हरियाणा के 4 जिलों में शिमला से ज्यादा सर्दी, राजस्थान के माउंट आबू में पारा माइनस मेंDainik Bhaskar


उत्तर भारत में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टरबेंस) के कारण हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बीते हफ्ते दो बार बर्फबारी हुई। बादल छंटने के बाद यहां पारा तीन से चार डिग्री नीचे आ गया है। ऊंचाई वाले इलाकों आने वाली सर्द हवाओं ने मैदानी राज्यों पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और पश्चिमी उत्तरप्रदेश में ठंड बढ़ा दी है।

दिसंबर के पहले दो हफ्तों में पंजाब और हरियाणा में अधिकतम तापमान 20 डिग्री के आसपास रहता है, लेकिन इस बार यह 15 से 16 डिग्री के बीच है। कहीं-कहीं यह सामान्य से 7-8 डिग्री सेल्सियस तक कम है।

पहाड़ों पर लगातार बर्फबारी हो रही है। सफेद चादर से ढकी हिमाचल के केलॉन्ग की पहाड़ियां।

राजस्थान: 10 शहरों में तापमान 10 डिग्री से नीचे
राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन माउंट आबू में रात का पारा चार डिग्री गिरकर इस सीजन में पहली बार माइनस में पहुंच गया। यहां रात का पारा माइनस 0.4 डिग्री दर्ज किया गया। पिछले साल यहां 13 दिन बाद यानी 27 दिसंबर को पारा माइनस में पहुंचा था। पिलानी में पारा 6.4, चूरू में 7.7, गंगानगर में 8.9 डिग्री दर्ज किया गया। राज्य के 10 शहरों में तापमान 10 डिग्री से नीचे दर्ज किया गया।

माउंट आबू में ऊंचाई वाले इलाकों में सर्दी का असर ज्यादा है। यहां घास पर ओस की बूंदें जम गईं।

हरियाणा: शिमला से भी सर्द रहे कुरुक्षेत्र, पानीपत, करनाल और अम्बाला
हरियाणा में कई इलाकों में सुबह से धुंध छाई रही। कुरुक्षेत्र, पानीपत, करनाल, अम्बाला में दिन का तापमान हिमाचल के शिमला से भी कम रहा। शिमला में अधिकतम तापमान 14.9 डिग्री रहा, लेकिन कुरुक्षेत्र में यह 14, पानीपत में 14.2, करनाल में 14.6 और अम्बाला में 14.7 डिग्री पर आ गया।

फोटो हरियाणा के पानीपत की है। ठंड ने बुजुर्गों की परेशानी बढ़ा दी है।

छत्तीसगढ़: बौछारों ने ठंड बढ़ाई
महाराष्ट्र में बने चक्रवात का असर छत्तीसगढ़ तक नजर आ रहा है। राजधानी रायपुर में हल्की फुहारें पड़ीं। हालांकि, इसने गर्मी से राहत नहीं दी। यहां सोमवार को दिनभर बादल छाए रहने के बावजूद अधिकतम तापमान 30.9 डिग्री रहा। यह सामान्य से दो डिग्री ज्यादा रहा। रात का तापमान 19 डिग्री रहा, जो सामान्य से चार डिग्री ज्यादा था।

यह तस्वीर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के घड़ी चौक की है। यहां सोमवार शाम रिमझिम बारिश हुई, जिससे शहर तर-बतर हो गया।

मध्यप्रदेश: भोपाल में चार दिनों से रिमझिम

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में लगातार चार दिन से बारिश का दौर जारी है। भोपाल से लगे बैरागढ़ में सोमवार को बादलों के चलते तीन घंटे में चार मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। सुबह 11:30 बजे तक विजिबिलिटी 800 मीटर थी। शाम तक विजिबिलिटी घटकर 600 मीटर रह गई। दिन और रात के तापमान में सिर्फ 1.7 डिग्री सेल्सियस का अंतर रहा।

यह तस्वीर भोपाल के बड़े तालाब की है। यहां बीते तीन दिनों से सुबह के समय घना कोहरा छा रहा है।

बिहार: बर्फीली हवाएं ठिठुरन बढ़ाएंगी
पटना समेत बिहार के सभी जिलों में घना कोहरा है। कल यानी 16 दिसंबर को पटना, गया समेत राज्य के 21 स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है। इस दौरान विजिबिलिटी 100 से 400 मीटर होने का अनुमान है। उत्तर भारत से आने वाली बर्फीली हवाओं की वजह से प्रदेश में ठिठुरन बढ़ने के आसार हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


हिल स्टेशन माउंट आबू में माइनस में पहुंचे तापमान के कारण ओरिया क्षेत्र में सुबह खेत और बगीचों की घास पर ओस की बूंदें बर्फ बन गईं।

उत्तर भारत में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। पश्चिमी विक्षोभ (वेस्टर्न डिस्टरबेंस) के कारण हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में बीते हफ्ते दो बार बर्फबारी हुई। बादल छंटने के बाद यहां पारा तीन से चार डिग्री नीचे आ गया है। ऊंचाई वाले इलाकों आने वाली सर्द हवाओं ने मैदानी राज्यों पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और पश्चिमी उत्तरप्रदेश में ठंड बढ़ा दी है। दिसंबर के पहले दो हफ्तों में पंजाब और हरियाणा में अधिकतम तापमान 20 डिग्री के आसपास रहता है, लेकिन इस बार यह 15 से 16 डिग्री के बीच है। कहीं-कहीं यह सामान्य से 7-8 डिग्री सेल्सियस तक कम है। पहाड़ों पर लगातार बर्फबारी हो रही है। सफेद चादर से ढकी हिमाचल के केलॉन्ग की पहाड़ियां।राजस्थान: 10 शहरों में तापमान 10 डिग्री से नीचे राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन माउंट आबू में रात का पारा चार डिग्री गिरकर इस सीजन में पहली बार माइनस में पहुंच गया। यहां रात का पारा माइनस 0.4 डिग्री दर्ज किया गया। पिछले साल यहां 13 दिन बाद यानी 27 दिसंबर को पारा माइनस में पहुंचा था। पिलानी में पारा 6.4, चूरू में 7.7, गंगानगर में 8.9 डिग्री दर्ज किया गया। राज्य के 10 शहरों में तापमान 10 डिग्री से नीचे दर्ज किया गया। माउंट आबू में ऊंचाई वाले इलाकों में सर्दी का असर ज्यादा है। यहां घास पर ओस की बूंदें जम गईं।हरियाणा: शिमला से भी सर्द रहे कुरुक्षेत्र, पानीपत, करनाल और अम्बाला हरियाणा में कई इलाकों में सुबह से धुंध छाई रही। कुरुक्षेत्र, पानीपत, करनाल, अम्बाला में दिन का तापमान हिमाचल के शिमला से भी कम रहा। शिमला में अधिकतम तापमान 14.9 डिग्री रहा, लेकिन कुरुक्षेत्र में यह 14, पानीपत में 14.2, करनाल में 14.6 और अम्बाला में 14.7 डिग्री पर आ गया। फोटो हरियाणा के पानीपत की है। ठंड ने बुजुर्गों की परेशानी बढ़ा दी है।छत्तीसगढ़: बौछारों ने ठंड बढ़ाई महाराष्ट्र में बने चक्रवात का असर छत्तीसगढ़ तक नजर आ रहा है। राजधानी रायपुर में हल्की फुहारें पड़ीं। हालांकि, इसने गर्मी से राहत नहीं दी। यहां सोमवार को दिनभर बादल छाए रहने के बावजूद अधिकतम तापमान 30.9 डिग्री रहा। यह सामान्य से दो डिग्री ज्यादा रहा। रात का तापमान 19 डिग्री रहा, जो सामान्य से चार डिग्री ज्यादा था। यह तस्वीर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के घड़ी चौक की है। यहां सोमवार शाम रिमझिम बारिश हुई, जिससे शहर तर-बतर हो गया। मध्यप्रदेश: भोपाल में चार दिनों से रिमझिम मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में लगातार चार दिन से बारिश का दौर जारी है। भोपाल से लगे बैरागढ़ में सोमवार को बादलों के चलते तीन घंटे में चार मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। सुबह 11:30 बजे तक विजिबिलिटी 800 मीटर थी। शाम तक विजिबिलिटी घटकर 600 मीटर रह गई। दिन और रात के तापमान में सिर्फ 1.7 डिग्री सेल्सियस का अंतर रहा। यह तस्वीर भोपाल के बड़े तालाब की है। यहां बीते तीन दिनों से सुबह के समय घना कोहरा छा रहा है।बिहार: बर्फीली हवाएं ठिठुरन बढ़ाएंगी पटना समेत बिहार के सभी जिलों में घना कोहरा है। कल यानी 16 दिसंबर को पटना, गया समेत राज्य के 21 स्थानों पर हल्की बारिश हो सकती है। इस दौरान विजिबिलिटी 100 से 400 मीटर होने का अनुमान है। उत्तर भारत से आने वाली बर्फीली हवाओं की वजह से प्रदेश में ठिठुरन बढ़ने के आसार हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

हिल स्टेशन माउंट आबू में माइनस में पहुंचे तापमान के कारण ओरिया क्षेत्र में सुबह खेत और बगीचों की घास पर ओस की बूंदें बर्फ बन गईं।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *