चौथे दिन का खेल शुरू; ऑस्ट्रेलिया ने 6 विकेट गंवाए, ग्रीन और कमिंस क्रीज परDainik Bhaskar


भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 टेस्ट की सीरीज का दूसरा मैच में मेलबर्न में खेला जा रहा है। इस बॉक्सिंग-डे टेस्ट के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया टीम ने दूसरी पारी में 6 विकेट गंवाकर 133 रन से आगे खेलना शुरू किया। फिलहाल, कैमरून ग्रीन और पैट कमिंस क्रीज पर हैं। मैच का स्कोरकार्ड देखने के लिए यहां क्लिक करें…

मैच में टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलिया टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 195 रन बनाए थे। इसके जवाब में टीम इंडिया ने पहली पारी में 326 रन बनाते हुए 131 रन की बढ़त ले ली थी।

तीसरे दिन 200 रन भी नहीं बन सके

तीसरे दिन दोनों टीम की ओर से कुल 200 रन भी नहीं बन सके। सबसे पहले टीम इंडिया ने 5 विकेट पर 277 रन से आगे खेलना शुरू किया था। इसके बाद टीम आखिरी 5 विकेट गंवाकर सिर्फ 49 रन ही बना सकी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया टीम भी 6 विकेट गंवाकर सिर्फ 133 रन ही बना सकी। इस तरह तीसरा दिन खत्म होने तक दोनों टीम की ओर से कुल 11 विकेट गिरे और सिर्फ 182 रन ही बन सके।

दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया की खराब शुरुआत

मेजबान ऑस्ट्रेलिया टीम की दूसरी पारी में शुरुआत खराब रही। पारी के चौथे ओवर में जो बर्न्स 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद मैथ्यू वेड और मार्नस लाबुशेन ने 38 रन की पार्टनरशिप कर पारी को संभालने की कोशिश की। टीम के लिए तीसरे दिन यही सबसे बड़ी पार्टनरशिप भी रही। इसके बाद लगातार गिरते विकेट के कारण मिडिल ऑर्डर पूरी तरह ढह गया। ऑस्ट्रेलिया ने 100 रन के अंदर ही 6 विकेट गंवा दिए। भारत के लिए जडेजा के अलावा जसप्रीत बुमराह, उमेश यादव, मोहम्मद सिराज और रविचंद्रन अश्विन को 1-1 विकेट मिला।

स्मिथ ने करियर में दूसरी बार एक टेस्ट में सबसे कम रन बनाए
स्टीव स्मिथ लगातार दूसरी पारी में फ्लॉप रहे। वे 8 रन बनाकर आउट हुए। उन्हें जसप्रीत बुमराह ने क्लीन बोल्ड किया। पहली पारी में वे खाता भी नहीं खोल सके थे। टेस्ट करियर में उनका एक मैच में यह दूसरा सबसे कम स्कोर है। इससे पहले उन्होंने 2013 के लॉर्ड्स टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ 3 (2 और 1) रन बनाए थे।

भारत ने लगातार दूसरे मैच में ऑस्ट्रेलिया पर बढ़त बनाई

टीम इंडिया ने सीरीज के पहले टेस्ट की पहली पारी में भी बढ़त ली थी। इस लिहाज से भारत ने 35 साल पुराने एक रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। 1985-86 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगातार दो टेस्ट की पारी में बढ़त बनाई थी। पहले एडिलेड टेस्ट ऑस्ट्रेलिया द्वारा बनाए गए 381 रन के जवाब में भारत ने 520 रन बनाए थे। जबकि मेलबर्न में खेले गए इसी सीरीज के दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के 262 के स्कोर के जवाब में 445 रन बनाए थे। हालांकि दोनों मैच ड्रॉ हुए थे।

पहली पारी में बढ़त के साथ भारतीय टीम लगातार दो मैच नहीं हारी

  • भारतीय टीम एक सीरीज के लगातार दो टेस्ट कभी नहीं हारी है। जबकि उसने दोनों मैच की पहली पारी में बढ़त बनाई हो।
  • मेलबर्न के मैदान पर 100 से ज्यादा रन की बढ़त के साथ पिछली बार 2010 में ऑस्ट्रेलिया टीम इंग्लैंड को 89 रन से हराया था।
  • टीम इंडिया भी एक बार मेलबर्न में 100+ रन की बढ़त के साथ एक मैच जीत चुकी है। उसने 1980 में 182 रन की बढ़त के साथ ऑस्ट्रेलिया को 59 रन से हराया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


ऑस्ट्रेलियाई बैट्समैन कैमरून ग्रीन और पैट कमिंस के बीच 7वें विकेट के लिए 40+ रन की पार्टनरशिप हुई।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 टेस्ट की सीरीज का दूसरा मैच में मेलबर्न में खेला जा रहा है। इस बॉक्सिंग-डे टेस्ट के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया टीम ने दूसरी पारी में 6 विकेट गंवाकर 133 रन से आगे खेलना शुरू किया। फिलहाल, कैमरून ग्रीन और पैट कमिंस क्रीज पर हैं। मैच का स्कोरकार्ड देखने के लिए यहां क्लिक करें… मैच में टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलिया टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 195 रन बनाए थे। इसके जवाब में टीम इंडिया ने पहली पारी में 326 रन बनाते हुए 131 रन की बढ़त ले ली थी। तीसरे दिन 200 रन भी नहीं बन सके तीसरे दिन दोनों टीम की ओर से कुल 200 रन भी नहीं बन सके। सबसे पहले टीम इंडिया ने 5 विकेट पर 277 रन से आगे खेलना शुरू किया था। इसके बाद टीम आखिरी 5 विकेट गंवाकर सिर्फ 49 रन ही बना सकी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया टीम भी 6 विकेट गंवाकर सिर्फ 133 रन ही बना सकी। इस तरह तीसरा दिन खत्म होने तक दोनों टीम की ओर से कुल 11 विकेट गिरे और सिर्फ 182 रन ही बन सके। दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया की खराब शुरुआत मेजबान ऑस्ट्रेलिया टीम की दूसरी पारी में शुरुआत खराब रही। पारी के चौथे ओवर में जो बर्न्स 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। इसके बाद मैथ्यू वेड और मार्नस लाबुशेन ने 38 रन की पार्टनरशिप कर पारी को संभालने की कोशिश की। टीम के लिए तीसरे दिन यही सबसे बड़ी पार्टनरशिप भी रही। इसके बाद लगातार गिरते विकेट के कारण मिडिल ऑर्डर पूरी तरह ढह गया। ऑस्ट्रेलिया ने 100 रन के अंदर ही 6 विकेट गंवा दिए। भारत के लिए जडेजा के अलावा जसप्रीत बुमराह, उमेश यादव, मोहम्मद सिराज और रविचंद्रन अश्विन को 1-1 विकेट मिला। स्मिथ ने करियर में दूसरी बार एक टेस्ट में सबसे कम रन बनाए स्टीव स्मिथ लगातार दूसरी पारी में फ्लॉप रहे। वे 8 रन बनाकर आउट हुए। उन्हें जसप्रीत बुमराह ने क्लीन बोल्ड किया। पहली पारी में वे खाता भी नहीं खोल सके थे। टेस्ट करियर में उनका एक मैच में यह दूसरा सबसे कम स्कोर है। इससे पहले उन्होंने 2013 के लॉर्ड्स टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ 3 (2 और 1) रन बनाए थे। भारत ने लगातार दूसरे मैच में ऑस्ट्रेलिया पर बढ़त बनाई टीम इंडिया ने सीरीज के पहले टेस्ट की पहली पारी में भी बढ़त ली थी। इस लिहाज से भारत ने 35 साल पुराने एक रिकॉर्ड की बराबरी कर ली। 1985-86 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगातार दो टेस्ट की पारी में बढ़त बनाई थी। पहले एडिलेड टेस्ट ऑस्ट्रेलिया द्वारा बनाए गए 381 रन के जवाब में भारत ने 520 रन बनाए थे। जबकि मेलबर्न में खेले गए इसी सीरीज के दूसरे टेस्ट में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के 262 के स्कोर के जवाब में 445 रन बनाए थे। हालांकि दोनों मैच ड्रॉ हुए थे। पहली पारी में बढ़त के साथ भारतीय टीम लगातार दो मैच नहीं हारी भारतीय टीम एक सीरीज के लगातार दो टेस्ट कभी नहीं हारी है। जबकि उसने दोनों मैच की पहली पारी में बढ़त बनाई हो।मेलबर्न के मैदान पर 100 से ज्यादा रन की बढ़त के साथ पिछली बार 2010 में ऑस्ट्रेलिया टीम इंग्लैंड को 89 रन से हराया था।टीम इंडिया भी एक बार मेलबर्न में 100+ रन की बढ़त के साथ एक मैच जीत चुकी है। उसने 1980 में 182 रन की बढ़त के साथ ऑस्ट्रेलिया को 59 रन से हराया था। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

ऑस्ट्रेलियाई बैट्समैन कैमरून ग्रीन और पैट कमिंस के बीच 7वें विकेट के लिए 40+ रन की पार्टनरशिप हुई।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *