंबर पर है। इसके 14 हजार 101 जवान संक्रमित हुए हैं और 44 की मौत हुई है। BSF देश की दूसरी सबसे बड़ी पारा मिलिट्री फोर्स है। NSG कमांडो सबसे ज्यादा सुरक्षित CISF के 10 हजार 430 जवान संक्रमित पाए गए हैं। इनमें से 558 का इलाज जारी है। इसके 40 संक्रमित जवानों की जान गई है। CISF देश के ज्यादातर एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, मेट्रो और सरकारी बिल्डिंगों की सुरक्षा में तैनात होते हैं। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) में 5458 और और इंडो तिब्बतन पुलिस (आईटीबीपी) बल में 4953 संक्रमित मिले हैं। देश के VIP लोगों की सुरक्षा में लगे नेशनल सिक्योरिटी ग्रुप (NSG) कमांडों में संक्रमण सबसे कम है। अब तक इसके सिर्फ 329 कमांडोज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और एक भी मौत नहीं हुई है। केंद्रीय बलों को वैक्सीन लगाई जाएगी कोरोना का टीका बनाने का काम तेजी से चल रहा है। भारत में 8 वैक्सीन तैयार की जा रही हैं। केंद्र सरकार ने वैक्सीन बनने पर केंद्रीय फोर्सेज को इसे लगवाने का फैसला किया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने हाल ही में इसके लिए देश के सभी सेंट्रल फोर्सेज के प्रमुखों के साथ बैठक की थी। गृह मंत्रालय ने सभी केंद्रीय बलों को फ्रंटलाइन वर्कर पर सेवा देने वाले जवानों का ब्यौरा मांगा है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

अर्धसैनिक बलों की तैनाती संवेदनशील क्षेत्रों जैसे- जम्मू-कश्मीर, भारत-पाकिस्तान बॉर्डर, भारत-बांग्लादेश बॉर्डर और नक्सल क्षेत्र में होती है।- फाइल फोटोRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *