2007 में Nokia ने बेचे थे एक अरब फोन, ऐसा क्या हुआ कि 2013 में कंपनी खुद बिक गईDainik Bhaskar


फोर्ब्स पत्रिका ने नवंबर 2007 के अंक में नोकिया सेलफोन पर कवर स्टोरी छापी थी। कवर पर फ्लिप फोन लिए नोकिया के चीफ एग्जिक्यूटिव पेक्का लुंडमार्क की तस्वीर के साथ लिखा था, ‘नोकिया के पास एक अरब कस्टमर हैं। क्या इस सेलफोन किंग को कोई छू पाएगा?’ महज 6 साल बीते। नोकिया का साम्राज्य तबाह हो गया। 2013 में नोकिया का मोबाइल बिजनेस बिक गया। 2016 में फिनलैंड की कंपनी HMD ग्लोबल ने वापस से नोकिया को खरीद लिया। नोकिया आज भी बाजार में बने रहने के लिए संघर्ष कर रही है। नोकिया से कहां गलती हुई, आइए उस सफर को जानते हैं…

फोर्ब्स मैगजीन का नवंबर 2007 का कवर पेज। – फोटो साभार फोर्ब्स

नोकिया कनेक्‍टिंग पीपल और मार्केट पर कब्जा
हर बार स्व‌िच ऑन होने पर दो मिलते हुए हाथ आपको याद होंगे। इसकी शुरुआत 1990 के दशक में हुई। कंपनी 1865 की थी, लेकिन मोबाइल मार्केट में 90 के दशक में आई। पहले लुगदी मिल, रबड़, लकड़ी तो कभी केबल बेचती रही। 110 साल भटकने के बाद कंपनी को सही रास्ता दिखा।

कंपनी ने 1982 में 10 किलो का मोबाइल ‘मोबिरा सीनेटर’ लॉन्च किया। फिर 5 किलो का मोबिरा टॉकमैन और 800 ग्राम का मोबिरा सिटीमैन। ये फोन 4 लाख रुपये से ज्यादा के थे। फिर भी अमेरिका और यूरोप के मार्केट में कब्जा कर लिया। नोकिया को आने वाले भविष्य का अंदाजा लग गया।

नोकिया ने अपने नाम से फोन सीरीज शुरू की। साल 1992, जीएसएम सुविधा के साथ नोकिया 1011 लॉन्च हुआ। नतीजा ये कि 1997-98 में मोटोरोला जैसी सीडीएमए सेवा देने वाली मोबाइल कंपनियों को पीछे छोड़ते हुए नोकिया ने 25% मार्केट पर कब्जा कर लिया।

मोबाइल यानी नोकिया: 2600 या 1100 मॉडल लोगों का जुनून बन गए
साल 1999 में एक फिल्म रिलीज हुई। इसे चार ऑस्कर अवॉर्ड मिले। फिल्म साइंस फिक्शन और टेक्नोलॉजी के बदलते रूप पर थी। फिल्म में बार-बार एक स्टाइलिश फोन दिख रहा था। ये फोन नोकिया 7110 था और फिल्म द मैट्रिक्स। इसके बाद साल 2003, नोकिया 1100 और 2100; इन दो मॉडल ने मार्केट में तूफान ला दिया। उस वक्त 5000 रुपये से कम में मिलने वाले ये फोन आम लोगों के हाथों में पहुंचे और नोकिया पूरी दुनिया में करीबन 50% फोन बेचने लगा।

CCS इनसाइट के एनॉलिस्ट बेन वुड कहते हैं कि उस दौर में मोबाइल का मतलब सिर्फ नोकिया हो गया था। लोगों में ये बात नहीं होती थी कि उनके पास कौन सा ब्रांड है। ये बात होती थी कि उनके पास 3210 है और सामने वाले के पास कौन सा है। लोग आपस में ‘स्नेक’ गेम के स्कोर की चर्चा करते थे।

2007 में फोर्ब्स ने कहा- नोकिया किंग है, उधर स्टीव जॉब्स iPhone लहराते स्टेज पर चढ़े…
मोबाइल एनॉलिस्ट फर्म गार्टनर ने 2007 में कहा कि स्मार्टफोन मार्केट में नोकिया का शेयर 49.4% है। फोर्ब्स ने चुनौती दी कि क्या कोई है, जो इस किंग को छू भी सके। मानो एप्पल के मालिक स्टीव जॉब्स ने ये चुनौती स्वीकार कर ली थी। 2007 में अचानक वो एक स्टेज पर iPhone लहराते हुए चढ़े। नतीजा ये हुआ कि आने वाले सालों में नोकिया का मार्केट शेयर 49.4% से 43.7%, फिर 41.1% और फिर 34.2% पर आ गया। 2013 में ये शेयर 2.9% तक चला आया।

2013 में नोकिया ने मोबाइल बिजनेस माइक्रोसाफ्ट को बेच दिया था। HMD ग्लोबल ने दोबारा 2016 में खरीदा।

बेन वुड कहते हैं, नोकिया ने नए सॉफ्टवेयर की अनदेखी की। 2009-10 में पहले iPhone, गूगल ने अपने सॉफ्टवेयर के साथ जगह बना रहे थे, तब नोकिया ने इन्हें तवज्जो नहीं दी। 2011 में जब एंड्रॉयड पूरी दुनिया पर छाने लगा, तब भी नोकिया अपने पुराने सॉफ्टवेयर सिंबियन पर ही टिका रहा।

माइक्रोसॉफ्ट से नहीं संभला नोकिया फोन
माइक्रोसॉफ्ट ने नोकिया को खरीदने के बाद उसके OS सिंबियन को बंद कर दिया। विंडोज के बादशाह माइक्रोसॉफ्ट ने मोबाइल के लिए विंडोज का सॉफ्वेयर बना दिया। साल 2014 में नोकिया लूमिया लॉन्च हुआ। खूब जोर लगाने के बाद भी ये फोन नहीं चला। अंत में नोकिया की ओरिजिनल कंपनी HMD ग्लोबल ने माइक्रोसॉफ्ट से इसे खरीद लिया। 2016 में नोकिया एंड्रॉयड OS पर आया। नोकिया 3, नोकिया 5 और नोकिया 6 जैसे फोन आए।

अब ‘नोकिया ओरिजिनल’ नाम के नए मॉडल की तैयारी चल रही है। नोकिया बीते पांच साल से लगातार करीब 2.5% मार्केट शेयर के साथ फिलहाल टिका हुआ है। 2020 के पहले क्वार्टर में नोकिया ने करीब 1 करोड़ फोन बेचे थे। लेकिन कोरोना महामारी के चलते पूरी दुनिया की स्मार्टफोन बिक्री में करीब 30% गिरावट आई। इसमें नोकिया को नुकसान हुआ।

HMD ग्लोबल के CEO फ्लोरियन सेइच ने हाल ही में कहा था, ‘मोबाइल फोन एक ऐसा बाजार है, जहां हर पल चीजें बदलती हैं। ऐसे समय में हम हर दो साल में अपने OS को अपडेट करने और तीन साल तक हर महीने सिक्यूरिटी अपडेट करने का वादा करते हैं। नोकिया स्मार्टफोन की दुनिया में फिर से आ चुका है।’

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Nokia Apple Iphone Net Sales Figures Status Update; Nokia Market Share | How Many Nokia Phones Have Been Sold? From 1982 To 2020? All You Need To Know

फोर्ब्स पत्रिका ने नवंबर 2007 के अंक में नोकिया सेलफोन पर कवर स्टोरी छापी थी। कवर पर फ्लिप फोन लिए नोकिया के चीफ एग्जिक्यूटिव पेक्का लुंडमार्क की तस्वीर के साथ लिखा था, ‘नोकिया के पास एक अरब कस्टमर हैं। क्या इस सेलफोन किंग को कोई छू पाएगा?’ महज 6 साल बीते। नोकिया का साम्राज्य तबाह हो गया। 2013 में नोकिया का मोबाइल बिजनेस बिक गया। 2016 में फिनलैंड की कंपनी HMD ग्लोबल ने वापस से नोकिया को खरीद लिया। नोकिया आज भी बाजार में बने रहने के लिए संघर्ष कर रही है। नोकिया से कहां गलती हुई, आइए उस सफर को जानते हैं… फोर्ब्स मैगजीन का नवंबर 2007 का कवर पेज। – फोटो साभार फोर्ब्सनोकिया कनेक्‍टिंग पीपल और मार्केट पर कब्जा हर बार स्व‌िच ऑन होने पर दो मिलते हुए हाथ आपको याद होंगे। इसकी शुरुआत 1990 के दशक में हुई। कंपनी 1865 की थी, लेकिन मोबाइल मार्केट में 90 के दशक में आई। पहले लुगदी मिल, रबड़, लकड़ी तो कभी केबल बेचती रही। 110 साल भटकने के बाद कंपनी को सही रास्ता दिखा। कंपनी ने 1982 में 10 किलो का मोबाइल ‘मोबिरा सीनेटर’ लॉन्च किया। फिर 5 किलो का मोबिरा टॉकमैन और 800 ग्राम का मोबिरा सिटीमैन। ये फोन 4 लाख रुपये से ज्यादा के थे। फिर भी अमेरिका और यूरोप के मार्केट में कब्जा कर लिया। नोकिया को आने वाले भविष्य का अंदाजा लग गया। नोकिया ने अपने नाम से फोन सीरीज शुरू की। साल 1992, जीएसएम सुविधा के साथ नोकिया 1011 लॉन्च हुआ। नतीजा ये कि 1997-98 में मोटोरोला जैसी सीडीएमए सेवा देने वाली मोबाइल कंपनियों को पीछे छोड़ते हुए नोकिया ने 25% मार्केट पर कब्जा कर लिया। मोबाइल यानी नोकिया: 2600 या 1100 मॉडल लोगों का जुनून बन गए साल 1999 में एक फिल्म रिलीज हुई। इसे चार ऑस्कर अवॉर्ड मिले। फिल्म साइंस फिक्शन और टेक्नोलॉजी के बदलते रूप पर थी। फिल्म में बार-बार एक स्टाइलिश फोन दिख रहा था। ये फोन नोकिया 7110 था और फिल्म द मैट्रिक्स। इसके बाद साल 2003, नोकिया 1100 और 2100; इन दो मॉडल ने मार्केट में तूफान ला दिया। उस वक्त 5000 रुपये से कम में मिलने वाले ये फोन आम लोगों के हाथों में पहुंचे और नोकिया पूरी दुनिया में करीबन 50% फोन बेचने लगा। CCS इनसाइट के एनॉलिस्ट बेन वुड कहते हैं कि उस दौर में मोबाइल का मतलब सिर्फ नोकिया हो गया था। लोगों में ये बात नहीं होती थी कि उनके पास कौन सा ब्रांड है। ये बात होती थी कि उनके पास 3210 है और सामने वाले के पास कौन सा है। लोग आपस में ‘स्नेक’ गेम के स्कोर की चर्चा करते थे। 2007 में फोर्ब्स ने कहा- नोकिया किंग है, उधर स्टीव जॉब्स iPhone लहराते स्टेज पर चढ़े… मोबाइल एनॉलिस्ट फर्म गार्टनर ने 2007 में कहा कि स्मार्टफोन मार्केट में नोकिया का शेयर 49.4% है। फोर्ब्स ने चुनौती दी कि क्या कोई है, जो इस किंग को छू भी सके। मानो एप्पल के मालिक स्टीव जॉब्स ने ये चुनौती स्वीकार कर ली थी। 2007 में अचानक वो एक स्टेज पर iPhone लहराते हुए चढ़े। नतीजा ये हुआ कि आने वाले सालों में नोकिया का मार्केट शेयर 49.4% से 43.7%, फिर 41.1% और फिर 34.2% पर आ गया। 2013 में ये शेयर 2.9% तक चला आया। 2013 में नोकिया ने मोबाइल बिजनेस माइक्रोसाफ्ट को बेच दिया था। HMD ग्लोबल ने दोबारा 2016 में खरीदा। बेन वुड कहते हैं, नोकिया ने नए सॉफ्टवेयर की अनदेखी की। 2009-10 में पहले iPhone, गूगल ने अपने सॉफ्टवेयर के साथ जगह बना रहे थे, तब नोकिया ने इन्हें तवज्जो नहीं दी। 2011 में जब एंड्रॉयड पूरी दुनिया पर छाने लगा, तब भी नोकिया अपने पुराने सॉफ्टवेयर सिंबियन पर ही टिका रहा। माइक्रोसॉफ्ट से नहीं संभला नोकिया फोन माइक्रोसॉफ्ट ने नोकिया को खरीदने के बाद उसके OS सिंबियन को बंद कर दिया। विंडोज के बादशाह माइक्रोसॉफ्ट ने मोबाइल के लिए विंडोज का सॉफ्वेयर बना दिया। साल 2014 में नोकिया लूमिया लॉन्च हुआ। खूब जोर लगाने के बाद भी ये फोन नहीं चला। अंत में नोकिया की ओरिजिनल कंपनी HMD ग्लोबल ने माइक्रोसॉफ्ट से इसे खरीद लिया। 2016 में नोकिया एंड्रॉयड OS पर आया। नोकिया 3, नोकिया 5 और नोकिया 6 जैसे फोन आए। अब ‘नोकिया ओरिजिनल’ नाम के नए मॉडल की तैयारी चल रही है। नोकिया बीते पांच साल से लगातार करीब 2.5% मार्केट शेयर के साथ फिलहाल टिका हुआ है। 2020 के पहले क्वार्टर में नोकिया ने करीब 1 करोड़ फोन बेचे थे। लेकिन कोरोना महामारी के चलते पूरी दुनिया की स्मार्टफोन बिक्री में करीब 30% गिरावट आई। इसमें नोकिया को नुकसान हुआ। HMD ग्लोबल के CEO फ्लोरियन सेइच ने हाल ही में कहा था, ‘मोबाइल फोन एक ऐसा बाजार है, जहां हर पल चीजें बदलती हैं। ऐसे समय में हम हर दो साल में अपने OS को अपडेट करने और तीन साल तक हर महीने सिक्यूरिटी अपडेट करने का वादा करते हैं। नोकिया स्मार्टफोन की दुनिया में फिर से आ चुका है।’ आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Nokia Apple Iphone Net Sales Figures Status Update; Nokia Market Share | How Many Nokia Phones Have Been Sold? From 1982 To 2020? All You Need To KnowRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *