अहमदाबाद के पार्क में दिखा स्टील का रहस्यमयी स्ट्रक्चर, अब तक दुनिया के 30 शहरों में नजर आ चुका हैDainik Bhaskar


अब तक दुनिया के 30 अलग-अलग शहरों में नजर आ चुका मिस्ट्री मोनोलिथ अब भारत में दिखाई दिया है। स्टील का यह रहस्यमयी स्ट्रक्चर गुरुवार को अहमदाबाद के सिम्फनी पार्क में नजर आया। थलतेज इलाके में मौजूद पार्क में दिखे मोनोलिथ की ऊंचाई 6 फीट से ज्यादा है। अभी तक यह पता नहीं चला है कि यह स्ट्रक्चर कहां से आया है।

अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन और सिम्फनी कंपनी ने मिलकर पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप में इस पार्क को बनाया था। लेकिन, यह मोनोलिथ कहां से आया इसकी जानकारी न तो कॉर्पोरेशन के अधिकारियों को है, न ही सिम्फनी कंपनी के लोगों को इसके बारे में कुछ पता है। पार्क में काम करने वाले किसी कर्मचारी ने भी आज से पहले इसे नहीं देखा।

गार्डन में काम करने वाले माली ने कहा, मिस्ट्री मोनोलिथ शनिवार की शाम तक यहां मौजूद नहीं था।

शनिवार शाम तक पार्क में स्ट्रक्चर नहीं था
पार्क में काम करने वाले माली के मुताबिक, शनिवार की शाम तक यहां कोई स्ट्रक्चर नहीं था। लेकिन, रविवार सुबह जब वे ड्यूटी पर आए तो स्टील का स्ट्रक्चर देखकर चौंक गए। उन्होंने गार्डन मैनेजर को बताया तो वे भी दंग रह गए। इसके बाद कई लोगों से पूछताछ की गई, लेकिन सभी ने इसे पहली बार दिखाई देखने की बात कही।

स्टील के इस तिकोने स्ट्रक्चर के ऊपर कुछ नंबर लिखे हुए हैं। इसके ऊपर एक सिंबल भी बना हुआ है।

मोनोलिथ देखने उमड़ी भीड़
अचानक दिखाई देने वाले स्टील के इस तिकोने स्ट्रक्चर के ऊपर कुछ नंबर लिखे हुए हैं। इसके ऊपर एक सिंबल भी बना हुआ है। पार्क में इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ इस कदर उमड़ रही है कि संभालना मुश्किल हो गया है। लोग इसके साथ सेल्फी ले रहे हैं।

अब तक दुनिया के 30 अलग-अलग शहरों में मिस्ट्री मोनोलिथ दिखाई दे चुका है। हर जगह इसका आकार तिकोना ही पाया गया है।

साइंस फिक्शन स्टोरी में है इसका जिक्र

दुनियाभर में कई जगह मोनोलिथ अचानक ही नजर आते रहे हैं। इन्हें मिस्ट्री स्टोन के नाम से भी जाना जाता है। कई थ्योरीज में इनके बनने को एलियंस का काम बताया गया है। हालांकि मोनोलिथ का स्ट्रक्चर हर जगह तिकोना ही रहा है। साइंस फिक्शन बुक अ स्पेस ओडिसी में इस तरह के रहस्यमयी मोनोलिथ का जिक्र मिलता है। इस बुक पर हॉलीवुड में इसी नाम से एक फिल्म भी बनी है।

अ स्पेस ओडिसी बुक के मुताबिक, एलियंस ने पृथ्वी पर कुछ मोनोलिथ लगाए थे, जिससे स्पेस में साथी एलियंस के साथ संपर्क किया जा सके। मोनोलिथ के जरिए ही पृथ्वी पर प्री हिस्टॉरिक टाइम की एक जाति के लोगों के दिमाग का विकास किया गया था। इसके नतीजे के तौर पर ही आधुनिक मनुष्यों का जन्म हुआ है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


अहमदाबाद के थलतेज इलाके में स्थित सिम्फनी पार्क में नजर आया है यह मिस्ट्री मोनोलिथ।

अब तक दुनिया के 30 अलग-अलग शहरों में नजर आ चुका मिस्ट्री मोनोलिथ अब भारत में दिखाई दिया है। स्टील का यह रहस्यमयी स्ट्रक्चर गुरुवार को अहमदाबाद के सिम्फनी पार्क में नजर आया। थलतेज इलाके में मौजूद पार्क में दिखे मोनोलिथ की ऊंचाई 6 फीट से ज्यादा है। अभी तक यह पता नहीं चला है कि यह स्ट्रक्चर कहां से आया है। अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन और सिम्फनी कंपनी ने मिलकर पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप में इस पार्क को बनाया था। लेकिन, यह मोनोलिथ कहां से आया इसकी जानकारी न तो कॉर्पोरेशन के अधिकारियों को है, न ही सिम्फनी कंपनी के लोगों को इसके बारे में कुछ पता है। पार्क में काम करने वाले किसी कर्मचारी ने भी आज से पहले इसे नहीं देखा। गार्डन में काम करने वाले माली ने कहा, मिस्ट्री मोनोलिथ शनिवार की शाम तक यहां मौजूद नहीं था।शनिवार शाम तक पार्क में स्ट्रक्चर नहीं था पार्क में काम करने वाले माली के मुताबिक, शनिवार की शाम तक यहां कोई स्ट्रक्चर नहीं था। लेकिन, रविवार सुबह जब वे ड्यूटी पर आए तो स्टील का स्ट्रक्चर देखकर चौंक गए। उन्होंने गार्डन मैनेजर को बताया तो वे भी दंग रह गए। इसके बाद कई लोगों से पूछताछ की गई, लेकिन सभी ने इसे पहली बार दिखाई देखने की बात कही। स्टील के इस तिकोने स्ट्रक्चर के ऊपर कुछ नंबर लिखे हुए हैं। इसके ऊपर एक सिंबल भी बना हुआ है।मोनोलिथ देखने उमड़ी भीड़ अचानक दिखाई देने वाले स्टील के इस तिकोने स्ट्रक्चर के ऊपर कुछ नंबर लिखे हुए हैं। इसके ऊपर एक सिंबल भी बना हुआ है। पार्क में इसे देखने के लिए लोगों की भीड़ इस कदर उमड़ रही है कि संभालना मुश्किल हो गया है। लोग इसके साथ सेल्फी ले रहे हैं। अब तक दुनिया के 30 अलग-अलग शहरों में मिस्ट्री मोनोलिथ दिखाई दे चुका है। हर जगह इसका आकार तिकोना ही पाया गया है।साइंस फिक्शन स्टोरी में है इसका जिक्र दुनियाभर में कई जगह मोनोलिथ अचानक ही नजर आते रहे हैं। इन्हें मिस्ट्री स्टोन के नाम से भी जाना जाता है। कई थ्योरीज में इनके बनने को एलियंस का काम बताया गया है। हालांकि मोनोलिथ का स्ट्रक्चर हर जगह तिकोना ही रहा है। साइंस फिक्शन बुक अ स्पेस ओडिसी में इस तरह के रहस्यमयी मोनोलिथ का जिक्र मिलता है। इस बुक पर हॉलीवुड में इसी नाम से एक फिल्म भी बनी है। अ स्पेस ओडिसी बुक के मुताबिक, एलियंस ने पृथ्वी पर कुछ मोनोलिथ लगाए थे, जिससे स्पेस में साथी एलियंस के साथ संपर्क किया जा सके। मोनोलिथ के जरिए ही पृथ्वी पर प्री हिस्टॉरिक टाइम की एक जाति के लोगों के दिमाग का विकास किया गया था। इसके नतीजे के तौर पर ही आधुनिक मनुष्यों का जन्म हुआ है। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

अहमदाबाद के थलतेज इलाके में स्थित सिम्फनी पार्क में नजर आया है यह मिस्ट्री मोनोलिथ।Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *