देश में कोरोना वैक्सीनेशन 16 जनवरी से शुरू होगा, पहले फेज में 3 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगाDainik Bhaskar


देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम 16 जनवरी से शुरू होने जा रहा है। सरकार ने शनिवार को इसका ऐलान कर दिया। शुरुआत में यह वैक्सीन हेल्थ वर्कर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जाएगी, जिनकी संख्या 3 करोड़ है। दूसरे फेज में 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और तीसरे फेज में गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 50 साल से कम उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। दूसरे और तीसरे फेज में करीब 27 करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन होगा।

मोदी ने तैयारियां जानने के लिए मीटिंग की
देश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को हाई लेवल मीटिंग की। उन्होंने वैक्सीनेशन के लिए राज्यों की तैयारियों का जायजा भी लिया। बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, प्रिंसिपल सेक्रेटरी, हेल्थ सेक्रेटरी और दूसरे सीनियर अफसर भी शामिल हुए।

देश में 2 वैक्सीन को मंजूरी मिली है
देश में इमरजेंसी यूज के लिए दो वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है। इसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की कोवीशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सिन शामिल है। दोनों वैक्सीन को देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचाने के लिए सरकार ने ट्रांसपोर्टेशन की गाइडलाइन जारी कर दी हैं।

कोवीशील्ड की क्या है खासियत?

  • कोवीशील्ड के क्लिनिकल ट्रायल्स के एनालिसिस से बहुत अच्छे नतीजे सामने आए हैं। वॉलेंटियर्स को पहले हाफ डोज दिया और फिर फुल डोज। किसी को भी हेल्थ से जुड़ी कोई गंभीर समस्या नहीं हुई।
  • जब हाफ डोज दिया गया तो इफिकेसी 90% रही। एक महीने बाद उसे फुल डोज दिया गया। जब दोनों फुल डोज दिए गए तो इफिकेसी 62% रही।
  • दोनों ही तरह के डोज में औसत इफिकेसी 70% रही। सभी नतीजे आंकड़ों के लिहाज से खास हैं। इफिकेसी जानने के लिए वैक्सीन लगाने के एक साल बाद तक वॉलेंटियर्स के ब्लड सैम्पल और इम्युनोजेनिसिटी टेस्ट किए जाएंगे। इंफेक्शन की जांच के लिए हर हफ्ते सैम्पल लिए जा रहे हैं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Coronavirus Vaccination India Update | Coronavirus Covid-19 Vaccination Drive Begin From January 16 In India

देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम 16 जनवरी से शुरू होने जा रहा है। सरकार ने शनिवार को इसका ऐलान कर दिया। शुरुआत में यह वैक्सीन हेल्थ वर्कर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जाएगी, जिनकी संख्या 3 करोड़ है। दूसरे फेज में 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों और तीसरे फेज में गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 50 साल से कम उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। दूसरे और तीसरे फेज में करीब 27 करोड़ लोगों का वैक्सीनेशन होगा। मोदी ने तैयारियां जानने के लिए मीटिंग की देश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को हाई लेवल मीटिंग की। उन्होंने वैक्सीनेशन के लिए राज्यों की तैयारियों का जायजा भी लिया। बैठक में कैबिनेट सेक्रेटरी, प्रिंसिपल सेक्रेटरी, हेल्थ सेक्रेटरी और दूसरे सीनियर अफसर भी शामिल हुए। देश में 2 वैक्सीन को मंजूरी मिली है देश में इमरजेंसी यूज के लिए दो वैक्सीन को मंजूरी मिल चुकी है। इसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की कोवीशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सिन शामिल है। दोनों वैक्सीन को देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचाने के लिए सरकार ने ट्रांसपोर्टेशन की गाइडलाइन जारी कर दी हैं। कोवीशील्ड की क्या है खासियत? कोवीशील्ड के क्लिनिकल ट्रायल्स के एनालिसिस से बहुत अच्छे नतीजे सामने आए हैं। वॉलेंटियर्स को पहले हाफ डोज दिया और फिर फुल डोज। किसी को भी हेल्थ से जुड़ी कोई गंभीर समस्या नहीं हुई।जब हाफ डोज दिया गया तो इफिकेसी 90% रही। एक महीने बाद उसे फुल डोज दिया गया। जब दोनों फुल डोज दिए गए तो इफिकेसी 62% रही।दोनों ही तरह के डोज में औसत इफिकेसी 70% रही। सभी नतीजे आंकड़ों के लिहाज से खास हैं। इफिकेसी जानने के लिए वैक्सीन लगाने के एक साल बाद तक वॉलेंटियर्स के ब्लड सैम्पल और इम्युनोजेनिसिटी टेस्ट किए जाएंगे। इंफेक्शन की जांच के लिए हर हफ्ते सैम्पल लिए जा रहे हैं। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें

Coronavirus Vaccination India Update | Coronavirus Covid-19 Vaccination Drive Begin From January 16 In IndiaRead More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *