अडानी ने 2019 में खेती से जुड़ी सभी कंपनियां खरीदीं और 2020 में मोदी सरकार कृषि बिल ले आई, जानें इस दावे का सचDainik Bhaskar


क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि मोदी सरकार किसान सुधार के नाम पर 3 नए कानून उद्योगपति अडानी को फायदा पहुंचाने के लिए लाई है।

मैसेज के साथ अडानी ग्रुप की कंपनियों के नामों वाली एक लिस्ट शेयर की जा रही है। बताया जा रहा है कि ये सभी कंपनियां अडानी की हैं। और ये कंपनियां मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि सुधार कानूनों के ठीक 1 साल पहले 2019 में शुरू की गई हैं।

और सच क्या है?

  • वायरल लिस्ट में कंपनियों का DIN ( डायरेक्टर आइडेंटिफिकेशन नंबर) भी दिया गया है। हमने इस नंबर को मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स की वेबसाइट पर क्रॉस चेक किया।
  • DIN नंबर से उन सभी कंपनियों के नाम हमारे सामने आए, जिनकी लिस्ट वायरल हो रही है। सभी कंपनियों के आगे तारीख भी लिखी है, सभी तारीखें साल 2019 की ही हैं।
  • क्या लिस्ट में कंपनियों के नाम के आगे लिखी तारीखों से ये पुष्टि होती है कि सभी कंपनियां साल 2019 में बनी हैं? बिल्कुल नहीं। दरअसल ये तारीख वो हैं, जब अमित मलिक नाम के व्यक्ति को कंपनी का डायरेक्टर बनाया गया था।
  • मिनिस्ट्री की वेबसाइट पर हमने लिस्ट में दी गई सभी कंपनियों के शुरू होने की तारीख चेक की। इससे पता चला कि लिस्ट की कोई भी कंपनी 2019 में नहीं बनी। सभी कंपनियां 2018 से पहले शुरू की गई हैं। साफ है कि सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा फेक है।
कंपनी का नाम शुरू होने की तारीख
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (दरभंगा) 10 अक्टूबर, 2018
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (बोरिवली) 8 अगस्त, 2018
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (धमोरा) 8 अगस्त, 2018
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (दाहोद) 2 अगस्त, 208
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड(पानीपत) 11 जनवरी, 2017
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड ( कन्नौज) 10 जनवरी, 2017
डेरमोट इंफ्राकॉन लिमिटेड 11 नवंबर, 2016
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड( कटिहार) 23 मार्च, 2016
अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड( कोटकापुरा) 23 मार्च, 2016
अडानी लॉजिस्टिक सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड 6 जून, 2006

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Farmers Bill Benefit of Adani and Ambani

क्या हो रहा है वायरल: सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि मोदी सरकार किसान सुधार के नाम पर 3 नए कानून उद्योगपति अडानी को फायदा पहुंचाने के लिए लाई है। मैसेज के साथ अडानी ग्रुप की कंपनियों के नामों वाली एक लिस्ट शेयर की जा रही है। बताया जा रहा है कि ये सभी कंपनियां अडानी की हैं। और ये कंपनियां मोदी सरकार द्वारा लाए गए कृषि सुधार कानूनों के ठीक 1 साल पहले 2019 में शुरू की गई हैं। Adani registered multiple agri based companies in 2019 bcoz #TooMuchDemocracy Modi passes 3 farm bills in 2020 which are designed to help Corporates like Adani. #FarmerProstests pic.twitter.com/sEnYtDwtvH — Vinay Kumar Dokania 🇮🇳 🖐️ (@VinayDokania) December 9, 2020और सच क्या है? वायरल लिस्ट में कंपनियों का DIN ( डायरेक्टर आइडेंटिफिकेशन नंबर) भी दिया गया है। हमने इस नंबर को मिनिस्ट्री ऑफ कॉर्पोरेट अफेयर्स की वेबसाइट पर क्रॉस चेक किया।DIN नंबर से उन सभी कंपनियों के नाम हमारे सामने आए, जिनकी लिस्ट वायरल हो रही है। सभी कंपनियों के आगे तारीख भी लिखी है, सभी तारीखें साल 2019 की ही हैं। क्या लिस्ट में कंपनियों के नाम के आगे लिखी तारीखों से ये पुष्टि होती है कि सभी कंपनियां साल 2019 में बनी हैं? बिल्कुल नहीं। दरअसल ये तारीख वो हैं, जब अमित मलिक नाम के व्यक्ति को कंपनी का डायरेक्टर बनाया गया था।मिनिस्ट्री की वेबसाइट पर हमने लिस्ट में दी गई सभी कंपनियों के शुरू होने की तारीख चेक की। इससे पता चला कि लिस्ट की कोई भी कंपनी 2019 में नहीं बनी। सभी कंपनियां 2018 से पहले शुरू की गई हैं। साफ है कि सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा फेक है। कंपनी का नाम शुरू होने की तारीख अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (दरभंगा) 10 अक्टूबर, 2018 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (बोरिवली) 8 अगस्त, 2018 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (धमोरा) 8 अगस्त, 2018 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड (दाहोद) 2 अगस्त, 208 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड(पानीपत) 11 जनवरी, 2017 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड ( कन्नौज) 10 जनवरी, 2017 डेरमोट इंफ्राकॉन लिमिटेड 11 नवंबर, 2016 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड( कटिहार) 23 मार्च, 2016 अडानी एग्री लॉजिस्टिक लिमिटेड( कोटकापुरा) 23 मार्च, 2016 अडानी लॉजिस्टिक सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड 6 जून, 2006 आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Farmers Bill Benefit of Adani and AmbaniRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *